दरभंगा [जेएनएन]।  भदहा गांव के नरेंद्र मोदी चौक पर गुरुवार रात भाजपा कार्यकर्ता रामचंद्र यादव (70) की तलवार से काटकर हत्या कर दी गई। वे हमलावरों को यह समझा रहे थे कि वे प्रधानमंत्री के नाम से गालीगलौज न करें। हमलावर नरेंद्र मोदी चौक का नाम बदलकर लालू प्रसाद चौक करने को तुले थे। वे खुद को राजद समर्थक बता रहे थे। बचाव में आए उनके पुत्र को भी गंभीर रूप से जख्मी कर दिया।
नरेंद्र मोदी और लालू प्रसाद के नाम को लेकर दो पक्षों में विवाद और हत्या का यह अपनी तरह का पहला मामला है, जिसके बाद दरभंगा में तनाव है।

नाम बदलकर करना चाहते थे लालू प्रसाद चौक
सदर थाना क्षेत्र के भदहा गांव निवासी तेजनारायण यादव बहला पंचायत के भाजपा अध्यक्ष हैं। उन्होंने गांव के चौक का नाम दिसंबर 2016 को नरेंद्र मोदी चौक रख दिया। बगल के लुआम और बिजली गांव में दूसरे समुदाय के लोग रहते हैं। वे खुद को राजद समर्थक कहते हैं। वे इस चौक का नाम लालू प्रसाद के नाम पर रखना चाह रहे थे, मामला पुलिस तक गया था, लेकिन सुलझ नहीं सका।
20-25 की संख्या में बाइक से आए थे हमलावर
गुरुवार को विवाद और बढ़ गया। देर रात तकरीबन ढाई बजे 20-25 बाइक पर सवार लोग हथियार के साथ नरेंद्र मोदी चौक पहुंचे। ये लोग नरेंद्र मोदी मुर्दाबाद के नारे लगाने के साथ उन्हें गाली देने लगे। भाजपा नेता तेज नारायण ने विरोध किया तो लोग उनसे भिड़ गए।
स्थिति बिगड़ती देख भाजपा नेता के पिता रामचंद्र यादव (70 वर्ष) ने तेज नारायण को वहां से हटा दिया। वे विरोध करने वालों को समझाने लगे कि प्रधानमंत्री को गाली क्यों दे रहे हैं? इस पर हमलावरों ने तलवार से उनके सिर पर प्रहार कर दिया। दूसरा वार उनके हाथ पर किया।
इसके बाद गर्दन पर हमला कर सिर धड़ से अलग कर दिया। बीच-बचाव में आए भाजपा नेता के भाई कमल यादव (20 वर्ष) पर भी तलवार से हमला कर दिया। वे गंभीर रूप से जख्मी हो गए। भीड़ बढऩे पर हमलावर फरार हो गए।

पुलिस ने लिखी भूमि विवाद की प्राथमिकी, परिजन नाराज
रामचंद्र यादव के परिजन घटना का कारण चौक का नामकरण नरेंद्र मोदी के नाम से करने को बता रहे हैं। उन्होंने पुलिस की भूमिका पर नाराजगी जताई। आरोप लगाया कि पुलिस इसे भूमि विवाद का मामला बताकर निर्दोष लोगों को पकड़ रही है। तेजनारायण ने कहा कि घटना भूमि विवाद से नहीं जुड़ा है। जिन लोगों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है, वे निर्दोष हैं।
नाराज भाजपा समर्थकों ने शुक्रवार को कर्पूरी चौक के पास करीब तीन घंटे तक सड़क जाम कर हंगामा किया। अनुमंडल पदाधिकारी और डीएसपी के ठोस कार्रवाई एवं दोबारा बयान लेकर प्राथमिकी में दोषियों के नाम जोडऩे के आश्वासन पर जाम समाप्त हुआ।
एसएसपी सत्यवीर सिंह ने कहा कि  यह कोई चौक नहीं है। वीरान जगह पर मात्र एक दुकान है। इस विवाद में पहले भी रामचंद्र यादव के एक पुत्र फूलदेव यादव की हत्या हो चुकी है। पुलिस ने दिलीप महतो, रामसेवक यादव और लाल यादव को गिरफ्तार किया है। सभी भदवा गांव के निवासी हैं। अन्य की गिरफ्तारी के लिए छापेमारी की जा रही है। जिलाधिकारी छॉ. चंद्रशेखर सिंह ने कहा कि किसी को भी कानून व्यवस्था से खिलवाड़ नहीं करने दिया जाएगा।

स्पीडी ट्रायल चलाकर दोषियों को सजा देने की मांग
इधर, भाजपा विधायक संजय सरावगी ने डीजीपी केएस त्रिवेदी से मिलकर इस हत्याकांड के असली आरोपितों की गिरफ्तारी के साथ स्पीडी ट्रायल चलाकर उन्हें सजा दिलाने की मांग की है।  जिला भाजपा अध्यक्ष हरि सहनी ने इस हत्याकांड को जघन्य बताया।

Posted By: Kajal Kumari

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप