पटना, जेएनएन। राजधानी में मौसम साफ होते ही दुर्गा पूजा की रौनक लौटने लगी है। पूजा समितियां अधूरी तैयारियों को पूरा करने में जी-जान से जुट गई हैं। पंडाल बनाने वाले कारीगर और मूर्ति बनाने वाले कलाकार दिन-रात एक कर अपना काम पूरा करने में जुटे हैं।

पूजा पंडालों और प्रतिमाओं को दो से तीन दिनों में पूरा करने की बड़ी चुनौती आसान नहीं है, लेकिन पूजा समितियों का उत्साह इस चुनौती को पस्त कर देने के लिए काफी है। डाकबंगला चौराहा पर पूजा पंडाल और लाइटिंग व्यवस्था को अंतिम रूप दिया जा चुका है। पंचमुखी हनुमान मंदिर दुर्गा पूजा समिति के सदस्या श्रीकांत ने बताया कि पंडाल, लाइटिंग और सजावट का काम जोर-शोर से चल रहा है। पंडाल का काम सुबह तक पूरा कर लिया जाएगा।

बोरिंग रोड में पंडाल पर चढ़ रहा कपड़ा

बोङ्क्षरग रोड दुर्गा पूजा समिति के अध्यक्ष उमेश सिंह ने बताया कि पंडाल में कपड़ा लगाने का काम किया जा रहा है। इसके साथ-साथ लाइट और सजावट का काम भी किया जा रहा है। पंडाल के ठीक बगल में पूजा समिति का कार्यालय बनाया जाना है। लाइसेंस मिल चुका है।

18 घंटे की शिफ्ट में काम कर रहे कारीगर

नवयुवक संघ श्री दुर्गा पूजा समिति ट्रस्ट के सचिव सोनू यादव ने बताया कि बारिश की वजह से तीन दिन का समय बेकार चला गया। अब हमारे पास समय कम है। पंडाल में दिन-रात लगकर काम पूरा किया जाना है। इसके साथ साथ बिजली और लाइटिंग का काम किया जा रहा है। बताया कि सभी कर्मचारियों के लिए 45 रेनकोट खरीदे गए हैं। अगर बारिश होती है तो सभी कर्मचारी रेनकोट पहन कर काम करेंगे। मोटर भी हमलोग के पास है जिससे पानी निकाल लिया जाएगा। 14 घंटे की शिफ्ट में काम करने वाले कारीगर अब 18 घंटे की शिफ्ट में काम कर रहे हैं।

पंडाल में अब भी घुसा है पानी

श्री दुर्गा पूजा कल्याण समिति चूड़ी मार्केट के समिति के एक्शन प्रमुख सोहन लाल अग्रवाल ने बताया कि पंडाल में अब भी एक फुट पानी घुसा हुआ है। हालांकि बारिश के रुकने से पंडाल निर्माण का काम तेजी से किया जा रहा है। पंडाल के कई सामान भीग चुके हैं। इससे समिति को लगभग दो लाख रुपये का नुकसान हुआ है। पानी जमे होने की स्थिति को देखते हुए फिलहाल बिजली के काम को रोका गया है।

जलजमाव के बीच पंडाल बनकर तैयार

श्रीश्री नवयुवक संघ दुर्गा पूजा समिति, कदमकुआं, मेन रोड, डोमन भगत लेन के कार्यकर्ता चंदन सत्या ने बताया कि पंडाल में सोमवार तक तीन फीट पानी घुस गया था। इससे पंडाल में लगे प्लाई और बांस की चट भीग गई। कारीगर किसी तरह पानी में घुसकर ही काम करने को मजबूर थे। पानी में घुसकर काम करने से उनका पैर फूल गया। इसके बावजूद पंडाल का काम लगभग पूरा कर लिया गया है। मौसम ने साथ दिया तो बाकी काम भी समय से पहले पूरा कर लिया जाएगा।

भवर पोखर में बने पंडाल का मार्ग भी जलमग्न

भवर पोखर पक्का कुआं नवयुवक संघ के सदस्य सन्नी और मनीष कुमार ने बताया कि बारिश के चलते तीन दिनों से पंडाल का काम रुका हुआ था। अब दिन-रात काम कर पंडाल का काम किया जा रहा है। खेतान मार्केट से पंडाल की ओर आने वाले रास्ते जलमग्न हो चुके हैं। अगर इस रास्ते से पानी पूरी तरह नहीं निकलता है तो श्रद्धालु अवध बिहारी  गली और नटराज गली होते हुए भी पंडाल के पास पहुंच सकते हैं। लाइट और सजावट का काम किया जा रहा है।

पानी नहीं निकला तो एसकेपुरी में होगी मुश्किल

श्री कृष्णापुरी दुर्गा पूजा समिति हजारी सिंह लेन के महासचिव रमेश कुमार सिंह ने कहा कि अगर श्री कृष्णापुरी कॉलोनी से पानी नहीं निकला तो भक्त मां के दर्शन कैसे करेंगे ये बहुत बड़ी समस्या है। पंडाल का काम जोर शोर से चल रहा है। हमारे पंडाल में बारिश का पानी कुछ हद तक घुसा था। जो बाद में निकल गया। पंडाल में बुधवार से कपड़ा लगाने का काम किया जाएगा। बल्ला लगाने का काम भी किया जा रहा है।

Posted By: Akshay Pandey

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप