जागरण संवाददाता, पटना : थाली में सब्जियों की मात्रा बढ़ा सकते हैं। एक की जगह दो सब्जी भी खा सकते हैं। इस समय सब्जी मंडी में बहार है। अधिकांश सब्जियां दस रुपये किलो बिक रही हैं। फूल गोभी की लोकल आमद हो रही है। इसका भी स्वाद ले सकते हैं। सबसे महंगा बिकने वाला परवल भी 30 रुपये किलो मिल रहा है।

क्यों गिरा है भाव 

सब्जी विक्रेताओं का कहना है कि इस साल पुरवइया हवा लगातार चलती रही। इससे पैदावार में वृद्धि हुई है। मानसून पूर्व बारिश भी कम हुई है जिससे सब्जियों की फसल गलन से बच गई है। इस वजह से पैदावार ड्योढ़ा निकल रही है। फूल गोभी की आमद गर्मी में कम रहती है लेकिन इस साल ताजपुर से लोकल फूल गोभी की आमद हो रही है। फसल भी अच्छी है।

  • - पुरवइया की वजह से आमद ड्योढ़ा पर पहुंची
  • - अधिकांश सब्जियां मिल रहीं दस रुपये किलो 

30 रुपये किलो से ऊपर कोई भी सब्जी नहीं 

गोभी का फूल गठिला और चमकदार है। कीड़े का प्रकोप भी नहीं है। इसका स्वाद भी लोग खूब ले रहे हैं क्योंकि कीमत भी 15 से 20 रुपये पीस है। हालत यह कि 30 रुपये किलो से ऊपर कोई भी सब्जी नहीं है। मीठापुर सब्जी मंडी के थोक व्यवसायी संजय कुमार ने कहा कि हरी सब्जियों से आलू प्याज ही महंगा है। मीठापुर मंडी में 35 से 40 छोटी गाड़ी सब्जियां प्रतिदिन ताजपुर, समस्तीपुर, खुशरूपुर आदि जगहों से पहुंच रही हैं। टमाटर, धनिया पत्ता में हालांकि तेजी बनी हुई है।

          सब्जी और भाव

  • - नेनुआ- 10 रुपये किलो
  • - भिंडी-10 रुपये किलो
  • - कद्दू- 10 रुपये पीस
  • - करेला- 15 रुपये किलो
  • - बोरो- 20 रुपये किलो
  • - परवल-30 रुपये किलो
  • - कटहल- 30 रुपये किलो
  • - खीरा- 20 रुपये किलो
  • - आलू- 25 रुपये किलो
  • - प्याज-20 रुपये किलो
  • - धनिया पत्ता-200 रु किलो
  • - टमाटर- 60 रुपये किलो
  • - मिर्च- 80 रुपये किलो

Edited By: Akshay Pandey