पटना, राज्‍य ब्‍यूरो । बिहार में मंत्रिमंडल विस्तार (Bihar Cabinet Expansion) के पहले ही भाजपा (BJP) में जमकर घमासान (dispute) हो रहा है। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की कैबिनेट (CM Nitish Kumar Cabinet)  के पहले विस्तार में जगह नहीं मिलने से भाजपा विधायक ज्ञानेंद्र सिंह ज्ञानू (BJP MLA Gyanendra Singh Gyanu) खफा हैं। डिप्टी सीएम पद पर सवर्णों की उपेक्षा का आरोप लगाया है। कहा है कि भाजपा ने दो-दो उप मुख्यमंत्री (Deputy CM ) बनाया लेकिन सवर्ण समाज को एक भी पद नहीं दिया।

उन्होंने पार्टी के खिलाफ बगावत का बिगुल फूंक दिया है। ज्ञानू ने पार्टी नेतृत्व को चेतावनी दी है। भाजपा पर राजपूत और सवर्ण समाज (upper caste)  के साथ वरिष्ठ विधायकों की अनदेखी का आरोप लगाया है। ज्ञानू ने अपने साथ 15 विधायकों के होने का दावा किया है। कहा कि समय आने पर फैसला करेंगे। भाजपा गंभीर परिणाम भुगतेगी।

वरिष्‍ठों की अनदेखी का आरोप

बकौल ज्ञानू, कैबिनेट विस्तार में भाजपा ने जाति, क्षेत्र और छवि का ख्याल भी नहीं रखा। कैबिनेट विस्तार में अपराधियों जगह दी गई है। सवर्णों की अनदेखी का आरोप लगाया और कहा कि लगता है कि भाजपा को सवर्णों का सिर्फ वोट चाहिए। सत्ता में दूसरे को तरजीह दी जा रही है। मंत्रियों की सूची देखकर लगा कि भाजपा में अनुभवी और वरिष्ठ होना गलत है। नंद किशोर यादव, विनोद नारायण झा, प्रेम कुमार और राम नारायण मंडल सरीखे नेताओं की जगह क्या तारकिशोर प्रसाद और रेणु देवी से पार्टी को ताकत मिलेगी?

नतीजा भुगतने की चेतावनी

मगध क्षेत्र में भूमिहारों की उपेक्षा हुई है। कैबिनेट में पूरे शाहाबाद और मगध क्षेत्र से एक भी भूमिहार को नहीं लिया है। मिथिलांचल में ललित नारायण एवं जगन्नाथ मिश्र की पहचान प्रतिष्ठा नीतीश मिश्र को मंत्री नहीं बनाकर अनदेखी की गई है। पार्टी को इसका नतीजा भुगतना पड़ेगा।

बता दें कि बाढ़ विधानसभा क्षेत्र से ज्ञानू लगातार चौथी बार 17वीं विधानसभा चुनाव में विधायक चुने  हैं। बाढ़ में आजादी के बाद दो बार से ज्यादा लगातार कोई विधायक नहीं जीत पाया।

 गवर्नर के पास पहुंची भाजपा के 9, जदयू के 8 नामों की लिस्ट 

 भाजपा से ये बनेंगे मंत्री

शाहनवाज हुसैन -एमएलसी

नितिन नवीन - बांकीपुर एमएलए

नारायण प्रसाद - नौतन एमएलए

सुभाष सिंह - गोपालगंज एमएलए

नीरज सिंह बबलू - छातापुर एमएलए

प्रमोद कुमार - मोतिहारी एमएलए

सम्राट चौधरी- एमएलसी

आलोक रंजन झा- सहरसा एमएलए

जनक राम- दोनों सदनों के सदस्य नहीं है, एमएलसी बनाए जाएंगे 

जदयू से ये बनेंगे मंत्री

लेसी सिंह- धमदाहा एमएलए

सुमित सिंह- चकाई एमएलए (निर्दलीय)

संजय झा- एमएलसी

श्रवण कुमार- नालंदा एमएलए

मदन सहनी- बहादुरपुर एमएलए

जयंत राज- अमरपुर एमएलए

जमां खान- चैनपुर एमएलए

सुनील कुमार- भोरे एमएलए (ये पूर्व डीजी रहे हैं)

यह भी पढ़ें- Bihar Cabinet Expansion: मंत्रिमंडल में फिर नहीं मिला डॉ. प्रेम को स्‍थान, पार्टी संगठन में बड़ी जिम्‍मेदारी मिलने पर चर्चा

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप