पटना, जेएनएन। पटना में सरस्‍वती पूजा के बाद हो रहे मूर्ति विर्सजन को लेकर फायरिंग हुई और बम भी चले हैं। मूर्ति विर्सजन के दौरान पटना विश्‍वविद्यालय के छात्रों व स्‍थानीय मुहल्‍ला लाल बाग के लोगों के बीच हिंसक झड़प हुई है। फायरिंग व बमबाजी की वारदात में एक दारोगा और एक सिपाही जख्‍मी हो गए हैं। घटना की जानकारी मिलते ही काफी संख्‍या में पुलिस बल पहुंच गए हैं। इलाके में तनाव हो गया है।  

दो घंटे तक धमाके, पुलिस बल के साथ पहुंचे एसएसपी

सरस्वती की प्रतिमा विसर्जन जुलूस के दौरान शुक्रवार की देर शाम अशोक राजपथ गोलियों की तड़तड़ाहट और बम धमाकों से थर्रा उठा। पटना विश्वविद्यालय के छात्रों और लालबाग मोहल्ले के लोगों के बीच जमकर गोलीबारी व बमबारी हुई। बम धमाके में पीरबहोर थाने के दारोगा मनोज कुमार और पथराव में एक सिपाही घायल हो गया। उपद्रवियों ने दर्जनों वाहनों में तोडफ़ोड़ करने के साथ दो कारों को आग के हवाले कर दिया।

पुलिस को भी उपद्रवियों ने खदेड़ दिया

बवाल शांत कराने पहुंची पुलिस को भी उपद्रवियों ने खदेड़ दिया। इसके बाद एसएसपी उपेंद्र कुमार शर्मा  पुलिस बल के साथ पहुंचे और लाठियां भांजने लगे। भारी संख्या में पुलिस बल को देखकर उपद्रवियों में भगदड़ मच गई। तीन घंटे बाद बवाल पर काबू पाया गया। हालांकि, तनाव की स्थिति देर रात तक थी। पुलिस व प्रशासनिक पदाधिकारी इलाके में कैंप कर रहे हैं।

दारोगा के पैर में लगे बम के छर्रे

जानकारी के अनुसार, पटना विश्वविद्यालय के मिंटो, नूतन और जैक्सन हॉस्टल के लड़के शुक्रवार की शाम मां सरस्वती की प्रतिमा विसर्जन करने के लिए जुलूस की शक्ल में निकले थे। जैसे ही वे विश्वविद्यालय कैंपस से बाहर निकलकर थोड़ा आगे बढ़े ही थे कि लालबाग मोहल्ले के शरारती तत्वों ने बमबारी और पथराव शुरू कर दिया। जवाब में हॉस्टल के लड़कों ने भी फायरिंग की। इस बीच सैदपुर हॉस्टल के लड़के भी जुलूस लेकर पहुंच गए। सभी लड़के एकजुट होकर स्थानीय लोगों पर टूट पड़े। दोनों ओर से जमकर बमबारी और फायरिंग होने लगी। इस दौरान विसर्जन जुलूस के साथ जा रहे पीरबहोर थाने के दारोगा मनोज कुमार के पास एक धमाका हो गया। बम के छर्रे उनके पैर में लग गए। पथराव में सिपाही का सिर फट गया।

कई थानों की पुलिस पर हमला

वायरलेस पर सूचना पाकर कदमकुआं, सुल्तानगंज और गांधी मैदान की पुलिस पहुंची तो उपद्रवियों ने उनपर भी हमला बोल दिया। पुलिस उल्टे पांव लौट गई। आधे घंटे बाद पूरी रणनीति तैयार कर अशोक राजपथ पर फिर पुलिस पहुंची। स्टेट आरएएफ और सैकड़ों जवान गाड़ी से उतरते ही लाठियां भांजने लगे। इसके बाद बवाल शांत हुआ। एक दर्जन लोगों को हिरासत में लिया गया है। 

Posted By: Rajesh Thakur

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस