मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

पटना [जागरण टीम]। मुंगेर, नालंदा, भागलपुर व समस्‍तीपुर के बाद अब बिहार के नवादा जिले में माहौल खराब होने करने की कोशिश की गई। नवादा में एक धार्मिक स्‍थल में असामाजिक तत्‍वों द्वारा तोड़फोड़ किये जाने से लोग आक्रोशित हो गए और जमकर बवाल किया। उग्र भीड़ को नियंत्रित करने के लिए पुलिस को हवाई फायरिंग करनी पड़ी। पुलिस-प्रशासन की तत्‍पराता के बाद स्थिति को नियंत्रित कर लिया गया। इस बीच भाजपा नेता सीपी ठाकुर ने लोगों से सौहार्द बनाये रखने की अपील की है।
जानकारी के अनुसार, राजमार्ग 31 पर नवादा बाइपास में गुरुवार की सुबह जमकर बवाल हुआ। सड़क जाम, रोड़ेबजी, पुलिस फायरिंग की घटना के बाद डीएम-एसपी को स्वयं सड़क पर उतरना पड़ा। रैफ जवानों के सहयोग से उपद्रवियों को खदेड़ा गया। इस दौरान कई वाहनों के शीेशे तोड़े गए। कई प्रेस छायाकारों के कैमरे तोड़ दिए गए। एक बाइक व दो दुकानों में आग लगा दी गई। कड़ी मशक्कत के बाद हालात पर काबू पाया गया। धार्मिक स्‍थल में तोड़फोड़ करने के बाद लोग उग्र हुए। प्रशासन पता करने में जुटी है कि यह करतूत किसकी है।
बताया जाता है कि एनएच 31 से पूरब भदौनी पंचायत भवन के समीप धार्मिक स्‍थल पर तोड़फोड़ किया गया था। इसके बाद लोग जमा होने लगे। बात तेजी से फैली तो बड़ी संख्या में लोग वहां जमा हो गए और राजमार्ग को जाम कर दिया। इस दौरान कुछ लोगों को पीट दिया गया। इसके बाद दूसरे पक्ष के लोग भदौनी की ओर से बढ़े तब दोनों ओर से जमकर पथराव व रोड़ेबाजी शुरू हो गई।
सूचना के बाद नगर थाना की पुलिस वहां पहुंची। स्थिति को संभालने के लिए पहुंचे स्वाट दल ने सड़क जाम कर रहे लोगों पर बल प्रयोग कर खदेडऩा शुरू कर दिया। तब लोग और आक्रोशित हो गए और पुलिस को निशाने पर लेते हुए रोड़ेबाजी शुरू कर दी।
पुलिसकर्मियों को लोगों ने खदेड़ कर बुधौल बस पड़ाव तक पहुंचा दिया। तब आत्मरक्षार्थ पुलिस र्किमयों को हवाई फायरिंग करनी पड़ी। इस दौरान तस्वीर ले रहे कई प्रेस छायाकारों के कैमरे तोड़ दिया। एक बाइक को आग के हवाले कर दिया जबकि दूसरे को भी क्षतिग्रस्त किया गया। मामला शांत होता कि दूसरे पक्ष के लोगों ने जाम में फंसे कई वाहनों के शीशे तोड़ दिए और चालक-खलासी के साथ मारपीट किया। उधर सछ्वावना चौक के समीप एक टायर दुकान सहित दो दुकानों को आग के हवाले कर दिया गया।
पहुंचे डीएम-एसपी
उपद्रव की खबर के बाद डीएम कौशल कुमार, एसपी विकास बर्मन, एसडीएम सदर राजेश कुमार, एसडीपीओ सदर विजय कुमार झा, नगर थानाध्यक्ष अंजनी कुमार दलबल से पहुंचे और उपद्रवियों को खदेड़ा। तत्काल रैफ जवानों को भी बुला लिया गया। काफी मशक्कत के बाद हालात पर काबू पाया गया। इसके बाद वाहनों का परिचालन शुरू कराया गया।
स्थिति तनावपूर्ण लेकिन नियंत्रण में
घटना के बाद शहर की स्थिति तनावपूर्ण बनी हुई है। प्रशासन स्थिति को नियंत्रित करने के लिए हर चौक-चौराहों के साथ ही धाॢमक स्थलों पर पुलिस बलों की तैनाती कर दी है। डीएम-एसपी ने लोगों से अफवाहों से बचने और शांति-व्यवस्था बनाए रखने में सहयोग की अपील की है।
पांच वर्ष पूर्व इसी स्थान से शुरू हुआ था बवाल
साल 2013 के अगस्त महीने में इसी स्थान पर स्थित बाबा का ढ़ाबा होटल से विवाद शुरू हुआ था। जहां चिकन पार्टी के दौरान उत्पन्न विवाद के बाद शहर में कफ्र्यू लगाना पड़ा था। तब दो लोगों की जान चली गई थी। 
सीपी ठाकुर ने सौहार्द बनाये रखने की अपील की
भाजपा के वरिष्ठ नेता पूर्व केंद्रीय मंत्री व सांसद डाॅ सीपी ठाकुर ने बिहार में लगातार बढ़ रहे साम्प्रदायिक हिंसा को लेकर कहा कि ऐसा लग रहा है सूबे में सुनियोजित ढंग से शांति के वातावरण को बिगाड़ने का प्रयास किया जा रहा है। भागलपुर, औरंगाबाद, नालंदा और समस्तीपुर के बाद अब नवादा जिले में भी साम्प्रदायिक तनाव दुःखद है।
डाॅ. ठाकुर ने कहा नवादा में जो घटना घटी जिसमें वहां हनुमान जी की मूर्ति को खंडित किया गया, वह निन्दनीय है। उन्होने कहा पूरे बिहार में आसमाजिक तत्वो द्वारा अशांति फैलाने की साजिश की जा रही है। इसपर विशेष ध्यान रखकर शतर्कता के साथ ऐसे असमाजिक तत्वों को नियंत्राण में रखने की आवश्यकता है। ऐसे लोगो पर अविलम्ब कार्रवाई किया जाये। डाॅ. ठाकुर ने समाज के सभी लोगो से अपील किया कि अपने विवेक का परिचय देते हुये आपसी सौहार्द बनाये रखें।

बता दें कि भागलपुर के नाथनगर में हुए बवाल के बाद मुंगेर, समस्‍तीपुर, नालंदा के बाद नवादा में भी असामाजिक तत्‍वों ने माहौल खराब करने की कोशिश की। मुंगेर में पटरी पर लौट रही विधि व्यवस्था गुरुवार को एक बार फिर से बेपटरी हो गई। बुधवार को दो नंबर गुमटी पर से प्रतिमा हटाए जाने के विरोध में एक पक्ष के लोग गुरुवार की सुबह सड़क पर उतर आए। सैकड़ों की संख्या में सड़क पर उतरीं महिला, बच्चे और युवाओं ने सड़क जाम कर पुलिस प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी शुरू कर दी।
रोसड़ा में भाजपा नेता समेत 13 लोगों की गिरफ्तारी पर भड़का आक्रोश
समस्‍तीपुर जिले के रोसड़ा शहर में मंगलवार को हुए बवाल मामले में भाजपा नेता सहित 13 लोगों की गिरफ्तारी पर फिर आक्रोश भड़क उठा। गुरुवार सुबह भीड़ रोसड़ा थाने पहुंची। लोग पुलिस पर एकपक्षीय कार्रवाई का आरोप लगाते हुए विरोध करने लगे। वे गिरफ्तार लोगों को मुक्त करने पर अड़े थे। इसी बीच रैफ के जवानों ने निषेधाज्ञा उल्लंघन करते देख लोगों को खदेड़ा, हल्की लाठियां चटकाईं। इससे कुछ देर के लिए अफरातफरी रही। रोसड़ा बाजार भी बंद रहा। मंगलवार की घटना को लेकर तीसरे दिन भी निषेधाज्ञा जारी रही वहीं इंटरनेट सेवा भी बाधित रही।
सिलाव में 71 नामजद व एक हजार अज्ञात पर प्राथमिकी
नालंदा जिले के सिलाव में रामनवमी के दौरान शोभा यात्रा में बुधवार को सिलाव में हुए उपद्रव के बाद प्रशासन ने 71 नामजद व एक हजार अज्ञात लोगों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की है। बुधवार की रात्रि घर-घर में छापेमारी कर पुलिस ने दो महिला समेत 36 लोगों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया। वहीं पुलिस की मनमानी के विरोध में गुरुवार को सिलाव बाजार बंद रहा।
बता दें कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने पिछले दिनों कहा था कि कुछ लोग माहौल को खराब करने की कोशिश कर रहे हैं, मगर हम ऐसा नहीं होने देंगे। उप मुख्यमंत्री सुशील मोदी ने भी साफ कहा कि प्रशासन के बताए रूट पर ही जुलूस और विसर्जन यात्राएं निकाली जाएं और भड़काऊ गाने ना बजाएं। लेकिन लोग सरकार की अपील को नजरअंदाज कर रहे हैं।

Posted By: Ravi Ranjan

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप