Move to Jagran APP

रहुई के सैदी मोड़ के पास सरकारी डॉक्टर की गोली मारकर हत्या

रहुई थाना के सैदी मोड़ के पास गुरुवार की सुबह तकरीबन 9.30 बजे बाइक सवार अपराधियों ने घेर कर सरकारी अस्पताल के डॉक्टर को ताबड़तोड चार गोली मार दी। जिससे उनकी मौत घटनास्थल पर ही हो गई। डॉ प्रियरंजन कुमार प्रियदर्शी हरनौत के एपीएचसी में पदस्थापित थे।

By JagranEdited By: Published: Thu, 05 Mar 2020 10:45 PM (IST)Updated: Fri, 06 Mar 2020 06:08 AM (IST)
रहुई के सैदी मोड़ के पास सरकारी डॉक्टर की गोली मारकर हत्या

: रहुई थाना के सैदी मोड़ के पास गुरुवार की सुबह तकरीबन 9.30 बजे बाइक सवार अपराधियों ने बाइक से अस्पताल जा रहे सरकारी डॉक्टर डॉ प्रियरंजन कुमार प्रियदर्शी की गोली मारकर हत्या कर दी। डॉक्टर को चार गोलियां लगी हैं। डॉ. प्रियदर्शी मूलत: नूरसराय के नोसरा गांव के बाशिदे थे। वे इन दिनों हरनौत के गोखुलपुर एपीएचसी में प्रतिनियुक्त थे। उनकी मूल नियुक्ति हरनौत के गोनावां एपीएचसी में थी। डॉक्टर के हत्या के कारणों का पता नहीं चल सका है। हत्यारों की गिरफ्तारी के लिए बिहारशरीफ के हॉस्पीटल मोड़ पर स्वजनों व डॉक्टरों ने करीब दो घंटे तक सड़क जाम कर दिया। मौके पर पहुंचे एसपी नीलेश कुमार ने 24 घंटे के भीतर अपराधियों को पकड़ने का भरोसा दिया, तब जाकर लोन माने और आवागमन शुरू हो सका।

loksabha election banner

बताया जाता है कि डॉक्टर प्रियरंजन बाइक से बिहारशरीफ के नईसराय मोहल्ला स्थित अपनी ससुराल से ड्यूटी पर गोखुलमठ हॉस्पीटल जा रहे थे। रास्ते में घात लगाए बाइक सवार अपराधियों ने सैदी मोड़ पर उनकी बाइक को घेर लिया और ताबड़तोड़ चार गोलियां मार दी। गोली उनके सिर, सीने व पेट में लगी। जिससे मौके पर ही मौत हो गई। डॉ प्रियरंजन हरनौत के पूर्व विधायक जद यू नेता ई. सुनील कुमार के भगीन दामाद थे। इन दिनों वे सपरिवार बिहारशरीफ के नईसराय मोहल्ला स्थित अपनी ससुराल के मकान में रह रहे थे। हत्या का कारण स्पष्ट नहीं हो सका है।

................

सबसे पहले राहगीर संजय की पड़ी नजर, उसी ने पुलिस को खबर की

जिस वक्त डॉक्टर को गोली मारी गई। उस समय मुस्तफापुर और इंदवास गांव के बीच सैदी मोड़ पर कोई नहीं था। थोड़ी देर बाद जिले के चौरिया गांव के बाशिदे संजय कुमार बाइक से बेटे व पत्नी के साथ उस रास्ते से गुजरे। उन्होंने सड़क पर खून से लथपथ हालत में एक व्यक्ति को छटपटाते देखा तो बाइक रोक दी। निकट जाकर देखा तो डॉ प्रियरंजन को पहचान गए। उन्हें उठाने की कोशिश की तो आसपास खोखा गिरा देख पत्नी व बेटे ने मना कर दिया। तब उसने स्थानीय थाना को इसकी जानकारी दी। सूचना मिलते ही पुलिस दल-बल के साथ मौके पर पहुंची और शव को पोस्टमार्टम के लिए बिहारशरीफ ले आई। जानकारी मिलते ही सदर हॉस्पीटल में एसपी नीलेश कुमार, डीएसपी विधि-व्यवस्था संजय कुमार, बिहारशरीफ व दीपनगर थाने की पुलिस पहुंच गई।


Jagran.com अब whatsapp चैनल पर भी उपलब्ध है। आज ही फॉलो करें और पाएं महत्वपूर्ण खबरेंWhatsApp चैनल से जुड़ें
This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.