Move to Jagran APP

Bihar: यूट्यूबर मनीष कश्यप ने किया सरेंडर, कुर्की में घर का सारा सामान जब्त; खिड़की-दरवाजे उखाड़ ले गई पुलिस

YouTuber Manish Kashyap तमिलनाडु हिंसा को लेकर भ्रामक पोस्ट शेयर करने वाले यूट्यूबर मनीष कश्यप ने ईओयू के दबाव में सरेंडर कर दिया। ईओयू ने मनीष कश्यप के बैंक खाते सीज कर दिए। अब पुलिस उसके घर कुर्की-जब्ती करने पहुंच गई थी।

By Jagran NewsEdited By: Roma RaginiPublished: Sat, 18 Mar 2023 09:29 AM (IST)Updated: Sat, 18 Mar 2023 11:02 AM (IST)
Bihar: यूट्यूबर मनीष कश्यप ने किया सरेंडर, कुर्की में घर का सारा सामान जब्त; खिड़की-दरवाजे उखाड़ ले गई पुलिस
यूट्यूबर मनीष कश्यप के घर कुर्की-जब्ती करने पहुंची पुलिस टीम

बेतिया,जागरण संवादाता। तमिलनाडु में बिहारी श्रमिकों पर हमले का झूठा और भ्रामक वीडियो प्रसारित करने के आरोपी मनीष कश्यप ने शनिवार को सरेंडर कर दिया। पुलिस टीम शनिवार सुबह यूट्यूबर मनीष कश्यप के घर कुर्की करने पहुंची, इसके बाद आरोपी ने सरेंडर किया।

loksabha election banner

पुलिस के दर्जन भर पदाधिकारी शनिवार सुबह करीब पांच बजे मनीष कश्यप के मझौलिया थाना क्षेत्र के महानवा गांव में पहुंचे और कुर्की की कार्रवाई शुरू कर दी। चंपारण रेंज के डीआईजी जयंत कांत, एसपी उपेंद्र नाथ वर्मा की मौजूदगी में पुलिस ने मनीष कश्यप के घर के एक-एक सामान को जब्त कर लिया।

पुलिस ने घर के दरवाजे और खिड़कियां भी उखाड़ ली। इस दौरान लोगों की भारी भीड़ लगी रही। ट्रैक्टर पर लोड कर सामान को मझौलिया थाना में लाया गया है। इधर, कुर्की की जानकारी होने पर मनीष कश्यप ने जगदीशपुर ओपी में सरेंडर कर दिया है।

डीआईजी और एसपी के जगदीशपुर ओपी में पहुंचने वाले है। मनीष कश्यप के घर की कुर्की किस मामले में की गई है, अभी इसकी जानकारी नहीं हो सकी है।

(जगदीशपुर थाने के बाहर लगी भीड़)

तमिलनाडु में बिहारी मजदूरों पर हमला के फेक वीडियो वायरल करने के मामले में पटना में उसके खिलाफ मामला दर्ज है। जबकि बेतिया में भी उसके खिलाफ पहले से मामले दर्ज हैं।

इसके अलावा, मनीष के खिलाफ ट्विटर पर खुद की गिरफ्तारी का झूठा पोस्ट डालने का भी आरोप है। इसको लेकर भी उसपर प्राथमिकी दर्ज की गई।

पुलिस ने मनीष कश्यप के घर कुर्की-जब्ती करने के लिए कोर्ट में अर्जी दी थी। मंजूरी मिलने के बाद शनिवार को पुलिस उसके घर कुर्की की कार्रवाई करने पहुंची है।

बता दें कि बिहारी श्रमिकों के साथ कथित हिंसा की पुलिस जांच कर रही थी। पुलिस को गुमराह करने के लिए पटना के जक्कनपुर थाना अंतर्गत बंगाली कालोनी के किराए के मकान में फर्जी वीडियो शूट किया गया था।

इस वीडियो में अनिल कुमार और आदित्य कुमार मरहम-पट्टी लगाकर नकली मजदूर बने थे। वीडियो को राकेश रंजन ने छह मार्च को यूट्यूब चैनल पर अपलोड किया था, जिसे आठ मार्च को यूट्यूबर मनीष कश्यप ने ट्वीट कर प्रसारित कर दिया था।

इस मामले में दो को पहले ही गिरफ्तार किया जा चुका है। वहीं, ईओयू ने कार्रवाई करते हुए मनीष कश्यप और उसके यूट्यूब चैनल के बैंक खातों को फ्रीज कर दिया था। अलग-अलग चार बैंक खातों में कुल 42 लाख 11 हजार 937 रुपये जमा मिले।


Jagran.com अब whatsapp चैनल पर भी उपलब्ध है। आज ही फॉलो करें और पाएं महत्वपूर्ण खबरेंWhatsApp चैनल से जुड़ें
This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.