मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

पटना, जेएनएन। चुनाव रणनीतिकार प्रशांत किशोर (Prashant Kishore) ने ट्वीट कर अखबारों पर अपनी नाराजगी जाहिर करते हुए तंज कसा है। प्रशांत ने अपने ट्वीट में लिखा है कि विडंबना यह है कि इन दिनों मुझे अखबारों के माध्यम से पता चलता है कि मैं कहां काम कर रहा हूं?

सोमवार को प्रशांत किशोर ने अपने ट्विटर हैंडल से ये ट्वीट किया है, जिसमें उनकी नाराजगी जाहिर हो रही है।

दरअसल, रविवार को आयोजित तृणमूल कांग्रेस की शहीद दिवस रैली में प्रशांत किशोर शामिल नहीं हुए थे जिसे लेकर काफी पहले ही अटकलें लगाई जा रही थी। मीडिया में इस बात की चर्चा जोरों पर थी कि प्रशांत किशोर इस रैली में शामिल होंगे।

प्रशांत किशोर के रैली में शामिल न होने को लेकर तृणमूल के एक वरिष्ठ नेता ने कहा कि प्रशांत किशोर के रैली में शामिल होने की कोई संभावना ही नहीं थी। यह सब मीडिया की अटकले थीं कि वह रैली में हिस्सा लेंगे। इसमें शामिल होने की उनकी तनिक भी संभावना नहीं थी।

बता दें कि लोकसभा चुनावों के बाद बंगाल में सत्तारूढ़ पार्टी ने पिछले महीने प्रशांत किशोर से संपर्क किया था और विधानसभा चुनाव के लिए नए सिरे से अपनी पार्टी के लिए रणनीति तैयार करने की चर्चा की थी।जिसके बाद शहीद दिवस रैली को लेकर तृणमूल नेताओं ने कहा था कि तृणमूल के पार्टी कार्यक्रम में किशोर का शामिल होना थोड़ा अस्वाभाविक है, क्योंकि वह जदयू के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष हैं जो राज्य और राष्ट्रीय स्तर पर भाजपा के साथ गठबंधन में है।

प्रशांत किशोर ने पिछले महीने दो बार तृणमूल प्रमुख ममता बनर्जी से मुलाकात की थी और बनर्जी ने दावा किया था कि चुनाव रणनीतिकार कॉरपोरेट सामाजिक जिम्मेदारी के तहत उनकी पार्टी की मदद करेंगे। बता दें कि इसके लिए तृणमूल सांसद एवं मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के भतीजे अभिषेक बनर्जी ने अहम भूमिका निभायी थी।

Posted By: Kajal Kumari

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप