Move to Jagran APP

Paschim Champaran Lok Sabha election Result 2024: कौन होगा पश्चिमी चंपारण का नया सांसद? हो गया फाइनल!

2009 के बाद भाजपा के गढ़ के रूप में सामने आई पश्चिम चंपारण लोकसभा सीट (Paschim Champaran Lok Sabha election Result 2024 ) पर एक बार फिर संजय जायसवाल जीतते (Paschim Champaran Lok sabha 2024 Winner) नजर आ रहे हैं। उन्होंने एक बजे तक हुई काउंटिंग में करीब 60 हजार वोटों की बढ़त बना चुके हैं। वह कांग्रेस कैंडिडेट मदन मोहन से 61468 वोटों से आगे चल रहे हैं।

By Jagran News Edited By: Mohit Tripathi Tue, 04 Jun 2024 01:30 PM (IST)
पश्चिम चंपारण से भाजपा प्रत्याशी संजय जायसवाल आगे।

डिजिटल डेस्क, पश्चिम चंपारण।Paschim Champaran Lok Sabha election Result 2024 । भाजपा का गढ़ मानी जाने वाली पश्चिम चंपारण सीट पर एक बजे तक हुई काउंटिंग में तस्वीर लगभग साफ हो गई है। भाजपा के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष डॉ. संजय जायसवाल बड़े अंतर से आगे (Paschim Champaran Lok sabha 2024 Winner) चल रहे हैं।

एक बजे तक की काउंटिंग में संजय जायसवाल को 252626 वोट मिल चुके हैं। वह कांग्रेस प्रत्याशी मदन मोहन तिवारी से 61468 वोटों से आगे चल रहे हैं।

कांग्रेस प्रत्याशी को अबतक की काउंटिंग में 191158 वोट ही मिले हैं। वह संजय जायसवाल से 61468 वोटों से पीछे (Paschim Champaran chunav result 2024) चल रहे। वहीं वीरों के वीर पार्टी के संजय कुमार को 5244 वोट मिले हैं।

2009 से चुनाव जीत रहे संजय जायसवाल

बता दें कि एक जमाने में कांग्रेस का गढ़ रही पश्चिमी चंपारण सीट अब एनडीए का गढ़ बन चुकी है। संजय जायसवाल 2009 से लगातार चुनाव जीतते आ रहे हैं। अबतक हुई गिनती में वह जीत की तरफ बढ़ते दिखाई दे रहे हैं।

पिछले चुनाव में भी भाजपा ने संजय जायसवाल को उम्मीदवार बनाया था। 2019 के चुनाव में संजय जायसवाल ने बृजेश कुशवाहा को करीब तीन लाख वोटों से हराया था।

2008 में अस्तित्व में आई थी प. चंपारण सीट

पश्चिम चंपारण लोकसभा सीट 2008 में परिसीमन के बाद अस्तित्व में आई। इससे पूर्व इस लोकसभा क्षेत्र का नाम बेतिया था | इस सीट पर छह बार भाजपा की जीत का रिकार्ड है।

परिसीमन के बाद डॉ. संजय जायसवाल 2009 में पहली बार भाजपा से संसदीय चुनाव लड़े और जीते भी। तब से लगातार इस क्षेत्र का प्रतिनिधित्व कर रहे हैं।

चौथी बार भाजपा ने उन्हें चुनाव मैदान में उतारा है। वहीं, आइएनडीआइए की ओर से मदन मोहन तिवारी को उम्मीदवार बनाया गया है।

बेहद अहम रही है जातीय गोलबंदी

पश्चिमी चंपारण में जातीय गोलबंदी बेहद अहम मानी जाती है। लोकसभा क्षेत्र में वैश्य, यादव- मुस्लिम और ब्राह्मण के बाद कोइरी और कुर्मी के वोट अधिक हैं। हर बार मतदान से पूर्व इस संसदीय क्षेत्र की हवा बदल जाती है। राजनीतिक दलों के सारे समीकरण ध्वस्त हो जाते हैं। जाति की गोलबंदी जीत-हार का पैमाना बनती है।

कांग्रेस गढ़ कहे जाने वाले इस लोकसभा क्षेत्र अब एनडीए का दबदबा है। 2009 में लोजपा ने फिल्म निर्देशक प्रकाश झा को उतारा और कांग्रेस के उम्मीदवार लालू यादव के साले अनिरुद्ध प्रसाद उर्फ साधु यादव थे। 2014 में जदयू भाजपा से अलग हुई तो फिर जदयू से प्रकाश झा मैदान में उतरे और निकटतम प्रतिद्वंद्वी रहे। 2019 के चुनाव में सीट रालोसपा के खाते में गई और बृजेश कुशवाहा उम्मीदवार थे।

प. चंपारण लोकसभा में आते हैं 6 विधानसभा क्षेत्र

पश्चिमी चंपारण लोकसभा सीट के तहत छह विधानसभा क्षेत्र आते हैं। तीन विधानसभा पश्चिम चंपारण के नौतन, बेतिया एवं चनपटिया और तीन पूर्वी चंपारण के सुगौली, रक्सौल एवं नरकटिया हैं।

चार पर भाजपा व दो पर राजद के विधायक हैं। बेतिया से भाजपा की रेणु देवी विधायक हैं, जो वर्तमान में बिहार सरकार में कैबिनेट मंत्री भी हैं। नौतन से भाजपा के नारायण प्रसाद विधायक हैं।

Bihar Lok Sabha Election Result 2024 Live : यहां पढ़ें बिहार लोकसभा इलेक्शन के ताजा अपडेट

Lok Sabha Election Result 2024 LIVE: लोकसभा इलेक्शन के ताजा अपडेट के लिए क्लिक करें