बेगूसराय, जागरण संवाददाता। प्रखंड क्षेत्र के मंसूरचक बाजार स्थित यूको बैंक में निकासी करने आई मुस्लिम लड़की को हिजाब हटाने के लिए कहे जाने का वीडियो वायरल होते ही चार्चा का विषय बना हुआ है। इसके बहाने कर्नाटक से शुरू हिजाब विवाद अब बिहार भी पहुंच गया है। मामले में सियासत भी शुरू हो गई है। बिहार विधानसभा के नेता प्रतिपक्ष तेजस्‍वी यादव के कार्यालय (Office of Tejashwi Yadav) के ट्व‍िटर हैंडल से बेगूसराय जिले के मंसूरचक स्थित यूको बैंक की शाखा का वीडियो शेयर किया गया है। वीडियो शेयर करते हुए लिखा गया है कि मुख्‍यमंत्री जी कुर्सी की खातिर बिहार में यह सब क्‍या करवा रहे हैं। हालांकि बैंक के वरीय प्रबंधक ने कहा है कि महिला ग्राहक का हिजाब उतरवाने का आरोप गलत है। केवल पहचान के लिए चेहरा दिखाने को कहा गया था।  

(तेजस्‍वी यादव के कार्यालय की ओर से किया गया ट्वीट।)

यह करनाटक से आए हैं....

यह वीडियो करीब सप्ताह पूर्व का है।  इसमें लड़की यूको बैंक के कैसियर काउंटर पर खड़ी है और हिजाब नहीं हटाने की बात कह रही है। वहीं उसके पिता काफी विरोध करते दिख रहे हैं। लड़की कह रही है कि मैं अक्सर हिजाब लगा कर ही बैंक आती हूं। लड़की के पिता मतीन खान जो समसा एक पंचायत के वार्ड संख्या 15 के निवासी हैं काफी गुस्‍से में हैं। बताया जाता है कि यूको बैंक की शाखा में पिता-पुत्री पैसे निकलवाने पहुंचे थे। युवती हिजाब पहने हुई थी। कैशियर ने उसे हिजाब उतारने को कहा। इसपर पिता-पुत्री भड़क गए। इसके बाद बैंक में जमकर ड्रामा हो गया। युवती मोबाइल में वीडियो बनाने लगी। वायरल वीडियो में दिख रहा है कि बैंक के कर्मी मोबाइल से वीडियो बनाने से रोक रहे हैं। युवती के पिता का कहना था कि आप सरकार का आदेश दिखा दीजिए तब हम मान लेंगे। युवती के पिता कहते हैं कि आज तक कोई दिक्‍कत नहीं हुआ लेकिन ये बैंक अधिकारी करनाटक से आए हैं।  

तेजस्‍वी यादव के कार्यालय ने किया रिट्वीट 

घटना का वीडियो वायरल होने के बाद नेता प्रतिपक्ष के कार्यालय के हैंडल से इसे रि‍ट्वीट किया गया है। इसमें लिखा गया है कि मुख्‍यमंत्री जी कुर्सी की खातिर आप बिहार में यह सब क्‍या करवा रहे हैं। माना आपने विचार, नीति‍, सिद्धांत सब भाजपा के पास गिरवी रख दिया है। लेकिन संविधान की जो शपथ ली है, कम से कम उसका तो ख्‍याल रखिए। इस कुकृत्‍य में दोषी लोगों को गिरफ्तार कीजिए। इधर बैंक के वरीय प्रबंधक रितेश कुमार ने कहा कि हस्‍ताक्षर में अंतर दिख रहा था। इस कारण कैशियर रवि कुमार ने नियमों के अनुरूप उसे चेहरा दिखाने को कहा। बस इतनी सी बात है। हिजाब से कोई दिक्‍कत की बात ही नहीं है। इसे बेवजह तूल दिया जा रहा है। 

Edited By: Vyas Chandra

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट