नई दिल्ली, रॉयटर। बिटक्वाइन में भारी गिरावट देखने को मिल रही है। बिटक्वाइन 1.5 फीसद की गिरावट के साथ लगभग 49,000 डॉलर के आसपास कारोबार करता नजर आया। इस सप्ताह में दुनिया की सबसे बड़ी डिजिटल करेंसी को अपने मूल्य के पांचवें हिस्से के बराबर का नुकसान सहना पड़ा है। नुकसान से पहले बिटक्वाइन में काफी शानदार मूल्य वृद्धि देखने को मिल रही थी। जिस वजह से 10 नवंबर को यह अपने सर्वकालिक उच्च स्तर 69,000 डॉलर पर पहुंच गया था। मौजूदा समय में बिटक्वाइन की वायदा कीमत इसकी अक्टूबर की वायदा कीमत के बराबर ही है।

स्टैकफंड के चीफ ऑपरेटिंग ऑफिसर मैट डिब ने इस बारे में कहा कि हम यह उम्मीद कर सकते हैं कि आने वाली तिमाहियों का समय भी बिटक्वाइन के लिए मुश्किलों से भरा होने वाला है। बिटक्वाइन में वह फायदा नहीं दिखाई दे रहा है, जो आम तौर पर नजर आता था। इस गिरावट के दिनों के दौरान लिवरेज मार्केट पूरी तरह से रिसेट हो गया है। इसके साथ ही इसका ओपन इंटरेस्ट भी पूरी तरह से रिसेट हो गया है।

क्रिप्टो डाटा प्लेटफॉर्म क्वाइन ग्लास ने इस बारे में दिलचस्पी दिखाते हुए यह बयान दिया है कि पिछले कारोबार के आखिरी दिन बाजार सहभागियों द्वारा कुल वायदा अनुबंध 16.5 अरब डॉलर के बराबर था, जो कि गुरुवार के व्यापारिक दिन खत्म होने के बाद 23.5 अरब डॉलर का था। वहीं, 1 नवंबर को यह 27 बिलियन डॉलर के स्तर पर था। व्यापारियों के मुताबिक, जोखिम भरी संपत्ति में निवेश ना करने और कोरोना वायरस के नए संस्करण ओमिक्रॉन के कारण फिलहाल कम ट्रेडिंग हो रही है।

क्वाइन गलास के मुताबिक, जब कीमतों में गिरावट जारी थी तब निवेशकों ने बिटक्वाइन खरीदा था।

शनिवार को बिटक्वाइन की सबसे बड़ी प्रतिद्वंदी क्रिप्टोकरेंसी ईथर में भी गिरावट देखने को मिली थी। ईथर शनिवार को गिरकर 4,112 डॉलर के स्तर पर कारोबार कर रहा था। इससे पहले 10 नवंबर को यह 4,868 डॉलर के स्तप पर बंद हुआ था। पिछली बार एक ईथर की कीमत 0.086 बिटक्वाइन के बराबर थी, जो कि मई 2018 के बाद से इसके सबसे ज्यादा स्तर है।

Edited By: Abhishek Poddar