Move to Jagran APP

BPCL लगाएगी नई रिफाइनरी, वहीं GAIL कर रही नई इथेनॉल क्रैकर यूनिट की तैयारी

भारत पेट्रोलियम (BPCL) देश में एक नया रिफाइनरी लगाने की योजना पर काम कर रही है वहीं गेल लिमिटेड इथेनॉल क्रैकर यूनिट लगाने जा रही है। ये दोनों ग्रीन फील्ड प्रोजेक्ट होंगे यानी इनके लिए जमीन अधिग्रहण से लेकर निर्माण तक का काम होगा। पुरी ने बताया कि उनके नये कार्यकाल में घरेलू तेल व गैस का उत्पादन बढ़ाना भी एक बड़ी प्राथमिकता है।

By Jagran News Edited By: Ram Mohan Mishra Published: Tue, 11 Jun 2024 09:00 PM (IST)Updated: Tue, 11 Jun 2024 09:00 PM (IST)
BPCL और GAIL की ओर से ग्रीन फील्ड प्रोजेक्ट शुरू किए जाएंगे।

जागरण ब्यूरो, नई दिल्ली। पेट्रोलियम व प्राकृतिक गैस मंत्री के तौर पर अपने दूसरे कार्यकाल की शुरुआत करते हुए हरदीप पुरी ने बताया कि सरकारी कंपनी भारत पेट्रोलियम (BPCL) देश में एक नया रिफाइनरी लगाने की योजना पर काम कर रही है। इसके अलावा एक अन्य सरकारी कंपनी गेल लिमिटेड इथेनॉल क्रैकर यूनिट लगाने जा रही है।

दोनो ही ग्रीन फील्ड प्रोजेक्ट होंगे

ये दोनों ग्रीन फील्ड प्रोजेक्ट होंगे यानी इनके लिए जमीन अधिग्रहण से लेकर निर्माण तक का काम होगा। यह भारत सरकार की नई नीति के तहत स्थापित होंगे। पूरी दुनिया में पेट्रोलियम सेक्टर में नई रिफाइनरियां लगनी तकरीबन बंद हो चुकी हैं, इसके बावजूद भारत सरकार देश में नई रिफाइनरी लगाने की योजना पर काम कर रही है। इसके पीछे कारण यह बताया जा रहा है कि दुनिया में अगले 30-40 वर्षों तक पेट्रोलियम उत्पादों की मांग तेज बनी रहेगी और सिर्फ भारत ही इनकी आपूर्ति करने में सक्षम होगा।

यह भी पढ़ें- Gold Silver Price Today: सोने में आई चमक, वहीं सस्ती हुई चांदी; यहां जानिए लेटेस्ट प्राइस

बढ़ेगा घरेलू तेल व गैस का उत्पादन 

पुरी ने बताया कि उनके नये कार्यकाल में घरेलू तेल व गैस का उत्पादन बढ़ाना भी एक बड़ी प्राथमिकता है। सरकार पहले से ही आयातित तेल पर निर्भरता कम करने में जुटी है लेकिन इसमें खास सफलता नहीं मिली है। लेकिन इस साल से केजी बेसिन में स्थित सरकारी कंपनी ओएनजीसी के एक तेल व गैस फील्ड में उत्पादन शुरू होने से हालात में बदलाव आने की संभावना है।

पुरी ने कहा-

देश की जनता को कम कीमत पर, पर्याप्त मात्रा में लगातार पेट्रोलियम उत्पादों की उपलब्धता कराने पर हमारी सरकार का पुरा जोर होगा। इस वजह से से तेल खरीदने का विकल्प भी हमेशा खुला रहेगा रूस भारत का पुराना साझेदार है और तेल खरीद को लेकर दोनो देशों के बीच लंबी अवधि का करार है।

भाजपा के सांसद सुरेश गोपी ने भी मंगलवार को पेट्रोलियम व प्राकृतिक गैस राज्य मंत्री के तौर पर अपना कार्यभार संभाला है।

यह भी पढ़ें- जेपी ग्रुप की दिवालिया कंपनी ने दिया एकमुश्त निपटान का प्रस्ताव, क्या राजी होंगे बैंक?

 


This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.