पटना । आर ब्लॉक-दीघा रेलखंड पर स्थित मंदिर अन्य स्थानों पर हस्तांतरित होंगे। महेशनगर के तीन मंदिर शुक्रवार को स्थानांतरित किए जा सकते हैं। मंदिर प्रबंधक तैयार हो गए हैं। अधिकांश प्रबंधकों ने दुर्गा पूजा के बाद मंदिर हटाने पर सहमति दी है। पटना सदर के डीसीएलआर और सीओ ने गुरुवार को मंदिर प्रबंधकों के साथ बैठक की। स्पष्ट कहा कि पटना दीघा-रेलखंड पर सड़क सह मेट्रो ट्रेन चलेगी। सबको हटना ही है। सबलोग मंदिर हटा लें। प्रशासन शांतिपूर्ण तरीके से यह कार्य संपन्न कराना चाहता है।

15 मंदिर प्रबंधक धार्मिक अनुष्ठान के साथ स्थानांतरण पर राजी हो गए हैं। इनके साथ कई चरणों में बैठक हो चुकी है। पटना सदर के अनुमंडलाधिकारी सुहर्ष भगत ने इस कार्य की जिम्मेदारी अपने हाथों में ली है। जिलाधिकारी कुमार रवि ने स्पष्ट निर्देश दिया है कि सुप्रीम कोर्ट के निर्देशानुसार ही मंदिर का हस्तांतरण करें। सभी से आम सहमति बनाएं। इस दिशा में एसडीएम कदम उठा चुके हैं। पुनाईचक दुर्गा मंदिर, महेश नगर विश्वकर्मा मंदिर, साईमंदिर महेशनगर, शिवमंदिर रोड नंबर पांच के सामने, इंद्रपुरी स्थित दुर्गा मंदिर, राजीवनगर दुर्गामंदिर आदि पर सहमति बन गई है।

जिला प्रशासन ने पहले चरण में दीघा-पटना रेलखंड के अतिक्रमण को हटाया है। इसमें झोपड़ियां और खटाल हटाए गए। किनारे में कुछ पक्के निर्माण को भी हटाया गया। मंदिरों के साथ छेड़छाड़ नहीं की गई थी।

: राजीव नगर नाले तक उखाड़ी गई रेल पटरी :

दीघा-पटना रेलखंड का पटरी उखाड़ने का कार्य जारी है। गुरुवार को दीघा की तरफ से राजीव नगर नाले तक रेल पटरी उखाड़ ली गई। शीघ्र ही राजीव नगर रेलवे क्रॉसिंग तक कार्य पहुंच जाएगा।

: कंटीले तारों से हुई घेराबंदी :

जिला प्रशासन ने रेलवे लाइन की जमीन की कंटीले तार से घेराबंदी करा दी है। दीघा से आर ब्लॉक तक यह कार्य होना है। घेराबंदी के भीतर किसी को भी दोबारा रहने की अनुमति नहीं है।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप