पटना [राज्य ब्यूरो]। राज्य पुलिस मुख्यालय ने गंगा नदी पर बने चार पुलों पर सुचारु यातायात संचालन के लिए नए दिशा-निर्देश जारी किए हैं। यह दिशा-निर्देश विगत 14 मई को मुख्य सचिव की अध्यक्षता में महात्मा गांधी सेतु पर बड़े वाहनों का परिचालन रोकने और यातायात प्रबंधन के लिए गए फैसलों के आलोक में जारी किए गए हैं।

पुलिस मुख्यालय ने पटना के महात्मा गांधी सेतु के साथ-साथ आरा-छपरा के बीच वीर कुंवर सिंह सेतु, दीघा-सोनपुर के बीच जेपी सेतु और मोकामा के राजेंद्र सेतु पर यातायात प्रबंधन के लिए कुल 98 पुलिस पदाधिकारियों व कर्मियों की तैनाती का फैसला लिया है। ये सभी पुलिस पदाधिकारी पटना, वैशाली और सारण जिला पुलिस बल के होंगे।

यहां पटना से नौ, वैशाली से छह और सारण से तीन पुलिस अवर निरीक्षकों की तैनाती की गई है। इसके अलावा पटना जिला पुलिस से 40, वैशाली से 20 तथा सारण से 20 सिपाहियों की भी तैनाती की गई है। महात्मा गांधी व जेपी सेतु पर यातायात प्रबंधन की जिम्मेदारी बीएमपी-5 के पुलिस उपाधीक्षक कुमार इंद्र प्रकाश को सौंपी गई है। जबकि उपरोक्त चारों पुलों पर यातायात प्रबंधन का अनुश्रवण पुलिस मुख्यालय में तैनात आइजी (प्रोविजन) को सौंपा गया है।

आइजी प्रोविजन प्रतिदिन इन चारों पुलों पर यातायात व्यवस्था का अनुश्रवण करेंगे और प्रतिदिन इसकी समेकित रिपोर्ट डीजीपी को देंगे। पुलिस मुख्यालय ने चारों पुलों के दोनों छोर पर संबंधित जिला द्वारा वायरलेस स्टेशन की स्थापना करते हुए डेडिकेटेड चैनल के निर्माण का निर्देश दिया है। जो इन पुलों पर लगातार यातायात प्रबंधन के समन्वय का कार्य करेंगे।

मुख्यालय ने जेपी सेतु पर यातायात प्रबंधन की जिम्मेदारी पटना के ट्रैफिक एसपी को दी है। पुलिस मुख्यालय ने पटना व मुजफ्फरपुर के जोनल आइजी को इस संबंध में तत्काल आदेश निर्गत कर इसकी प्रति पुलिस मुख्यालय को उपलब्ध कराने को कहा है।

बता दें कि विगत 14 मई को मुख्य सचिव की अध्यक्षता में वीडियो कान्फ्रेंसिंग कर पटना व मुजफ्फरपुर के जोनल आइजी को दिशा-निर्देश जारी किए थे। जिसमें महात्मा गांधी सेतु पर सभी प्रकार के भारी वाहनों, बालू, गिट्टी, पत्थर लदे ट्रकों व पेट्रोल टैंकर के परिचालन पर तत्काल रोक लगाने का आदेश दिया गया था। अब ट्रक व टैंकर का परिचालन जेपी सेतु पर रात्रि में किया जाएगा।

Posted By: Ravi Ranjan