Move to Jagran APP

Budget 2024: जब वित्त मंत्री के मना करने पर पीएम को पेश करना पड़ा बजट! जानिए आम बजट से जुड़ी 5 दिलचस्प बातें

Budget 2024 पेश करने के बाद Nirmala Sitharaman सबसे ज्यादा बजट पेश करने का रिकॉर्ड अपने नाम कर लेंगी। वैसे तो भारत में बजट पेश करना पारंपरिक रूप से वित्त मंत्री की भूमिका है। कई बार ऐसा हुआ कि ये जिम्मा देश के प्रधानमंत्री को उठाना पड़ा है। डॉ. मनमोहन सिंह का 1991 का बजट भाषण 18650 शब्दों का था।

By Ram Mohan Mishra Edited By: Ram Mohan Mishra Thu, 11 Jul 2024 03:00 PM (IST)
आइए, यूनियन बजट से जुड़े 5 रोचक तथ्यों के बारे में जान लेते हैं।

बिजनेस डेस्क, नई दिल्ली। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण 23 जुलाई 2024 को मोदी सरकार के तीसरे कार्यकाल का पहला बजट पेश करेंगी। आम से लेकर खास तक, सबके मन में बजट को लेकर कई सारे सवाल होते हैं। हम आपको बजट के बारे में 5 ऐसे दिलचस्प तथ्य बताने जा रहे हैं, जो शायद आपको नहीं पता होंगे।

प्रधानमंत्री को पेश करना पड़ा बजट

वैसे तो भारत में बजट पेश करना पारंपरिक रूप से वित्त मंत्री की भूमिका है। कई बार ऐसा हुआ कि ये जिम्मा देश के प्रधानमंत्री को उठाना पड़ा। जवाहरलाल नेहरू 1958 में केंद्रीय बजट पेश करने वाले पहले प्रधानमंत्री बने थे। तत्कालीन वित्त मंत्री टीटी कृष्णमाचारी ने विवाद के बीच इस्तीफा दे दिया था, जिसके बाद नेहरू को आगे आकर बजट भाषण देना पड़ा।

इसके बाद 1970 में वित्त मंत्री मोरारजी देसाई के इस्तीफे के बाद प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने बजट पेश करने की जिम्मेदारी संभाली थी। इसी तरह, वित्तीय वर्ष 1987-88 में प्रधानमंत्री राजीव गांधी ने बजट पेश किया। उस समय वित्त मंत्री वीपी सिंह ने इस्तीफा दे दिया था।

यह भी पढे़ं- Budget 2024: बजट से एक दिन पहले जारी होगा इकोनॉमिक सर्वे, जानें आम जनता के लिए भी क्यों है यह जरूरी

सबसे बड़ा और छोटा भाषण

डॉ. मनमोहन सिंह का 1991 का बजट भाषण 18,650 शब्दों का था। इसमें विक्टर ह्यूगो का हवाला दिया गया था। उनाक ये भाषण आर्थिक मामलों को संबोधित करने में अपनी गहराई और विस्तार के लिए अभी तक जाना जाता है।

एचएम पटेल ने 1977 में अंतरिम बजट की प्रस्तुति के दौरान सबसे छोटा बजट भाषण दिया था, जिसमें केवल 800 शब्द थे। इसने बजट भाषणों में संक्षिप्तता का रिकॉर्ड बनाया है।

रेल बजट और आम बजट का मर्जर

रेल बजट और आम बजट को अलग-अलग पेश किया जाता था। 2017 में रेल बजट को केंद्रीय बजट में मिला दिया गया। तत्कालीन वित्त मंत्री अरुण जेटली ने ये किया था और फरवरी के अंत में पेश होने वाले बजट की डेट को 1 फरवरी किया गया था।

सूटकेस से टैब तक की जर्नी 

केंद्रीय बजट पेश करने के दिन वित्त मंत्री द्वारा एक ब्रीफकेस उठाया जाता है। पहले देश के वित्त मंत्री बड़ा से सूटकेस में आम बजट लेकर आते थे। 2019 में अंतरिम बजट पेश करने वाले पीयूष गोयल सूटकेस लेकर चलने वाले आखिरी वित्त मंत्री थे।

इसके बाद निर्मला सीतारमण ने अपने पहले बजट भाषण में बही-खाता का कॉन्सेप्ट पेश किया। भारत ने धीरे-धीरे डिजिटल बजट की ओर कदम बढ़ाया है और अभी बस एक टैब की जरूरत होती है। 

निर्मला सीतारमण बनाएंगी रिकॉर्ड 

केंद्रीय वित्त मंत्री और भाजपा नेता निर्मला सीतारमण 23 जुलाई को संसद में केंद्रीय बजट 2024-25 पेश करके इतिहास रचेंगी। ऐसा करने के बाद वह लगातार सात केंद्रीय बजट पेश करने वाली भारत की पहली वित्त मंत्री बन जाएंगी। इससे पहले मोरारजी देसाई ने लगातार 6 केंद्रीय बजट पेश किए हैं। उन्होंने पांच पूर्ण बजट और एक अंतरिम बजट पेश किया था। 

यह भी पढ़ें- Union Budget 2024: इस बार भारत में दो बजट क्यों हो रहे हैं पेश, क्या है इसके पीछे की वजह