Move to Jagran APP

Bihar News: चार दिनों से बिजली गुल, फिर भी स्मार्ट मीटर एप में कट रहे पैसे; दुकानदार हो रहे परेशान

Smart Prepaid Meter बिहार के भोजपुर के सरैयां प्रखंड में लोगों के लिए स्मार्ट मीटर लोगों के लिए परेशानी का सबब बन रहा है। ग्रामीण इलाकों में बहुत लोगों के पास स्मार्ट फोन नहीं है जिसके चलते रिचार्ज करने में परेशानी हो रही है। इसके अलावा दूसरी सबसे बड़ी शिकायत यह आ रही है कि बिजली नहीं होने के बावजूद स्मार्ट मीटर से पैसे कट रहे हैं।

By Rakesh Kumar Tiwari Edited By: Sanjeev Kumar Wed, 10 Jul 2024 05:51 PM (IST)
बिहार के भोजपुर में स्मार्ट मीटर को लेकर परेशान हो रहे लोग (जागरण)

संवाद सूत्र, बड़हरा (भोजपुर)। Bhojpur News: भोजपुर के प्रखंड सरैयां बाजार के दुकानदार समेत अन्य लोगों के लिए स्मार्ट मीटर जंजाल बनते जा रहा है। ग्रामीण विनोद ठाकुर ने बताया कि ग्रामीण इलाकों में बहुत से लोगों के पास स्मार्ट फोन नहीं है। उन लोगों को अपने स्मार्ट मीटर को रिचार्ज कराने के लिए दर-दर भटकना पड़ता है। अपने स्मार्ट मीटर को रिचार्ज करने के लिए ग्रामीणों को काफी समस्याओं का सामना करना पड़ता है।

बिजली नहीं आती फिर भी स्मार्ट मीटर से कट रहे पैसे

टोल फ्री नंबर 1912 पर फोन करने के बाद भी इनके समस्या का कोई समाधान नहीं हो पाता है। दुकानदार अभिषेक कुमार उपाध्याय ने बताया कि विगत शुक्रवार से मेरे दुकान में बिजली नहीं आ रही है। इसके बावजूद प्रतिदिन मीटर से 8 से 10 रुपया बिल कट जाता है। इस समस्या के शिकायत करने पर कोई सुनवाई नहीं होता है।

दुकानदार नागेंद्र कुमार सिंह ने सुनाई आपबीती

दुकानदार नागेंद्र कुमार सिंह ने बताया कि दुकान में चार दिन से बिजली गायब है। इसके बावजूद प्रतिदिन स्मार्ट मीटर का बिल कट रहा है। बिजली नहीं आने से दुकान भी प्रभावित रहता है। साथ में बिजली बिल भी देना पड़ रहा है। ग्रामीण मृदुल उपाध्याय ने बताया कि पहले की तुलना में अभी स्मार्ट मीटर से बिजली का बिल ज्यादा आ रहा है। वहीं, बड़हरा के जूनियर इंजीनियर शिव प्रसाद ने बताया कि लोगों को किसी प्रकार की समस्या है, तो पावर सब स्टेशन में चले जाएं, उनकी समस्या का समाधान हो जायेगा।

ये भी पढ़ें

Pappu Yadav: 'मैं मुसलमान भाइयों के पैर पकड़ता हूं...', रुपौली पर पप्पू यादव ने खेल दिया दांव, क्या होगा खेला?

Prashant Kishor: '2025 चुनाव के बाद नीतीश कुमार...', प्रशांत किशोर के दावे से सियासी पारा हाई; अब क्या करेगी JDU?