कलेर (अरवल), संवाद सहयोगी। शराबबंदी पर तमाम सख्‍ती के बावजूद सरकारी कर्मी ही अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहे। नालंदा और सारण में हुई बड़ी घटनाओं से भी वे सबक नहीं ले पा रहे हैं। अरवल में कृषि विभाग के एक कर्मचारी ओमप्रकाश सिंह उर्फ पिंटू सिंह को शराब के नशे में गिरफ्तार किया गया है। वह बक्‍सर में कृषि विभाग में मिट्टी जांच प्रयोगशाला में लैब असिस्टेंट हैं।  मूल रूप से भोजपुर जिले के आरा पछियारी टोले के निवासी हैं। कार से धनबाद से आरा जाते समय रास्‍ते में हादसे के बाद पुलिस ने पकड़ा। कार में उसके ससुर और परिवार के लोग भी थे। कार पर बिहार सरकार का बोर्ड (Sign Board of Bihar government)भी लगा है। 

यह भी पढ़ें : वीआइपी में विरोध के सुर, विधायक ने कहा- मुकेश सहनी की लालू वंदना गलत

पान की गुमटी में टक्‍कर के बाद पकड़ाया 

बताया जाता है कि ओमप्रकाश सिंह, अपने ससुर के साथ कार से धनबाद से आरा जा रहे थे। कार ओमप्रकाश ही चला रहे थे। शुक्रवार रात अर‍वल के मेहंदिया बालाजी पेट्रोल पंप के पास एक पान की गुमटी में तेज रफ्तार कार ने टक्‍कर मार दी। लोगों ने इसके बाद कार चला रहे ओमप्रकाश सिंह को पकड़ लिया। इसकी सूचना पुलिस को दी। इसके बाद पुलिस ने पहुंचकर कर्मी को हिरासत में ले लिया। थानाध्‍यक्ष अमित कुमार ने बताया कि बक्‍सर में कृषि विभाग में लैब असिस्‍टेंट के पद पर कार्यरत ओमप्रकाश सिंह को पुलिस ने पकड़ा तो शराब पीने की आशंका हुई। ब्रेथ एनालाइजर मशीन से जांच में शराब पीने की पुष्टि हो गई। हालांकि ओमप्रकाश सिंह के ससुर ने शराब नहीं पी थी। जानकारी के अनुसार ओम प्रकाश उर्फ पिंटू बक्सर से 19 जनवरी को पटना मीटिंग में भाग लेने गए थे। मीटिंग के दौरान ही ससुर की तबियत खराब होने की सूचना मिलने पर वहीं से छुट्टी लेकर ससुराल चले गए थे।

ससुर ने कहा-औरंगाबाद में दामाद ने पी थी शराब 

पूछताछ में आरोपित ने बताया कि उसने धनबाद में शराब पी थी। हालांकि ससुर का कहना था कि दामाद ने औरंगाबाद में शराब पी। पकड़े जाने के बाद ओमप्रकाश ने पुलिस की आरजू-मिन्‍नत की। छोड़ देने की गुहार लगाता रहा। लेकिन थानेदार ने उसकी एक नहीं सुनी और उसे गिरफ्तार कर उत्पादन अधिनियम के तहत केस दर्ज कर लिया गया।  कोविड-19 जांच के बाद उसे जेल भेजने की कार्रवाई की जा रही है। 

Edited By: Vyas Chandra