नई दिल्‍ली, बिजनेस डेस्‍क। भारत में फाइनेंसरों की रिटेल लोन बुक दोगुनी हो जाएगी। CRISIL पावर्ड ICICI Bank की एक रिपोर्ट के अनुसार, रिटेल लोन मार्च 2019 के 48 ट्रिलियन रुपये की तुलना में मार्च 2024 तक 96 ट्रिलियन रुपये तक पहुंच जाएगा। रिपोर्ट में अनुमान लगाया गया है कि यह तीव्र वृद्धि अगले पांच वर्षों में निजी उपभोग (यानी घर, कार, उपभोक्ता टिकाऊ वस्तुएं, क्रेडिट कार्ड आदि) की बढ़ती मांग, ऋण लेने के लिए उपभोक्ताओं की इच्छा, विभिन्न कंज्यूमर डेटा की उपलब्धता में वृद्धि, डेटा एनालिटिक्स का बेहतर उपयोग और विनियामक पहल के चलते कम लागत वाले होम लोन और एमएसएमई (माइक्रो, स्मॉल एंड मीडियम एंटरप्राइजेज) लोन में वृद्धि आदि के चलते आएगी। 

’माइनिंग द गोल्डेन अपॉर्च्‍युनिटी इन रिटेल लोन्‍स’ नाम की यह रिपोर्ट प्रत्येक रिटेल एसेट्स क्लास के विकास चालकों पर गहराई से नजर डालते हुए प्रमुख आर्थिक, विनियामक और तकनीकी हस्तक्षेपों की रूपरेखा भी तैयार करती है जो रिटेल लोन मार्केट को विस्तार दे सकते हैं। 

इस रिपोर्ट की खास बातें:

  • मॉर्गज लोन मार्केट - सामान्य और कम लागत वाले आवास और संपत्ति के खिलाफ ऋण वित्त वर्ष 24 में 46.1 ट्रिलियन रुपये के साथ दोगुना होने की उम्मीद है। 
  • असुरक्षित ऋण - व्यक्तिगत ऋण और क्रेडिट कार्ड - वित्त वर्ष 24 में 13.8 ट्रिलियन रुपये के साथ दोगुने से अधिक हो सकते हैं।
  • एमएसएमई को ऋण 13.2 ट्रिलियन के साथ दोगुने से अधिक होने की संभावना है। 
  • वाहन - वाणिज्यिक वाहन, चौपहिया और दोपहिया वाहन ऋण 17.5 ट्रिलियन रुपये के साथ लगभग दोगुने से अधिक हो सकता है।

आईसीआईसीआई बैंक के कार्यकारी निदेशक अनूप बागची ने कहा, ’पर्चेजिंग पावर पैरिटी (पीपीपी) के मामले में भारत की प्रति व्यक्ति जीडीपी अब 7762 अमेरिकी डॉलर है। हमारा विश्लेषण भविष्यवाणी करता है कि यह जंक्शन देश के लिए एक विभक्ति बिंदु साबित होगा, क्योंकि यह कुछ साल पहले एक और बड़ी अर्थव्यवस्था के बराबर था। हम उम्मीद करते हैं कि अगले पांच वर्षों में, घरेलू खुदरा ऋण बाजार दोगुने 96 ट्रिलियन रुपये तक पहुंच जाएगा।’

उन्‍होंने कहा 'हमें लगता है कि बाजार के विस्तार के समर्थन में जाने वाले पांच स्तंभ हैं- (1) अधिक जानकारी की उपलब्धता से ऋण लेने के जोखिम का घटना, (2) उत्तरोत्तर प्रतिस्पर्धा के चलते ग्राहक के लिए उधार की लागत में कमी आना, (3) विनियामक और सरकार की पहल (जैसे सार्वजनिक ऋण रजिस्ट्री, बैंकों और गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनियों द्वारा ऋण की सह-उत्पत्ति, किफायती आवास को बढ़ावा देने और एमएसएमई को उधार देने के लिए किए गए सुधार) और (4) डिजिटल उधार में 15 ट्रिलियन रुपये की पांच गुना वृद्धि, जिसमें ऋणों को डिजिटल रूप से स्वीकृत किया जाता है और लागत में कमी आती है। प्रौद्योगिकी और डेटा विश्लेषण के अधिक उपयोग के कारण परिचालन लागत में कमी आई है, जिससे लाभप्रदता को बढ़ावा मिलेगा।’

CRISIL के चीफ ऑपरेटिंग ऑफिसर और प्रेसिडेंट श्री अमिश मेहता कहते हैं, 'शीर्ष 50 शहरों के बाहर छोटे शहरों में विकास अधिक होने की उम्मीद है। हम रिटेल लोन में आगे रहने के लिए मजबूत फंडिंग फ्रेंचाइजी, डिस्ट्रीब्यूशन हेफ्ट, बेहतर अंडरराइटिंग स्किल्स, टेक्नोलॉजी पर मजबूत फोकस और सिक्योर्ड और अनसिक्योर्ड लोन के संतुलित मिश्रण की उम्मीद करते हैं। सभी एसेट्स क्लास में शीर्ष पांच कंपनियों के बाजार में अपने प्रभुत्व को जारी रखने की उम्मीद है। उदाहरण के लिए, हाउसिंग लोन में, बाजार में 100 से अधिक खिलाड़ी होने के बावजूद, अकेले शीर्ष पांच कंपनियों की बाजार हिस्सेदारी 50 फीसदी से अधिक है।’

Posted By: Manish Mishra

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस