पटना [जेएनएन]। नवादा जिले के संत कुटीर आश्रम की तीन साध्वियों के साथ सामूहिक बलात्कार की सनसनीखेज घटना सामने आने के बाद इस केस में एसआइटी गठित कर मगध रेंज के डीआइजी विनय कुमार ने जांच के आदेश दिए हैं।  नवादा एसपी विकास वर्मन इसका नेतृत्व करेंगे और जांच की रिपोर्ट डीआइजी को सौंपेंगे।

बता दें कि नवादा स्थित संत कुटीर आश्रम में12 दिसंबर को तीन साध्वियों के साथ गैंगरेप की वारदात को अंजाम दिया गया। मगर इस मामले में मुकदमा 4 जनवरी को दर्ज किया गया। इस घटना की जानकारी मिलते ही पुलिस ने जांच शुरू की और तीनों साध्वियों का मेडिकल कराया गया।

पीड़ित साध्वियों का कहना है कि इस घटना में तकरीबन 10 लोग शामिल थे, जिनमें से पांच लोग आश्रम के सेवादार थे और समय-समय पर आश्रम में उनका आना जाना लगा रहता था।

संत कुटीर आश्रम एक मशहूर आश्रम है, आश्रम के प्रमुख परमहंस सच्चिदानंद महाराज हैं और इस आश्रम के कई सेंटर दिल्ली, मुरादाबाद, बस्ती, नवादा और छत्तीसगढ़ में फैले हैं।

साध्वियों का कहना है कि आश्रम के प्रमुख परमहंस सच्चिदानंद महाराज आश्रम में बहुत कम आया करते थे।बता दें कि परमहंस सच्चिदानंद महाराज पर भी अपनी एक साध्वी के साथ बस्ती जिले के आश्रम में बलात्कार करने का आरोप है और इस बारे में प्राथमिकी भी दर्ज कराई गई है।

यूपी के बस्ती जिले के हैं सभी आरोपी

सभी अभियुक्त यूपी के बताए जा रहे हैं और इसके पुख्ता सुबूत मिले हैं, क्योंकि मुख्य अभियुक्त की बेटी ने बस्ती में प्राथमिकी दर्ज कराई है और अपने पिता की काली करतूत के खिलाफ अब मोर्चा खोल दिया है।

इस कांड के खुलासे के बाद अब आश्रम के भीतर का काला सच सामने आ जाएगा। इस आश्रम की जांच करने यूपी पुलिस पहले भी 17 दिसंबर 2017 को आई थी। आश्रम के बाहर हरियाणा की एक गाड़ी बरामद की गई है, अब इसकी जांच की जा रही है। 

बता दें कि नवादा जिले के गोविंदरपुर थाना क्षेत्र के बुधवारा पंचायत के बहियारा गांव के पास संत कुटीर आश्रम की तीन साध्वियों के साथ पिछले 12 दिसंबर की रात हथियार की नोंक पर गैंगरेप किया गया था। इनमें से एक साध्वी गया जिले की बतायी जा रही है। 

हथियार के बल पर दस लोगों ने किया तीन साध्वियों से गैंगरेप

साध्वियों ने बताया है कि हथियारों से लैस 10 की संख्या में अाश्रम में घुसे लोगों ने इस घटना को अंजाम दिया था। दुष्कर्मियों ने घटना को अंजाम देने के बाद मामले का खुलासा नहीं करने की धमकी भी दी थी। तीनों साध्वियों का कहना है कि सभी आरोपित रात के समय करीब दस बजे आश्रम के दरवाजे को खटखटाया और आवाज लगायी।

 

जब उन्होंने दरवाजा खोला तो सभी लोग जबरन अंदर घुस गये। तीनों  साध्वियों को जबरन पकड़ लिया और हथियार के बल पर अलग-अलग कमरे में ले गये और उनके साथ रेप की घटना को अंजाम दिया। पीड़िताओं का कहना है कि उन्होंने  डर से घटना की सुबह थाने में प्राथमिकी दर्ज नहीं करायी थी।

 

बाद में गांववालों की मदद से थाने में चार जनवरी को मुकदमा दर्ज कराया गया। गोविंदपुर थाने में लिखित आवेदन के आधार पर पांच नामजद आरोपितों के विरुद्ध हथियार के बल पर रेप करने की प्राथमिकी दर्ज की गयी है।

 

परममहंस स्वामी जी महाराज का है आश्रम 

संत कुटीर आश्रम के प्रधान गुरु परममहंस स्वामी जी महाराज है। आश्रम की संचालक मांडवी बाई हैं। बताया गया है कि महाराज जी प्रत्येक माह की पूर्णिमा के दिन आते हैं। रात भर भक्तों को प्रवचन तथा भजन के माध्यम से भक्ति भाव का ज्ञान देते हैं। साथ में यह भी बताया गया कि बहियारा गांव के समीप यह आश्रम पिछले चार सालों से चल रहा है।

 

यह आश्रम लगभग एक बीघा एरिया में बना हुआ है। यह जमीन दान के रूप में ग्रामीण सुरेश प्रसाद के द्वारा दिया गया था। संस्था के बारे में तीनों साध्वी ने बताया कि इसकी पांच संस्थाएं चल रही हैं। उन पांच में से एक नवादा जिले में भी है। 

 

किचन और बेडरूम में ले जाकर किया दुष्कर्म

रेप पीड़ित साध्वियों ने प्रशासन से दोषियों को कड़ी से कड़ी सजा दिलाने की मांग की है। मामले की जांच कर रहे डीएसपी उपेंद्र कुमार यादव से उन्होंने कहा कि आश्रम में महिलाएं अकेली रहती हैं और उनके साथ दुष्कर्म की घटना हुई है।  

उन्होंने डीएसपी को बताया कि कि घटना के की रात उनके साथ गोपाल, वीरेंद्र, अजय, मुन्ना चार अन्य पुरुष आश्रम में थे, जिन्हें आरोपियों ने बांध कर एक रूम में बंद कर दिया था और हम तीनों को किचन और बेडरूम में ले जाकर दुष्कर्म किया।

 

पहले भी हो चुकी है एेसी ही वारदात, एक लड़की अब भी है लापता

आश्रम के सेवक विशुनदेव महतो ने बताया कि इस संस्था का एक अाश्रम फतेहपुर के पास छह माइल में भी चल रहा था और वहां भी उन्हें परेशान किया गया। फिर वहां की जमीन बेचकर हम यहां आ गये और अब यहां यह शर्मनाक घटना घटी है। 

स्थानीय लोगों के साथ अाश्रम के सेवकों ने दोषियों को कड़ी सजा दिलाने की मांग की है और बताया कि इस तरह की  यह दूसरी घटना है। उन लोगों ने बताया कि पहले भी पिथौरी गांव में इसी आश्रम की संस्था की दो लड़कियों के साथ दुष्कर्म की घटना को अंजाम दिया गया था, जिसमें से एक लड़की अब तक लापता है।

 

डीआइजी ने कहा- होगी कड़ी कार्रवाई

मगध क्षेत्र के  डीआइजी विनय कुमार ने बताया कि घटना की संवेदनशीलता को देखते हुए संबंधित सभी तथ्यों का पता लगाने के लिए नवादा एसपी विकास वर्मन की मॉनीटरिंग में एसआइटी का गठन किया गया है। टीम में एक महिला पुलिस ऑफिसर को भी रखा  गया है।

 

उन्होंने बताया कि इस कांड का कनेक्शन यूपी से भी जुड़ा है और इसीलिए पुलिस  की एक टीम को यूपी भी भेजा गया है। डीआइजी ने बताया कि इस मामले के सभी  आरोपित छत्तीसगढ़ सहित दूसरे राज्यों के रहनेवाले हैं। उनकी गिरफ्तारी के लिए भी कोशिश की जा रही है। 

By Kajal Kumari