Move to Jagran APP

KK Pathak : '...बच्चियों को नहीं भेजेंगे स्कूल', शिक्षा विभाग के इस फैसले के खिलाफ खड़े हुए अभिभावक

KK Pathak बिहार के जमुई में नवम कक्षा में नामंकन की शिक्षा विभाग की अनिवार्यता बच्चियों की पढ़ाई पर संकट खड़ा कर दिया है। शिक्षा विभाग के इस निर्देश से अभिवावक भी परेशान नजर आ रहे हैं। अभिभावकों का साफ कहना है कि घर से दूर के स्कूलों में बच्चियों को पढ़ने नहीं भेजेंगे क्यों न हमें पढ़ाई बंद करवाना पड़े।

By Arvind Kumar Edited By: Shashank Shekhar Published: Tue, 16 Apr 2024 02:35 PM (IST)Updated: Tue, 16 Apr 2024 02:35 PM (IST)
KK Pathak : '...बच्चियों को नहीं भेजेंगे स्कूल', शिक्षा विभाग के इस फैसले के खिलाफ खड़े हुए अभिभावक (फाइल फोटो)

संवाद सूत्र, बरहट (जमुई)। KK Pathak जमुई के बरहट पंचायत के स्कूलों में नवम कक्षा में नामंकन की शिक्षा विभाग की अनिवार्यता बच्चियों के शैक्षणिक भविष्य पर रोक लगा रहा है। शिक्षा विभाग के इस निर्देश से परेशान अभिवावक दो टूक कह रहें कि घर से दूर सुदूरवर्ती के स्कूलों में बच्चियों को पढ़ने नहीं भेजेंगे, चाहे इनकी पढ़ाई ही बंद क्यों न कराना पड़े।

विभाग और अभिवावक के निर्णय के बीच पिसती बच्चियों का रो-रोकर बुरा हाल है। इसकी बानगी प्रखंड के राजकीय शुक्रदास उच्च विद्यालय में देखने को मिली। बरहट पंचायत व नुमंर पंचायत की सीमा पर बरहट पंचायत अंतर्गत इस स्कूल में नुमंर पंचायत की छात्राएं रोते हुए नामांकन लेने की गुहार प्रधानाध्यापक से लगाई।

प्रधानाध्यापक ने नियम से बंधे होने का हवाला देते हुए प्रखंड विकास पदाधिकारी व उच्च अधिकारी से बात करने की बात कही। बच्चियां अभिवावक समेत प्रखंड कार्यालय पहुंच गए, लेकिन चुनाव कार्यालय में व्यस्त रहने के कारण कार्यालय में मौजूद नहीं थे।

छात्राओं ने इस आदेश पर क्या कुछ कहा 

नवम वर्ग में नामांकन करवाने पहुंची बच्चियां संगम कुमारी, अंजनी कुमारी, प्रीति कुमारी, बिंदू कुमारी, प्रतिमा कुमारी, खुशबू कुमारी, शिल्पी कुमारी, रूपा कुमारी, गरिमा कुमारी, वैशाली कुमारी समेत दर्जनों छात्राओं ने बताया कि हम लोगों ने अपने गांव के ही स्कूल से आठवीं कक्षा पास की।

नवमीं कक्षा में नामांकन के लिए जब घर से दस कदम की दूरी पर प्लस टू शुक्रदास उच्च विद्यालय में गए तो विद्यालय के प्रधानाचार्या ईला कुमारी ने बताया कि विभाग की ओर से जारी पत्र में तुम्हारे विद्यालय के बच्चों का नामांकन नहीं लेना है। सिर्फ बरहट पंचायत के बच्चों का ही नामांकन लेने का आदेश है।

बताया कि तुम्हारे विद्यालय का नामांकन प्लस टू उच्च विद्यालय पचेश्वरी में होगा। छात्राओं ने बताया कि पचेश्वरी हम लोगों के घर से दो किलोमीटर दूर जंगल की ओर है। रास्ता भी सुनसान है। उधर, अक्सर शराबी, बदमाश लोग घूमते रहते हैं, जिससे डर बना रहता है।

मामले में अभिभावकों का क्या है कहना

अभिभावक दीपनारायण यादव, शोभन यादव, रंजीत यादव, जितेंद्र यादव, भूपेंद्र यादव समेत कई लोगों ने बताया कि पचेश्वरी घर से दो किलोमीटर दूर सुनसान जगह पर पड़ता है। जंगली क्षेत्रों में बच्चियों को पढ़ने के लिए भेजने से डर बना रहेगा। घर की इज्जत को बचाना है। जब इज्जत ही नहीं रहेगा तो पढ़ाने से क्या फायदा?

इस संबंध में प्लस टू शुक्रदास उच्च विद्यालय के प्रधानाचार्य ईला कुमारी ने बताया कि विभाग द्वारा निर्गत आवंटित विद्यालय का ही नामांकन लेने का आदेश दिया गया है।  बता दें कि कई छात्र भी इस नियम से पिस रहे हैं।

शिक्षा विभाग की ओर पंचायत स्तर से ही नामांकन लेने का आदेश विद्यालय को मिला है। बच्चियों की समस्या को देखते हुए जिला शिक्षा पदाधिकारी से बात की जाएगी। बच्चियों के अभिभावक को भी जिला शिक्षा पदाधिकारी को अपनी समस्या से अवगत करवाना चाहिए। - श्रवण कुमार पांडेय, बीडीओ, बरहट।

ये भी पढ़ें- 

KK Pathak Letter : केके पाठक ने अब चुनाव आयोग को लिख डाली चिट्ठी, कर दी ये मांग

परीक्षा लेनी है हुजूर, कुछ उधार दे दीजिए... केके पाठक की जिद के आगे बेबस विश्विविद्यालय; ऐसा हुआ हाल


This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.