दरभंगा, जासं। दरभंगा जंक्शन पर हुए पार्सल ब्लास्ट की जांच में राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआइए) की टीम दूसरे दिन मंगलवार को भी प्लेटफार्म संख्या एक पर पहुंची। दिन के 11 बजे पहुंची सात सदस्यीय टीम देर शाम तक अतिविशिष्ट प्रतीक्षालय दरभंगा हॉल में लोगों का बयान दर्ज करती रही। इस दौरान स्टेशन अधीक्षक एके सिंह सहित पैनल रूम के पांच कर्मियों का बयान दर्ज किया। सभी से बारी-बारी घटना के संबंध में जानकारी ली गई। सूत्रों अनुसार सभी से क्या देखा, कैसे घटना हुई, घटना के बाद कैसी रही गतिविधि, स्टेशन के जवाबदेह अधिकारी होने के कारण तत्काल उनके द्वारा क्या कार्रवाई की गई आदि विषयों पर विस्तृत जानकारी ली गई। बयान दर्ज करने दौरान स्टेशन की सुरक्षा और यात्रियों की संख्या पर भी कई सवाल किए गए। सभी सवालों का जवाब मिलने के बाद संबंधितों से हस्ताक्षर भी कराया गया।

हालांकि, इस कार्रवाई को पूरी गोपनीय ढंग से की गई। बयान दर्ज करने के लिए सभी रेल अधिकारियों व कर्मियों को बारी-बारी बुलाया गया था। इस दौरान दरभंगा हॉल के अंदर किसी को प्रवेश नहीं करने दिया गया। इसमें कोई चुक नहीं हो इसे लेकर बाहर में राजकीय रेल पुलिस (जीआरपी) के जवान तैनात थे। हालांकि, जीआरपी थानाध्यक्ष हारूण रशीद लगातार आ रहे थे और जा रहे थे। बताया जाता है कि वे एनआइए अधिकारी के निर्देश का अनुपालन कर रहे थे। थोड़ी-थोड़ी देर पर एनआइए के एक-दो अधिकारी मीडिया से दूरी बनाकर बाहर भी निकल रहे थे। बिना किसी से बात किए स्टेशन का मुआयना कर रहे थे। यात्री किस-किस मार्ग से स्टेशन आते हैं और कैसे बाहर निकलते है उन तमाम मार्गों का अवलोकन कर रहे थे। बता दें कि सोमवार को एनआइए के अधिकारी पार्सल विभाग के पांच कर्मियों सहित घटना स्थल स्थित चाइल्ड लाइन के कर्मी, वेंडर, कुछ यात्रियों सहित कुल दस लोगों का बयान दर्ज किया था। संभावना व्यक्त की जा रही है कि पूरी टीम अभी दरभंगा में रहेगी।

25 जून को पहली बार आई थी टीम :

17 जून को दरभंगा जंक्शन पर हुए पार्सल ब्लास्ट मामले में राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआइए) की टीम दूसरी बार दरभंगा जंक्शन पहुंची है। पहली बार 25 जून को एनआइए की चार सदस्यीय टीम पुलिस अधीक्षक एनके त्यागी के नेतृत्व में आई थी। इस दौरान पार्सल अनलोड करने वाले सुपरवाइजर अरूण कुमार राय सहित तीन गवाहों के बयान दर्ज किए थे। लेकिन, इस बार फिर से इन लोगों का बयान कलमबद्ध किया गया है।

संदिग्धों की खोज में एनआइए कर सकती है छापेमारी :

एनआइए के अधिकारी दो दिनों से दरभंगा में डंटे है। फिलहाल अधिकारी कागजी कार्रवाई करने में जुटे हैं। लेकिन, अंदर ही अंदर बड़ी कार्रवाई की तैयारी है। जानकारों कहना है सात सदस्यीय टीम के दो दिनों से दरभंगा में होना बड़ी कार्रवाई की ओर इशारा करती है। संभावना व्यक्त की जा रही है कि बहुत जल्द कुछ संदिग्धों की खोज में टीम छापेमारी कर सकती है।