पटना, जागरण टीम। Lalu Prasad Yadav Latest Update: लालू प्रसाद यादव के ठिकानों पर देश के अलग-अलग शहरों में चल रही केंद्रीय अन्‍वेषण ब्‍यूरो की छापेमारी को लेकर आध‍िकारिक तौर पर कुछ भी सामने नहीं आया है। लेकिन, सूत्रों का दावा है कि राबड़ी देवी और मीसा भारती के आवास सहित अन्‍य ठिकानों पर सीबीआइ की यह छापेमारी एक नया केस दर्ज करने के बाद हुई है। चर्चा इस बात की भी है कि रेेल मंत्री रहते लालू प्रसाद यादव की भूमिका के संबंध में यह केस दर्ज किया गया है, लेकिन इसमें वे अकेले नहीं फंस रहे हैं। आपको यह जानकर ताज्‍जुब हो सकता है कि इस केस में लालू यादव के अलावा उनके परिवार के एक-दो नहीं, बल्‍क‍ि तीन और नाम फंसने की चर्चा है। 

ये भी पढ़ें, Bihar News: पटना में राबड़ी देवी के आवास सहित लालू यादव से जुड़े 15 ठिकानों पर सीबीआइ का छापा  

सूत्रों की मानें तो इस बार सीबीआइ ने जो केस दर्ज किया है, उसी के आधार पर छापेमारी की गई है। लालू प्रसाद यादव वर्ष 2004 से 2009 तक संयुक्‍त प्रगत‍िशील गठबंधन की मनमोहन सिंह के नेतृत्‍व वाली सरकार में रेल मंत्री रहे। इस दौरान उनके खिलाफ कई तरह के आरोप लगे। रेलटेल, आइआरसीटीसी में घोटाला का आरोप भी इनमें शामिल है। रेलवे में लोगों को मनमाने तरीके से नौकरी देने और इसके एवज में उनसे जमीन लेने का आरोप भी लालू प्रसाद यादव पर लगा। 

ये भी पढ़ें, लालू प्रसाद यादव के खिलाफ छापेे को तेजस्‍वी यादव और नीतीश कुमार की नजदीकी से जोड़ा, शिवानंद तिवारी ने ये कहा

बताया जा रहा है कि सीबीआइ के नए केस में लालू प्रसाद यादव, उनकी पत्‍नी और बिहार की पूर्व मुख्‍यमंत्री राबड़ी देवी के साथ ही बड़ी बेटी और राज्‍यसभा सदस्‍य मीसा भारती का भी नाम शामिल है। इस केस में लालू परिवार के एक और शख्‍स का नाम शामिल होने की चर्चा है, जो सबसे अधिक चौंकाने वाली बात है। इस केस में हेमा यादव का भी नाम होने की चर्चा है। हालांकि सीबीआइ की तरफ से इस बारे में कोई आधि‍कारिक जानकारी अब तक नहीं दी गई है। इसलिए इन तमाम चीजों को अभी कयास ही कहना उचित होगा। राजद के नेता इस पूरे प्रकरण के जरिए लालू परिवार को साजिश के तहत परेशान करने का आरोप लगा रहे हैं। 

Edited By: Shubh Narayan Pathak