आरा, जागरण संवाददाता। Indian Railway News: पूर्व मध्‍य रेलवे के अंतर्गत दानापुर रेल मंडल के अधिकारियों को रविवार को सिरफ‍िरे शख्‍स ने हैरान कर दिया। इस सिरफिरे के चलते दानापुर स्थित कंट्रोल रूम सहित कई रेलवे स्‍टेशनों के प्रबंधन को परेशान होना पड़ा। देश के सबसे महत्‍वपूर्ण नई दिल्‍ली-हावड़ा मुख्‍य रेल लाइन पर ट्रेनों का परिचालन रोकना पड़ा। रेलवे को अपनी बिजली सप्‍लाई बंद करनी पड़ी। 03204 डाउन डीडीयू-पटना मेमू सवारी गाड़ी एक ही स्‍टेशन पर ढाई घंटे तक रोकनी पड़ी। डाउन लाइन में दूसरी लूप लाइन नहीं होने के कारण इसका असर दूसरी ट्रेनों के परिचालन पर भी पड़ा। मामला पटना जंक्‍शन - पंडित दीनदयाल उपाध्‍याय जंक्‍शन रेलखंड के आरा जंक्शन और कुल्‍हड़‍िया स्‍टेशनों के बीच हुआ।

आरा से ट्रेन खुली तो छत पर सवार हो गया एक शख्‍स

दरअसल, आरा में रविवार को कोई परीक्षा थी। परीक्षा खत्‍म होने के बाद ट्रेन पर भीड़ सामान्‍य दिनों से अधिक थी। इसी बीच पंडित दीन दयाल उपाध्‍याय जंक्‍शन से चलकर पटना जाने वाली 03204 डाउन मेमू सवारी गाड़ी आरा स्‍टेशन पर पहुंची। धक्‍कामुकी के बीच ट्रेन में सीट मिलना तो दूर कई लोगों को कोच में सवार होना तक मुश्किल था। यह ट्रेन जब आरा से खुली तो लोगों ने देखा कि एक शख्‍स बोगी की छत पर चढ़ गया है। आपको बता दें कि यह रेलखंड पूरी तरह विद्युतीकृत है और ट्रेन के ठीक ऊपर से उच्‍च वोल्‍टेज की बिजली हर समय प्रवाहित होते रहती है।

कुल्‍हड़‍िया स्‍टेशन पर काफी मशक्‍कत के बाद उतारा गया नीचे

आरा से खुली ट्रेन की बोगी की छत पर चढ़ा यह सिरफिरा कुल्हड़‍िया स्टेशन पहुंचते-पहुंचते करंट की चपेट में आने से बुरी तरह झुलस गया। इस दौरान ट्रेन लगभग ढाई घंटे तक कुल्हड़‍िया स्टेशन पर रुकी रही। जानकारी के मुताबिक आरा जंक्शन से दोपहर लगभग ढाई बजे जैसे ही 03204 डीडीयू-पटना सवारी गाड़ी अगले स्टेशन के लिए खुली, आगे से पांचवीं बोगी की छत पर एक सिरफिरा चढ़ गया। ट्रेन में परीक्षार्थियों की भारी भीड़ थी। ट्रेन जब 14.44 बजे कुल्हड़‍िया स्टेशन पर पहुंची तो सिरफिरा करंट से बुरी तरह झुलस चुका था। उसे नीचे उतारने की काफी कोशिशों के बावजूद वह बोगी से नीचे उतरने को तैयार नहीं था।

दानापुर कंट्रोल से काटी गई बिजली, आरा से आई टीम

ऐसे में दानापुर स्थित कंट्रोल रूम को सूचना देकर फौरन बिजली का कनेक्शन कटवाया गया। आरा से तकनीकी टीम बुलाई गई। मौके पर मौजूद कुल्हड़‍िया स्टेशन मास्टर रजत सक्सेना स्वयं तकनीकी टीम के साथ बोगी की छत पर चढ़े और किसी तरह समझा-बुझाकर उसे बोगी से नीचे उतारा गया तथा इलाज के लिए उसे दानापुर उधना एक्सप्रेस से सदर अस्पताल आरा भेजा गया। बाद में शाम 17.16 बजे डीडीयू-पटना सवारी गाड़ी को अगले स्टेशन के लिए रवाना किया गया। जख्मी व्यक्ति की अभी पहचान नहीं हो सकी है।