पटना। बाकरगंज मुख्य मार्ग स्थित मिलन कांपलेक्स की प्रथम मंजिल पर एसएन ज्वेलर्स में शुक्रवार को लूट के बाद भाग रहे अपराधियों में एक को स्थानीय लोगों ने साहस का परिचय देते हुए दबोच लिया। लूटपाट के लिए छह अपराधी पहुंचे थे, जिनमें चार दुकान के अंदर ग्राहक बनकर प्रवेश कर गए और दो बाहर खड़े थे।

प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि दो अपराधी दुकान के नीचे सड़क पर थे। सभी के चेहरे पर मास्क थे। दुकान में मालिक संजीव के दोनों बेटे यश और युवराज बैठे थे। पांच स्टाफ और एक ग्राहक भी था। इसी दौरान चार अपराधी दो-दो की संख्या में दस सेकंड के अंतराल पर दुकान में पहुंचे। उन्होंने ज्वेलरी दिखाने को कहा। इसी बीच एक ने कट्टा तान दिया। कट्टा देखते ही सब सकते में आ गए। अपराधियों ने सभी को बंधक बना लिया और करीब 15 मिनट तक लूटपाट करते रहे।

--------------------

तीन बैग में ले गए सोना :

अपराधी तीन बड़े बैग लेकर आए थे, जिसमें सोने के आभूषण भरने लगे। शर्ट-पैंट से लेकर जैकेट की जेब में भी जेवर भर लिया। यश ने बताया कि इसी बीच एक अपराधी ने उनके सिर के पास फायर कर दिया। इसके बाद वे काफी डर गए। अपराधियों ने लूट के बाद भागते समय सीसीटीवी कैमरे की ओर भी देखा, लेकिन डिजिटल वीडियो रिकाडर्स (डीवीआर) को हाथ नहीं लगाया।

----------------

पकड़ो, लूटकर भाग रहा है :

इधर, गोली चलने की आवाज सुनकर पहले से ही अन्य दुकानों के कई दुकानदार और स्टाफ बाहर निकल आए थे। चार अपराधी तीन बैग लेकर नीचे उतरे तो उनके पीछे दुकान के स्टाफ भी दौड़ते हुए नीचे आए और लुटेरों की ओर इशारा करते हुए शोर मचाया कि पकड़ो, लूटकर भाग रहा है। आसपास के लोग हिम्मत दिखाते हुए दो बाइक पर सवार चारों अपराधियों को दबोचने के लिए दौड़े। दुकान के बाहर खड़े दो अपराधी खिसक चुके थे।

---------------------

एक अपराधी चढ़ा भीड़ के हत्थे :

इस बीच एक बाइक पर सवार दो अपराधी भीड़ से निकलकर भागने लगे। वहीं, खुद को घिरा देखकर सफेद रंग की दूसरी अपाचे बाइक पर सवार एक अपराधी कूद गया और दौड़कर पहली वाली बाइक पर चढ़ गए। ये तीनों भागने में सफल हो गए। इधर, अपाचे बाइक चला रहे उसके साथी को लोगों ने दबोच लिया। उसका नाम साधु है। लोगों ने उसकी पिटाई शुरू कर दी। उसकी जेब में कुछ जेवर थे, जो सड़क पर गिर गए। साधु ने ही बताया कि वे लोग छह की संख्या में आए थे।

-------------------

फफक रहे थे दुकान के मालिक संजीव :

दुकान के मालिक संजीव कुमार ने बताया कि वे पुनपुन के रहने वाले हैं। उनकी दुकान करीब 20 साल पुरानी है। इससे पहले कभी इस तरह की वारदात नहीं हुई। वे परिवार के साथ सीडीए बिल्डिंग के पास रहते हैं। संजीव ने बताया कि उनकी तबीयत खराब थी, जिसकी वजह से दुकान देर से पहुंचे। अब कुछ नहीं बचा है। सब कुछ लुट गया। इतना कहकर वह फफक कर रोने लगे। वारदात के बाद यश भी सहमे हुए थे। उन्होंने बताया कि सभी अपराधियों की उम्र 20 से 25 साल के बीच रही होगी।

---------------

दो बजे कम होती है भीड़ :

पुलिस ने लोगों द्वारा पकड़े गए अपराधी साधु के पास से जो बाइक बरामद की है, वह नई है। हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट भी लगा है, जो पटना का है। बाइक किसके नाम से रजिस्ट्रेशन है, इसके बारे में भी पुलिस को जानकारी हो गई है। जिस दूसरी बाइक से तीन अपराधी फरार हुए, वह पुरानी थी। स्थानीय दुकानदारों ने बताया कि दोपहर दो बजे इलाके में भीड़ कुछ कम रहती है। शायद यही वजह है कि अपराधियों ने वारदात के लिए यह समय चुना।

-------------

सड़क पर उतरे दुकानदार :

दिनदहाड़े वारदात के बाद के दुकानदारों ने बाकरगंज में सभी ज्वेलरी दुकानें बंद कर दी और सड़क पर उतर आए। इतनी बड़ी वारदात के बाद भी कदमकुआं और गांधी मैदान थाने की पुलिस को छोड़ कोई नहीं पहुंचा था। वरीय अधिकारी मौके पर देर से पहुंचे। स्थानीय दुकानदारों का कहना था कि बाकरगंज में इस तरह की वारदात पहले नहीं हुई थी। अपराधियों का जिस तरह मनोबल बढ़ गया है, इससे अब वे सुरक्षित नहीं महसूस कर रहे हैं। इस तरह की वारदात हो रही है और अपराधी पकड़े नहीं गए तो दुकानदारी मुश्किल है।

------------

दुकानदार बोले, एसएसपी ने नहीं उठाया फोन :

दुकान में मौजूद लोगों का कहना था कि लूट की सूचना देने के लिए एसएसपी के सरकारी मोबाइल नंबर पर चार बार फोन किया गया, लेकिन फोन रिसीव नहीं हुआ। गांधी मैदान थाने की पुलिस पहुंच गई, लेकिन जिस कदमकुआं थाना क्षेत्र में वारदात हुई वहां की पुलिस करीब तीस मिनट बाद पहुंची।

---------------

Edited By: Jagran