पटना, जेएनएन। कोरोना वायरस के (CoronaVirus) बढ़ते खतरे को देखते हुए बिहार सरकार सतर्कता बरत रही है। पटना में एक और शख्स कोरोना पॉजिटिव पाया गया है तो वहीं एक संदिग्ध मरीज की मौत हो गई है। उस मरीज का टेस्ट रिपोर्ट आना बाकी है।

सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक ये संदिग्ध मरीज नालंदा जिले के पावापुरी स्थित वर्धमान मेडिकल कॉलेज में भर्ती था। इस सन्दिग्ध मरीज की रात 11.30 बजे मौत हो गई है। मरीज की मौत के बाद उसके ब्लड के सैंपल को जांच को भेजा गया है।

विम्स के डॉ पुरुषोत्तम ने बताया है कि 50 वर्षीय मरीज पहले से इम्पाइमा (फेफड़े में पस होना) से ग्रसित था। कोरोना के संक्रमण की जांच के लिए उसका ब्लड सैम्पल पहले ही पटना भेजा जा चुका था। रिपोर्ट निगेटिव आई थी।

वहीं, बिहार में कोरोना मरीजों का आंकड़ा अब 4 तक पहुंच गया है। बिहार के स्वास्थ्य विभाग ने मंगलवार को इससे संबंधित आंकड़ा जारी किया । इन आंकड़ों के अनुसार, प्रदेश में अब तक कुल 194 लोगों का सैम्पल लिया गया, जिसमें 175 लोगों का रिजल्ट निगेटिव पाया गया। जानकारी दी गई है कि प्रदेश में कुल 909 यात्रियों को ऑब्जर्वेशन में रखा गया है। साथ ही प्रदेश के कई ट्रांजिट प्वाइंट पर कुल 3,73,677 यात्रियों की स्क्रीनिंग हो चुकी है

कोरोना वायरस से मौत पर मृतक के आश्रित को चार लाख देगी बिहार सरकार

बिहार के श्रम विभाग (Labor Department of Bihar) ने एक सर्कुलर जारी किया है, जिसके तहत राज्य में कोरोना वायरस से मौत होने पर मृतक के आश्रित को चार लाख रुपए का अनुदान मिलेगा। इसके साथ ही परिवार को स्किल डेवलपमेंट की ट्रेनिंग भी दी जाएगी।

बता दें कि इससे पहले सरकार ने ये भी घोषणा की थी कि संक्रमित लोगों के इलाज का पूरा खर्च मुख्यमंत्री चिकित्सा सहायता कोष से दिया जाएगा। अगर किसी की मौत हो जाती है तो परिजनों को चार लाख रुपये का मुआवजा दिया जाएगा। यह मदद स्टेट डिजास्टर रिस्पांस फंड (SDRF) के माध्यम से उपलब्ध होगी।

Edited By: Kajal Kumari