Move to Jagran APP

Lalu Yadav: लालू के गांव को VIP पसंद, राबड़ी के मायका में नीतीश का डंका; इस बार रिजल्ट ने सभी को चौंकाया

Bihar Politics बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री व राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के गांव के लोगों को वीआइपी पसंद आया। वहीं उनकी पत्नी पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी के मायके में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की पार्टी का डंका बजा। यह सामने आया है 18वें लोकसभा चुनाव के बूथवार डाटा में। इन दोनों के क्षेत्र में इस बार चौंकाने वाला रिजल्ट सामने आया है।

By manish kumar Edited By: Sanjeev Kumar Fri, 07 Jun 2024 05:28 PM (IST)
राबड़ी देवी और लालू यादव (जागरण फोटो)

मनीष कुमार, गोपालगंज। Bihar Lok Sabha Result 2024: बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री व राष्ट्रीय जनता दल (राजद) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के गांव के लोगों को वीआइपी पसंद आया। वहीं, उनकी पत्नी पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी के मायके में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की पार्टी का डंका बजा। यह सामने आया है 18वें लोकसभा चुनाव के बूथवार डाटा में।

लालू के गांव को वीआईपी पसंद

लालू के गांव में आइएनडीआइए के घटक दल विकासशील इंसान पार्टी (वीआईपी) को जनता दल (यूनाइटेड) की तुलना में 675 मत अधिक मिले हैं। आइएनडीआइए के घटक दलों में राजद भी शामिल है। इसके ठीक विपरीत लोगों का जनादेश राबड़ी देवी के मायके में रहा।

यहां राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) के घटक दल जदयू काे वीआइपी की तुलना में 134 मत अधिक मिले। लालू प्रसाद यादव का पैतृक गांव फुलवरिया, जबकि राबड़ी देवी का मायका सेलार कला गांव है। ये दोनों ही गांव फुलवरिया प्रखंड में हैं। बात पूरे फुलवरिया यानी, लालू व राबड़ी के गृह प्रखंड की करें तो यहां के लोगों का जनादेश जदयू के समर्थन में रहा। जदयू को वीआइपी की तुलना में 3,803 मत अधिक मिले। जदयू को 24,114, जबकि वीआइपी को 20,311 मत प्राप्त हुए।

गोपालगंज संसदीय क्षेत्र की अलग ही पहचान

बता दें कि बिहार की राजनीति में गोपालगंज संसदीय क्षेत्र की अलग पहचान है। वर्ष 2009 के लोकसभा चुनाव में इसका परिसीमन बदल गया। यह सामान्य से अनुसूचित जाति के लिए सुरक्षित हो गया। गोपालगंज सुरक्षित लोकसभा सीट के लिए 25 मई को मतदान हुआ था।

इस बार 11 प्रत्याशी प्रत्याशी मैदान में थे, जिनमें चार निर्दलीय शामिल हैं। गोपालगंज लोकसभा क्षेत्र में कुल छह विधानसभा की सीटें हैं। बैकुंठपुर, बरौली, गोपालगंज सदर, कुचायकोट, भोरे (सुरक्षित) व हथुआ विस क्षेत्र गोपालगंज जिले के ही अधीन हैं। इनपर भाजपा, जदयू व राजद के दो-दो विधायक हैं। भाजपा की कुसुम देवी गोपालगंज सदर व रामप्रवेश बरौली के विधायक हैं।

जदयू से सुनील कुमार भोरे एवं अमरेंद्र कुमार पांडेय उर्फ पप्पू पांडेय कुचायकोट के विधायक हैं। सुनील कुमार वर्तमान में नीतीश कैबिनेट में शिक्षा मंत्री भी हैं। इसी प्रकार राजद के प्रेमशंकर प्रसाद बैकुंठपुर एवं राजेश कुमार सिंह हथुआ के विधायक हैं। पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव एवं राबड़ी देवी के गृह जिले गोपालगंज (गोपालगंज लोकसभा क्षेत्र) में मुख्य लड़ाई राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन के घटक दल जदयू एवं आइएनडीआइए के घटक दल वीआइपी के बीच रही।

चार जून को हुई मतगणना में जदयू प्रत्याशी डा. आलोक कुमार सुमन जीत हासिल कर लगातार दूसरी बार सांसद बन गए। जदयू को 5,11,866, जबकि वीआइपी को 3,84,686 मत मिले। यानी, वीआइपी की तुलना में जदयू को 1,27,180 मत अधिक मिले। पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव एवं राबड़ी देवी का गांव हथुआ विधानसभा क्षेत्र में है। इस विस क्षेत्र में वीआइपी की तुलना में जदयू को 25,449 मत अधिक प्राप्त हुए। जदयू काे 85,431, जबकि वीआइपी को 59,982 मत मिले।

आंकड़ों पर गौर करें तो लालू प्रसाद के गांव फुलवरिया में दो मतदान केंद्र बनाए गए थे। प्राथमिक विद्यालय फुलवरिया पांडे टोला स्थित मतदान केंद्र संख्या-45 बायां भाग पर कुल मतदाताओं की संख्या 1,008 है। इनमें 501 पुरुष मतदाता, जबकि 507 महिला मतदाता शामिल हैं।

इसी विद्यालय में स्थित मतदान केंद्र संख्या-46 दायां भाग पर कुल मतदाताओं की संख्या 1,182 है। इनमें 590 पुरुष मतदाता, जबकि 592 महिला मतदाता शामिल हैं। लालू के फुलवरिया गांव में दोनों बूथों पर कुल मतदाताओं की संख्या 2,190 है। मतदान केंद्र संख्या-45 पर जदयू को 85, जबकि वीआइपी को 343 मत मिले। इसी प्रकार मतदान केंद्र संख्या-46 पर जदयू को 79, जबकि वीआइपी को 496 मत प्राप्त हुए। पूरे फुलवरिया गांव की बात करें तो जदयू को 164, जबकि वीआइपी को 839 मत मिले।

अब जानिए राबड़ी के मायके का हाल

इसी प्रकार राबड़ी देवी के मायके सेलार कला गांव में एक मतदान केंद्र था। राजकीय प्राथमिक विद्यालय सेलार कला स्थित मतदान केंद्र संख्या-66 पर कुल मतदाताओं की संख्या 1,472 है। इनमें 750 पुरुष मतदाता, जबकि 722 महिला मतदाता शामिल हैं। इस मतदान केंद्र पर जदयू को 366, जबकि वीआइपी को 232 मत मिले। लालू के गांव में 27, जबकि राबड़ी के मायके में 50 लोगों ने नोटा का बटन दबाया।

राबड़ी देवी के मायके सेलार कला गांव की जनता नाराज

राबड़ी देवी के मायके आदर्श गांव सेलार कला के एक ग्रामीण ने नाम नहीं छपने की शर्त पर बताया कि वर्तमान में गांव में समस्याएं बहुत हैं। पूर्व की सरकार, जिसका नाता यहां से जुड़ा हुआ है, उसने अपने गांव के लिए अन्य गांवों से अलग हटकर कुछ विशेष नहीं किया।

इस कारण जनता हमेशा नाराज रहती है। एक अन्य ग्रामीण ने बताया कि जदयू सांसद ने गांव के दिव्यांगों के बीच सहायक उपकरण वितरित कराने के अलावा वर्षों से बंद पड़े सबेया एयरपोर्ट को भी चालू करने की बात की है। यह समाज के हित में श्रेयस्कर है। इसके अलावा अन्य ग्रामीणों ने कहा कि गांव से जुड़े नेता यहां पहुंचकर ग्रामीणों से मिलते तक नहीं, तो विकास की भला क्या बात करेंगे?

यह भी पढ़ें

Ramkripal Yadav: रामकृपाल यादव का खेल किसने किया खराब? राज से हट गया पर्दा; सियासी हलचल हुई तेज

Bihar Election Result 2024: बिहार में भाजपा-जदयू के साथ कैसे हो गया खेला? यहां समझिए पूरा हिसाब-किताब