जहानाबाद, जेएनएन। विसर्जन जुलूस पर पथराव से प्रतिमा क्षतिग्रस्त होने पर बुधवार की देर रात दो पक्षों के बीच हुई हिंसक झड़प को लेकर शुक्रवार को भी तनाव बना हुआ है। लगातार दूसरे दिन भी कई जगह उपद्रव होने की खबर है। फायरिंग भी हुई है। पूरा शहर अघोषित कर्फ्यू जैसा है। शहर की तमाम दुकानें पूरी तरह बंद हैं। इंटरनेट सेवा भी लगातार दूसरे दिन बंद है। घरों में लोग कैद हैं। माइक से प्रचार किया जा रहा है कि जरूरत पड़ने पर ही घर से लोग निकलें। पूरे शहर में धारा 144 लागू है। लॉ एंड ऑर्डर के एडीजी अमित कुमार समेत कई जिलों की पुलिस वहां मार्च कर रही है। इसी बीच, शुक्रवार को 22 वर्षीय युवक की गोली मारकर हत्‍या किये जाने की घटना हुई है। वहीं अब तक 36 लोगों को हिरासत में लिया गया है। 

जानकारी के अनुसार, जाफरगंज मोहल्ले में दरवाजे पर बैठे छात्र विष्णु कुमार की कुछ लोगों ने गोली मारकर हत्या कर दी। छात्र की हत्या की खबर फैलते ही गौरक्षणी, पंचमहला, प्यारी मोहल्ला, आंबेडकर नगर, जाफरगंज, सोइया घाट आदि जगहों पर जमकर रोड़ेबाजी हुई। सोइया घाट में दो पक्षों के बीच गोलियां चलीं। इसमें मिथुन कुमार नामक युवक जख्मी हो गया। उसे गंभीर हालत में पीएमसीएच रेफर किया गया है। शहर की उंटा सब्जी मंडी के समीप धार्मिक स्थल में लूटपाट की गई। कई दुकानों और एक ऑल्टो कार में उपद्रवियों ने आग लगा दी। इतना ही नहीं, मृत युवक के पोस्‍टमार्टम के समय खुद जहानाबाद के डीएम नवीन कुमार व एसपी मनीष मौजूद रहे।  

आज भी उपद्रवियों के सामने पुलिस व प्रशासन के लोग बेबस नजर आए। जिला प्रशासन के अनुसार तीन दर्जन से अधिक लोगों को हिरासत में लिया गया है। दिनभर हुए पथराव में पंचमहला मोहल्ले के पूर्व वार्ड पार्षद शैलेश कुमार, जाफरगंज मोहल्ले के मो. शाहिद, परवेज समेत करीब दर्जन भर लोग घायल हुए हैं। परवेज स्थानीय उंटा मध्य विद्यालय में शिक्षक नियोजन की काउंसलिंग में भाग लेने आया था। 

बता दें कि गुरुवार को पथराव के साथ शरारती तत्वों ने कई स्थानों पर आगजनी की घटना को अंजाम दिया था। दुकानों में तोडफ़ोड़ तथा लूटपाट की गई थी। इस दौरान सड़क पर खड़ी कई बाइकों में भी आग लगा दी गई थी। इतना ही नहीं, कल से ही एडीजी लॉ एंड ऑर्डर अमित कुमार व मगध रेंज के आइजी पारसनाथ रैफ जवानों तथा भारी पुलिस बल के साथ वहां कैंप कर रहे हैं। दोनों अधिकारियों ने माहौल को सामान्य बनाने के लिए आवश्यक निर्देश दिए हैं।

डीएम नवीन कुमार, एसपी मनीष, डीडीसी मुकुल कुमार गुप्ता, एसडीओ निवेदिता कुमारी, एसडीपीओ प्रभात भूषण श्रीवास्तव आदि मामला शांत कराने में जुटे हुए हैं। माइक से प्रचार भी किया जा रहा है कि जरूरी हो तो तभी घर से निकलें। दुकानों के साथ ही स्‍कूल-कॉलेज-कोचिंग सभी बंद हैं। बिगड़ती स्थिति पर काबू पाने के लिए शहर को पुलिस छावनी में तब्दील कर धारा 144 लागू कर दी गई है। शांति स्थापित करने के लिए अधिकारियों ने पुलिस बल के साथ फ्लैग मार्च लगातार जारी है। संवेदनशील स्थानों पर प्रशासन विशेष चौकसी बरत रहा है। शांति का प्रयास वरीय अधिकारी कर रहे हैं। 

क्या है मामला 

बुधवार की देर शाम विभिन्न पूजा पंडालों से मां दुर्गा की प्रतिमा लेकर श्रद्धालु विसर्जन के लिए जा रहे थे। श्रद्धालुओं का आरोप है कि इसी दौरान किसी शरारती तत्व ने प्रतिमा पर पत्थर फेंककर उसे क्षतिग्रस्त कर दिया। इसके बाद दोनों पक्षों में रोड़ेबाजी होने लगी। श्रद्धालुओं ने शरारती तत्वों की गिरफ्तारी होने तक मूर्ति विसर्जन नहीं करने का निर्णय लिया। 

Posted By: Kajal Kumari

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप