नई दिल्ली, बिजनेस डेस्क। होम लोन एक लंबी अवधि का लोन होता है। इसलिए इस पर दिया जाने वाला ब्याज भी बहुत ज्यादा होता है। अगर आप इस लोन में अपने बकाया का भुगतान नहीं कर पाते हैं, तो कर्जदाता उसकी वसूली के लिए अलग-अलग तरीके अपनाता है। जब तक आप लोन का पूरा पैसा जमा नहीं करा देते, तब तक कर्जदाता आपकी प्रॉपर्टी का मालिक होता है। कुछ तरीके हैं, जिनसे होम लोन पर ब्याज के बोझ को कम किया जा सकता है। आइए जानते हैं कि वे क्या हैं।

होम लोन ओवरड्राफ्ट सुविधा को चुनें

होम लोन पर ब्याज दर को कम करने के लिए ग्राहक अपने होम लोन अकाउंट के साथ होम लोन ओवरड्राफ्ट सुविधा को चुन सकते हैं। इस सुविधा में आप अपनी ईएमआई (EMI) के अलावा भी अपने होम लोन अकाउंट में अतिरिक्त राशि जमा करवा सकते हैं। अकाउंट में अतिरिक्त राशि डालने से आपकी ब्याज राशि और लोन की अवधि घट जाएगी। इसके अलावा आप जरूरत पड़ने पर अपने अकाउंट से इस अतिरिक्त राशि को निकाल भी सकते हैं। हालांकि, होम लोन अकाउंट से पैसा निकालने पर आपकी लोन पर ब्याज राशि बढ़ जाएगी।

होम लोन का पूर्व भुगतान करें

अगर आपके पास पर्याप्त पैसा है, तो आपको इस विकल्प को जरूर चुनना चाहिए। इसमें आप अपने होम लोन के लिए पूर्व भुगतान कर सकते हैं। इससे आपके लोन की अवधि घट जाएगी जिससे कुल ब्याज राशि भी कम होगी। वेतनभोगी कर्मचारी चाहें, तो इसके लिए अपने सालाना बोनस की राशि का भी उपयोग कर सकते हैं।

होम लोन के ऑफर्स चेक करते रहें

ग्राहक होम लोन के ऑफर्स ऑनलाइन चेक कर सकते हैं। आपको मार्केट में यह चेक कर लेना चाहिए कि कौन सा कर्जदाता कम ब्याज दर पर लोन दे रहा है। अगर आपको लगे कि दूसरे कर्जदाता की ब्याज रेट कम है, तो आप अपना होम लोन स्विच कर सकते हैं।

Posted By: Pawan Jayaswal

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस