आरा। भोजपुर जिले के चांदी थाना क्षेत्र के बहियारा गांव में मंगलवार की रात एक अधेड़ की ईंट व पत्थर से मारकर हत्या कर दी गई। इसके बाद उसके शरीर पर गर्म पानी उड़ेल दिया गया । जिससे शरीर पूरी तरह झुलस गया। बुधवार की सुबह साढ़े दस बजे सब्जी के खेत से शव बरामद होने के बाद आसपास के इलाके में सनसनी मच गई है। मृतक 58 वर्षीय हरिद्वार पासवान बहियारा गांव निवासी स्व.महावीर पासवान के पुत्र थे ।वह गांव पर ही रह कर सब्जी की खेती करते थे। बुधवार को शव का पोस्टमार्टम सदर अस्पताल में कराया गया। घटना का कारण पता नहीं चल सका है। ---

घर से खेत में गए थे रखवाली करने

बताया जा रहा कि बहियारा निवासी हरिद्वार पासवान मंगलवार की सुबह करीब नौ बजे खेत में दवाई छिड़काव करने गए गए थे। साथ में भतीजा सुनील कुमार भी था। इस बीच दवाई छिड़काव करने के बाद भतीजा करीब दोपहर 12 बजे घर वापस चला आया। उसके चाचा हरिद्वार पासवान खेत में ही आम के पेड़ के नीचे आराम करने चले गए। जब वह शाम में वापस खेत में गया तो वह खेत में नहीं थे। लोगों ने सोचा कि वह कहीं गए होंगे। कुछ देर बाद वापस चले आएंगे। हालांकि देर शाम होने के बाद जब वह घर वापस नहीं आए तो उन्होंने काफी खोजबीन की। लेकिन, कुछ पता नहीं चल पाया था। बुधवार की सुबह जब वह खेत जा रहा था, तभी उसने शव को खेत में पड़ा देखा। जिसके बाद परिजनों ने इसकी सूचना चांदी थाना को दी। देखने से प्रतीत हो रहा कि ईंट-पत्थर से मारपीट करने के बाद शरीर पर गर्म पानी फेंका गया है। पुलिस अपने स्तर से इस मामले की छानबीन कर रही है।

-------

बच्चों के सिर से उठा पिता का साया

बताया जाता है कि हरिद्वार पासवान के परिवार में पत्नी विमल देवी, छह पुत्री फुलवंती देवी, रेशमी देवी, कुसुम देवी, सुषमा देवी, लक्ष्मी देवी व लीला देवी एवं एक पुत्र उपेंद्र पासवान है। शव मिलने के बाद मृतक के घर में हाहाकार मच गया। इस घटना के बाद मृतक की पत्नी विमल देवी एवं परिवार के सभी सदस्यों का रो-रोकर बुरा हाल था।

----

अधिया पर लिया था खेत

मृतक हरिद्वार पासवान चंदा सिंह का अधिया पर जमीन लेकर खेती करता था। बहियारा बांध से खनगांव जाने वाले बांध वाले रास्ते में ही पावर हाउस के पीछे कुछ दूर मिर्च का खेत है। वह प्रतिदिन खेत की रखवाली करने जाता था।

--

शराब निर्माण के लिए कुख्यात है सोन का किनारा, धंधेबाजों से हत्या का कनेक्शन जुड़ने की संभावना

ग्रामीणों ने बताया कि बहियारा और उसके आसपास सोन के किनारे अवैध शराब की बिक्री व निर्माण धड़ल्ले से होता है्। शराब निर्माण की दर्जनों भट्टियां सक्रिय हैं। जिस जगह पर हरिद्वार का खेत है। उससे थोड़ी दूर पर ही दर्जनों भट्टियां औऱ अवैध शराब के बिक्री के ठिकाने है। खेत में गर्म पानी से झुलसने की कोई संभावना ही नही है।हरिद्वार के शरीर पर जो जले के निशान है वे शराब निर्माण के दौरान गर्म होने वाले पानी का हो सकता है। शराब के अड्डे पर किसी बात को लेकर वाद विवाद हुई होने की संभावना जतायी जा रही है। जिसके बाद उसके शरीर पर खौलता पानी फेंक दिया गया हो जिससे उसकी मौत हो गई। इसके बाद शव को खेत में फेंक दिया गया।

Edited By: Jagran