पटना [जेएनएन]। मधुबनी पेन्टिंग से सज-धजकर जब बिहार संपर्क क्रांति एक्सप्रेस ट्रेन निकली तो देखने वाले देखते ही रह गए वहीं इसमें यात्रा करने वाले भी खुद को गौरवान्वित महसूस कर रहे थे। अब इस तरह की पहल को संयुक्त राष्ट्र ने खूब सराहा है। यूएन ने ट्वीट कर बिहार संपर्क क्रांति एक्सप्रेस के कोचों पर मिथिला आर्ट की चित्रकारी के लिए भारतीय रेलवे और ट्रेनों में मधुबनी आर्ट बनाने वालों की जमकर तारीफ की है।

बिहार से दिल्ली पहुंची ट्रेन तो देखते रह गए लोग

बता दें कि बिहार संपर्क क्रांति एक्सप्रेस ट्रेन के 9 कोचों पर मधुबनी पेंटिंग की चित्रकारी उकेरी गई है और इन कोचों की सुंदरता देखते ही बनती है। बिहार की संस्कृति को समेटे दरभंगा से चलकर नौ डिब्बों के साथ यह ट्रेन जब शुक्रवार को नई दिल्ली पहुंची तो हर कोई इसकी खूबसूरती निहारने लगा। वहां मौजूद यात्रियों में इसे लेकर खास आकर्षण देखने को मिला।

यूएन ने की है जमकर सराहना

यूएन ने एक ट्वीट में कहा- ये भारतीय रेलगाड़ियां कितनी सुंदर हैं। बिहार की महिलाओं ने इन कोचों को पारंपरिक मिथिला आर्ट से रंगा है जिसे मधुबनी आर्ट के नाम से भी जाना जाता है। इन कलाकारों ने अपनी अंगुलियों, माचिस की तीलियों, ब्रश, नेचुरल डाई और रंगों के साथ इन्हें बनाया है। ये लाजवाब है।

 

पटना राजधानी एक्सप्रेस को भी सजाया जा रहा

भारतीय रेलवे की यह पहल लोगों को काफी पसंद आयी है और अब इसी तर्ज पर पटना राजधानी के 22 कोचों को भी मधुबनी पेंटिंग्स से सजाया जा रहा है। डिब्बों के अंदर और बाहर मधुबनी पेंटिंग्स के जरिए बेहतरीन साज-सज्जा की जा रही है।

मधुबनी स्टेशन को मधुबनी पेंटिंग से सजाया गया था

भारतीय रेलवे द्वारा 'रेल स्वच्छ मिशन' के तहत कभी गंदगी के लिए बदनाम रहे  मधुबनी स्टेशन की दीवारों पर भी इसी तरह की पेंटिंग बनाई गई थी। महज 10 दिनों में विश्व प्रसिद्ध मिथिला पेंटिंग के जरिए मधुबनी स्टेशन के कायाकल्प करने का काम किया था स्थानीय कलाकारों ने। इन कलाकारों की मेहनत रंग लायी और सौदर्यीकरण के लिए मधुबनी स्‍टेशन को पुरस्‍कृत किया गया।

मधुबनी रेलवे स्टेशन पर समृद्ध संस्कृति और एक शानदार इतिहास रखने वाली मिथिला पेंटिंग स्थानीय लोगों के साथ-साथ दुनिया भर के यात्रियों को आकर्षित कर रही है। पूर्व मध्य रेल के लिए यह गौरव की बात है कि मधुबनी स्टेशन को अब एक लोकप्रिय कला शैली के एक आदर्ष प्रतिबिंब के रूप में देखा जा रहा है ।

Posted By: Kajal Kumari