पटना/बक्सर, जागरण टीम। बक्‍सर सेंट्रल जेल (Buxar Central Jail) में बंद कुख्‍यात अपराधी सच्चिदानंद शर्मा उर्फ लंबू शर्मा (Lambu Sharma) को किसी और जेल में शिफ्ट करने की तैयारी शुरू हो गई है। लंबू शर्मा का क्राइम रिकॉर्ड खतरनाक है। वर्ष 2015 में यूपी के बाहुबली विधायक मुख्‍तार अंसारी (UP Mau MLA Mukhtar Ansari) को मारने की सुपारी लेने के बाद वह राष्‍ट्रीय स्‍तर पर चर्चा में आ गया था। मुख्‍तार को मारने के लिए ही वह आरा कोर्ट परिसर में बम धमाका (Bomb Blast in Ara Civil Court Premises) करवाने के बाद न्‍यायिक हिरासत से फरार हो गया था। यह संयोग ही है कि मुख्‍तार को काफी खींचातानी के बाद पिछले दिनों पंजाब की रोपड़ जेल से उत्‍तर प्रदेश की बांदा जेल लाया गया और इसी के साथ लंबू को भी दूसरी जेल में शिफ्ट करने की कवायद शुरू हो गई है।

पड़ोसी जिले भोजपुर के पीरो का रहने वाला है लंबू

प्रशासनिक सूत्रों की मानें तो लंबू को बक्‍सर सेंट्रल जेल से हटाने की कवायद बिहार पंचायत चुनाव के आयोजन से जुड़ी है। पंचायत चुनाव से पहले बक्सर केंद्रीय कारा से ऐसे दुर्दान्त कैदियों को दूसरे जेलों में भेजे जाने की तैयारी है जो यहां रहते चुनाव को प्रभावित कर सकते हैं। एसपी द्वारा की गई अनुशंसा के अनुसार सूची में लंबू शर्माा सहित कुल 16 दुर्दान्त कैदियों के नाम शामिल हैं, जिनपर हत्या और लूट से लेकर पॉक्सो जैसे मामले विभिन्न थानों में दर्ज हैं। लंबू बक्‍सर के पड़ोसी जिले भोजपुर के पीरो का रहने वाला है। बक्‍सर और भोजपुर जिले में प्रशासनिक तौर पर भले सीमा निर्धारित हो, लेकिन स्‍थानीय लोगों के जनजीवन और आपसी संबंधों में ऐसी कोई सीमा नहीं दिखती है।

ये भी पढ़ें मुख्तार अंसारी की सुपारी लेने वाले लंबू ने 12 साल की उम्र में किया पहला मर्डर, तीन बार जेल से भागा

पंचायत चुनाव से पहले सक्रिय हो गए हैं अपराधी

अभी कुछ ही दिनों पहले बक्‍सर के करहंसी में पूर्व मुखिया के पुत्र की दिन दहाड़े गोलियों से भूनकर हत्या कर दी गई। पुलिस की तफ्तीश में यह जानकारी सामने आई कि चुनाव में अपनी मां को जीत दिलाने तथा दहशत फैलाने के लिए गाजीपुर जेल में बंद संदीप यादव के इशारे पर वारदात को अंजाम दिया गया था। इस बीच हत्या में जो अपराधी शामिल थे उन सभी के बारे में जानकारी प्राप्त करने के बाद पुलिस ने कुछ को गिरफ्तार कर जेल भी भेज दिया। दरअसल अभी कुछ ही दिनों बाद पंचायत चुनाव होने वाले हैं। ऐसे में केंद्रीय कारा में बंद दुर्दान्त कैदियों द्वारा जेल में रहते हुए भी शांतिपूर्ण मतदान में खलल डाले जाने की संभावना है। इसको देखते हुए पुलिस अधीक्षक नीरज कुमार सिंह ने कुल 16 दुर्दान्त कैदियों को स्थानांतरित करते हुए दूसरे जेलों में भेजने की अनुशंसा की है।

ये भी पढ़ें, तब मुख्‍तार अंसारी को रास्‍ते में ही मारने की थी साजिश, बिहार के MLA ने दी थी 50 लाख की सुपारी!

इन कैदियों का होगा स्थानांतरण

एसपी की ओर से भेजी गई सूची में  राजपुर के ललवन के डेरा निवासी दिनेश सिंह, राजपुर के सरेंजा निवासी रामसुरेश सिंह उर्फ लंगा यादव, अहिरौली निवासी कृष्णा यादव, मुसाफिर गंज निवासी राहुल यादव उर्फ बंटी यादव, चिलहरी निवासी नीलेश कुमार उर्फ खखनू, ब्रह्मपुर के जोगियां निवासी कुबेर मिश्रा उर्फ रविंद्र कुमार, मित्रलोक कॉलोनी निवासी आलोक ठाकुर, भोजपुर के पीरो निवासी लंबू शर्मा उर्फ मुन्ना शर्मा, चुरामनपुर निवासी शेखर पांडेय उर्फ शेखर सुमन, मुगल बाजार मुंगेर निवासी दिलीप कुमार साह, ब्रह्मपुर के कठार निवासी अभिषेक सिंह, भोजपुर के बीबीगंज निवासी भरत महतो, सिकरौल के भदार निवासी अरूण सिंह उर्फ नादा सिंह, ब्रह्मपुर के रहथुआ निवासी रमन सिंह, भोजपुर के तरारी निवासी अंशु कुमार के अलावा बक्सर चीनी मिल निवासी रौशन कुमार के नाम शामिल हैं।

यह भी पढ़ें: Exclusive: बिहार में हॉप शूट्स की नकली खेती! खोजा तो कहीं नहीं मिली यह लखटकिया सब्‍जी ...अब होगी कार्रवाई

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021