मुजफ्फरपुर, जेएनएन। एईएस व चमकी बुखार पर प्रभावी नियंत्रण को लेकर डीएम डॉ. चंद्रशेखर सिंह ने बुधवार को समाहरणालय सभाकक्ष में बैठक की। इसमें स्वास्थ्य विभाग की तैयारियों की समीक्षा की गई। डीएम ने कहा कि पंचायत एवं गांव स्तर पर जन- जागरूकता कार्यक्रम को और तेज गति दें। उन्होंने सदर अस्पताल, एसकेएमसीएच एवं पीएचसी स्तर पर चिकित्सकीय उपलब्धता की भी समीक्षा की । इसके बाद डीएम ने सभी पीएचसी को अलर्ट मोड में कार्य में रहने का निर्देश दिया।

विभिन्न विभागों को आपसी समन्वय के साथ कार्य करते हुए एईएस व चमकी बुखार पर नियंत्रण के मद्देनजर अपने दायित्वों के निर्वहन में गंभीरता बरतने को कहा। डीएम ने कड़े शब्दों में कहा कि इसमें किसी तरह की कोताही व लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी। मामला सामने आने पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

आठ लाख से अधिक हैंडबिल का वितरण

डीएम ने एईएस संबंधित दवाओं, एंबुलेंस एवं ग्लूकोमीटर की उपलब्धता सभी पीएचसी में रोस्टर वाइज चिकित्सकों की प्रतिनियुक्ति आदि की समीक्षा भी की। जिसमें स्वास्थ्य विभाग द्वारा चमकी बुखार को लेकर किए जा रहे प्रचार प्रसार की विस्तृत जानकारी दी गई। स्वास्थ्य विभाग द्वारा बताया गया कि आठ लाख से अधिक हैंडबिल का वितरण कर लिया गया है।

सभी पीएचसी में दो वातानुकूलित बेड

स्वास्थ्य विभाग द्वारा बताया गया कि सभी सीएचसी व पीएचसी में वातानुकूलित दो बेड को एईएस के लिए रखा गया है। डीएच में आठ बेड, केडीकेएम में 40 बेड एवं एसकेएमसीएच में 64 बेड व पीकू वार्ड में 60 अतिरिक्त बेड हैं। सभी संस्थानों में आवश्यक उपकरण उपलब्ध कराए गए हैं। आवश्यक दवाइयों की उपलब्धता भी की गई है। सभी वार्ड में 24 घंटे रोस्टर के अनुसार चिकित्सकों द्वारा ड्यूटी दी जा रही है।

आशा घर-घर जाकर जागरूक कर रहीं

इसके अलावा कोरोना के लिए डोर टू डोर सर्वे के दौरान आठ लाख 42 हजार 256 परिवारों में से आठ लाख 33 हजार 243 को एईएस के बारे में जागरूक किया गया है। यानी 99 फीसदी को जागरूक किया गया है। विभाग द्वारा आगे यह भी बताया गया कि आशा द्वारा घर-घर जाकर एईएस के बारे में लोगों को जागरूक किया जा रहा है।

601 सरकारी भवनों पर दीवार लेखन का कार्य

स्वास्थ्य विभाग की तरफ से बताया गया कि 601 सरकारी भवनों पर दीवार लेखन का कार्य किया गया है। इसके अतिरिक्त 64 सामुदायिक भवन, 243 महादलित टोलों के आंगनवाड़ी केंद्र, 316 महादलित टोला के प्राथमिक विद्यालय और 333 पंचायत भवनों पर भी दीवार लेखन का कार्य किया गया है। इसके अलावा वीडियो एवं ऑडियो क्लिप तैयार कर सभी आशा, आंगनवाड़ी व एएनएम को उपलब्ध करा दिया गया है। इसके अतिरिक्त लगभग 20 हजार सरकारी कर्मियों व पदाधिकारियों को प्रशिक्षित भी किया गया है।  

Posted By: Ajit Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस