नई दिल्ली। एजेंसी। भारतीय विमानतल प्राधिकरण (एएआई) ने देश के आठ ब़़डे एयरपोर्टो के पास की 759 एक़़ड जमीन बेचने की योजना बनाई है। इन जमीनों पर निजी क्षेत्र के कारोबारी होटल, वेयर हाउस व रेस्त्रां आदि का निर्माण कर सकेंगे। जमीन बेचने से मिलने वाले पैसों का इस्तेमाल एयरपोर्ट के बुनियादी ढांचे के विकास में किया जाएगा।

एएआई के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि शहर के आसपास विकास के लिए विमानतलों के आसपास की जमीनें बेचने का फैसला किया गया है। ये सारी जमीनें संबंधित विमानतलों के आसपास है। इसे बेचने से प्राधिकरण का गैर ट्रैफिक रेवेन्यू ब़़ढेगा। जमीन बेचने से मिला पैसा हवाई सुविधाओं से वंचित शहरों व कम सुविधाओं वाले शहरों में विमानतलों की सुविधाओं के विकास पर खर्च किया जाएगा।

129 एयरपोर्ट का संचालन करता है प्राधिकरण

नागरिक विमानन मंत्रालय के अधीन कार्यरत एएआई देशभर के 129 एयरपोर्ट का संचालन करता है। इनमें से 94 एयरपोर्ट 2017--18 में घाटे में चल रहे हैं। उक्त जमीनें किसी कंपनी या संगठन को 25 से 30 साल के लिए लीज पर दी जाएगी। इनसे सालाना किराया लिया जाएगा।

छह एयरपोर्ट अडाणी समूह को सौंपे

पिछले साल सरकार ने लखनऊ, अहमदाबाद, जयपुर, मेंगलुर, तिरवनंतपुरम व गुवाहाटी एयरपोर्ट के निजीकरण का फैसला किया था। इन छहों एयरपोर्टो को पीपीपी मॉडल (निजी--जन भागीदारी) से विकास, संचालन व प्रबंधन के लिए इसी साल फरवरी में अडाणी समूह को सौंपने का अनुबंध किया गया है।

 

Posted By: Nitesh

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप