पटना [जागरण टीम]। नागरिकता संशोधन अधिनियम (CAA) व राष्‍ट्रीय नागरिक रजिस्‍टर (NRC) के विरोध में आयोजित राष्‍ट्रीय जनता दल (RJD) के बिहार बंद (Bihar Bandh) के दौरान शनिवार को राज्‍य में कई जगह भारी हिंसा (Violence) हुई। सबसे बड़ी घटना पटना में हुई, जहां दो गुटों के बीच भिड़त के दौरान जमकर पथराव हुआ। इस दौरान हुई फायरिंग में 11 लोगों को गोली लगने की बात सामने आई, जबकि एक को छुरा भी मारा गया। घटना के दौरान पथराव में आधा दर्जन पुलिसकर्मियों सहित दो दर्जन लोग घायल हो गए। जदयू ने घटना की निंदा की है। जदयू प्रवक्‍ता संजय सिंह ने कहा कि राजद के बिहार बंद ने जंगलराज की याद दिला दी। उधर, पुलिस ने बिहार में 1375 बंद समर्थकों को गिरफ्तार किया। छह मुकदमे दर्ज किए गए हैं। 

पटना में आंदोलनकारियों की गुंडई के शिकार मीडियाकर्मी भी हुए। इस दौरान दैनिक जागरण के छायाकार दिनेश कुमार भी घायल हो गए। उधर, औरंगााबद में पथराव में एसडीपीओ सहित आधा दर्जन पुलिसकर्मी घायल हो गए। पथराव के दौरान कथित तौर पर पुलिस पर बमबारी भी की गई। मुजफ्फरपुर, भागलपुर व नवादा सहित कई अन्‍य जगहों पर भी भारी हिंसा की। स्थिति पर नियंत्रण के लिए पुलिस ने जगह-जगह आंसू गैस के गोले छोड़े तथा लाठीचार्ज किया। इससे भी हालात काबू में नहीं आए तो हवाई फायरिंग की।

पटना में दो पक्षों की भिड़ंत, दर्जनों घायल

शनिवार को आरजेडी के बिहार बंद के दौरान पटना के फुलवारीशरीफ में दो पक्षों के बीच फायरिंग व पथराव हुआ। बताया जाता है कि गोलीबारी में 11 लोग घायल हो गए। उनमें आठ अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्‍थान (AIIMS), दो पटना मेडिकल कॉलेज एवं अस्‍पताल (PMCH) तथा एक निजी अस्‍पताल में भर्ती कराया गया है। एक व्‍यक्ति को छुरा भी लगा है। हालांकि, पुलिस ने आधा दर्जन लोगों को गोली लगने की पुष्टि की है।

पथराव में छह पुलिस कर्मियों सहित डेढ़ दर्जन से अधिक लोगों के घायल होने की सूचना हैं। उनका इलाज स्थानीय अस्पतालों में किया जा रहा है। एम्स के इमरजेंसी विभागाध्यक्ष डॉ. अनिल कुमार ने बताया कि वहां भर्ती 10 लोगों में आठ लोगों को गोली लगी है, जबकि दो पथराव में घायल हैं। सभी खतरे से बाहर हैं।

डीएम कुमार रवि ने बताया कि फुलवारीशरीफ में दंड प्रक्रिया संहिता की धारा 144 प्रभावी कर दी गई है। एसएसपी गरिमा मलिक ने बताया कि स्थिति अब नियंत्रण में है। पर्याप्त संख्या में पुलिस बल तैनात कर दिए गए हैं।

धर्मस्‍थल को नुकसान पहुंचाने पर बिगड़े हालात

प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार बंद के समर्थन में निकला जुलूस टमटम पड़ाव के पास धार्मिक स्थल से गुजर रहा था। इसी दरम्यान सीएए के समर्थन में कुछ लोगों ने नारेबाजी की। दोनों पक्ष में पहले नोकझोंक हुई। कुछ लोग धार्मिक स्थल को नुकसान पहुंचाने लगे। इस पर दोनों ओर से पथराव शुरू हो गया। दोनों ओर से दो दर्जन राउंड फायरिंग भी हुई। हालात पर काबू पाने के लिए पुलिस को आंसू गैस के गोले छोडऩे पड़े। प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार, पुलिस ने भी फायरिंग भी की। सिटी एसपी अभिनव राज के नेतृत्व में पुलिस ने उपद्रवियों की गिरफ्तारी को तलाशी अभियान चलाया।  

औरंगाबाद में भीड़ का पुलिस पर पथराव, बम भी फेंके

उधर, बिहार बंद के दौरान औरंगाबाद शहर में भी आंदोलनकारियों ने पुलिस पर पथराव किया। इसमें एसडीपीओ अनूप कुमार सहित एक दारोगा व आधा दर्जन पुलिसकमीॅ घायल हो गए। बताया जाता है कि पथराव के दौरान पुलिस पर बमबारी भी की गई। स्थिति पर नियंत्रण पाने के लिए पुलिस ने हवाई फायरिंग की।

भागलपुर व मुजफ्फरपुर में तोड़फोड़, खदेड़े गए बंद समर्थक

मुजफ्फरपुर में बिहार बंद के दौरान बंद समर्थकों ने जमकर बवाल किया। उन्‍होंने सड़कों पर आगजनी करते हुए जाम कर दिया। बंद समर्थकों ने ब्रह्मपुरा स्थित कई दवा दुकानों में भी जमकर तोड़फोड़ की। इससे स्थानीय दुकानदार आक्रोशित हो गए। उन्‍होंने बंद समर्थकों को खदेड़ दिया। रामदयालु में भी बंद समर्थकों और स्थानीय लोगों के बीच झड़प हुई। वहां पथराव में कई लोग घायल हो गए। भागलपुर में भी बंद समर्थकों व दुकानदारों के बीच झड़प हुई। व्‍यवसायियों ने कहा कि बंद समर्थक जबरन बंद करा रहे थे।

भागलपुर में बंद के दौरान कई जगहों पर वाहनों के शीशे तोड़े गए। आरजेडी के जिला अध्यक्ष तिरुपति नाथ यादव ने भी कई वाहनों में तोड़फोड़ की। कोतवाली पुलिस ने तिरुपतिनाथ यादव और आरजेडी के युवा अध्यक्ष मो. चांद को गिरफ्तार कर लिया। वहीं, राजद के प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह ने बिहार बन्द के दौरान पार्टी नेतृत्व के निर्देश की अवहेलना कर भागलपुर में एक ऑटो का शीशा फोडने की घटना मे शामिल राजद के तीन लोगों को तत्काल प्रभाव से पार्टी से निष्कासित कर दिया है। निष्कासित किये जाने वालों मे भागलपुर जिला राजद का निवर्तमान अध्यक्ष डाॅ. तिरुपतिनाथ  यादव, भागलपुर जिला युवा राजद अध्यक्ष मिराज चाँद और शाहजादा उर्फ विल्ला वोस शामिल हैं। 

और कई जगह भी हुई हिंसा

पटना में फुलवारीशरीफ के अलावा मीठापुर बस स्‍टैंड व डाक बंगला चौराहा आदि कई जगहों पर हिंसा हुई। इस दौरान उपद्रवी तत्‍वों ने मीडिया पर भी हमला किया। ऐसे ही एक हमले में दैनिक जागरण के छायाकार कुमार दिनेश भी घायल हो गए।

उधर, नवादा के रजौली बस स्टैंड के समीप आंदोलनकारियों की पुलिस से झड़प हुई। वहां जमकर पथराव के बाद सिथति पर नियंत्रण पाने के लिए पुलिस ने लाठियां चलाईं। पटना बस स्‍टैंड पर भी बंद समर्थकों ने आगजनी की। उन्‍होंने बस स्‍टैंड के पास गाडि़यों में तोड़फोड़ की तथा पुलिस बैरिकेडिंग को भी डंडों से तोड़ा। कटिहार के मनिहारी के दिलरपुर में दो गुटों में भिड़ंत को नियंत्रित करने के लिए पुलिस ने हवाई फायरिंग की।

Posted By: Amit Alok

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस