Move to Jagran APP

मुंगेर सदर अस्पताल में शराब पीकर हंगामा कर था डॉक्टर, DM तक पहुंच गई खबर; फिर पुलिस ने ऐसे सिखाई सबक

Bihar News मुंगेर सदर अस्पताल में शराब पीकर हंगामा करने वाले चिकित्सक को गिरफ्तार किया गया है। उनकी गिरफ्तारी बेलन बाजार स्थित आवास से की गई। ब्रेथ एनालाइजर से की गई जांच और मेडिकल जांच में शराब पीने की पुष्टि हुई है। इसके बाद चिकित्सक को उत्पाद पुलिस अपने साथ ले गई। अब पुलिस आगे की कार्रवाई में जुट गई है।

By Jagran News Edited By: Mukul Kumar Published: Thu, 16 May 2024 09:43 AM (IST)Updated: Thu, 16 May 2024 09:43 AM (IST)
प्रस्तुति के लिए इस्तेमाल की गई तस्वीर

संवाद सहयोगी, मुंगेर। शराब पीकर हंगामा करने के मामले में सदर अस्पताल के चिकित्सक डा. असीम को उत्पाद विभाग की पुलिस ने बुधवार को गिरफ्तार कर लिया। उनकी गिरफ्तारी बेलन बाजार स्थित आवास से की गई। ब्रेथ एनालाइजर से की गई जांच और मेडिकल जांच में शराब पीने की पुष्टि हुई है।

इसके बाद चिकित्सक को उत्पाद पुलिस अपने साथ ले गई। जानकारी के अनुसार बुधवार दोपहर को इमरजेंसी वार्ड में डॉ. रामप्रवेश सिंह की डयूटी लगी थी। इसी दौरान डॉ. असीम पोस्टमार्टम रिपोर्ट लिखने अस्पताल के इमरजेंसी वार्ड पहुंचे। जब डॉ. रामप्रवेश ने पूछा तो वह उनसे उलझ गए।

डीएम ने उत्पाद विभाग की टीम को सूचना दी

डॉ. रामप्रवेश ने इसकी शिकायत सिविल सर्जन डा. विनोद कुमार सिन्हा से की। इसके बाद सीएस ने जिलाधिकारी को सूचना दी। शिकायत होता देख डॉ. असीम वहां से निकल गए। डीएम ने उत्पाद विभाग की टीम को सूचना दी।

इसके बाद टीम ने आवास पर पहुंचकर चिकित्सक को हिरासत में लिया और मेडिकल जांच के लिए उन्हें अस्पताल लाया। उत्पाद विभाग की थानाध्यक्ष पल्लवी कुमारी ने बताया कि मेडिकल जांच में भी शराब पीने की पुष्टि हुई है। जांच में 188.2 मिलीग्राम शराब की मात्रा उनके खून में मिली है।

गुरुवार देर शाम को डॉ. असीम को न्यायालय में भी पेश किया गया। डॉ रामप्रवेश सिंह ने बताया कि डॉ. असीम ने शराब पीकर आपातकालीन विभाग में हंगामा किया था। सीएस ने बताया कि उन्हें पूर्व में भी कई बार चेतावनी दी गई थी।

यह भी पढ़ें-

Muzaffarpur News : 9 घंटे में सौ मीटर की दूरी पर दो हादसे, जवानों को ले जा रहीं बसें दुर्घटनाग्रस्त; 51 जख्मी

NEET Exam Paper Leak : प्रश्नपत्र लीक करने वालों के बीच मचेगी खलबली! अब CBI जांच की मांग, कोर्ट तक पहुंचा मामला


This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.