जासं, आरा : भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता व पूर्व केंद्रीय मंत्री सैयद शाहनवाज हुसैन ने कहा कि नीतीश-तेजस्वी सरकार के तीन महीने की हनीमून अवधि में राजद-जदयू के बीच की लड़ाई सतह पर आ गई। इतनी कम अवधि में दो-दो मंत्रियों ने इस्तीफा दे दिया। कृषि मंत्री सुधाकर सिंह का इस्तीफा जदयू-राजद गठबंधन के बीच आई दरार का परिणाम है। अधिकारियों के खिलाफ आवाज उठाने का खमियाजा कृषि मंत्री को भुगतना पड़ा। शाहनवाज यहां रविवार को बिहटा में बालू माफिया द्वारा घायल किए गए भाजपा कार्यकर्ता से मिलने के बाद संवाददाताओं से बातचीत कर रहे थे। उन्होंने मुख्यमंत्री पर अधिकारियों की मनमानी का समर्थन का आरोप लगाया।

उन्होंने कहा कि राजद के प्रदेश अध्यक्ष जगदानन्द सिंह और बाद में भाई बीरेंद्र द्वारा 2023 में तेजस्वी को मुख्यमंत्री बनाने संबंधी बयान के बाद जदयू नेताओं के बीच बेचैनी बढ़ गई है। जदयू नेता राजद के प्रदेश अध्यक्ष के बयानों पर पलटवार करने लगे हैं। वहीं राजद के बयान से नीतीश कुमार भी आहत हैं। नीतीश कुमार को प्रधानमंत्री बनाने के सवाल पर शाहनवाज हुसैन उखड़ गए। कहा कि सोनिया गांधी ने जिन्हें दिल्ली में मिलने के लिए पंद्रह मिनट से अधिक का समय भी नहीं दिया, उन्हें विपक्ष की तरफ से पीएम उम्मीदवार कैसे स्वीकार किया जा सकता है। पीएम बनने का सपना लेकर राहुल गांधी भारत जोड़ो यात्रा पर निकले हुए हैं और लालू और नीतीश सोनिया को ये बताने गए थे कि उनके पुत्र के सपने को तोड़ने का फार्मूला लेकर आए हैं। उन्होंने दावा किया कि आगामी लोकसभा चुनाव में बिहार में भाजपा 36 सीटें जीतेगी और 2025 के विधानसभा चुनाव में अपने दम पर एक अणे मार्ग में भाजपा का मुख्यमंत्री बैठाएगी। जिलाध्यक्ष डा. प्रेम रंजन चतुर्वेदी ने सभा संचालन किया। इस मौके पर पूर्व विधायक संजय सिंह टाइगर, राजेंद्र तिवारी, कौशल विद्यार्थी भी मौजूद थे।

Edited By: Akshay Pandey

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट