संवाद सहयोगी, जमालपुर (मुंगेर)। रेल से सफर करने वाले यात्रियों को 34 घंटे बाद राहत मिली। ट्रेन परिचालन सामान्य होने पर यात्रियों के चेहरे खिले दिखे। रोजना की तरह मंगलवार को भी ट्रेनों में सवार होकर गंतव्‍य के लिए गए। जमालपुर-भागलपुर-किऊल रेलखंड की ट्रेनें भी पुराने और निर्धारित रूट से चलने लगी। सभी ट्रेनें समय पर गई। दरअसल, बड़हिया स्टेशन पर ट्रेन ठहराव को लेकर ग्रामीणों ने रेल चक्का जाम कर दिया था। यात्रियों का यह आंदोलन लंबा चला। रेलवे के आलाधिकारियों से लेकर प्रशासनिक अधिकारी भी परेशान रहे। सोमवार की रात रेलवे के आश्वासन पर यात्री मानें और जाम से हटे।

मंगलवार को विक्रमशिला, ब्रह्मपुत्र मेल, साहिबगंज दानापुर, भागलपुर दानापुर इंटरसिटी, भागलपुर मुजफ्फरपुर जनसेवा सहित दो दर्जन ट्रेनों का परिचालन समय से हुआ। ट्रेनों का परिचालन सामान्य होते ही यात्रियों की चहल-कदमी भी स्टेशन पर बढ़ गयी है।

ट्रेन नहीं चलने से परेशान थे यात्री

रविवार की सुबह से सोवार की रात नौ बजे तक जमालपुर, बरियारपुर, धरहरा, कल्याणपुर स्टेशनों पर यात्री परेशान रहे। सोमवार को पटना के लिए जमालपुर से एक भी ट्रेनें नहीं गुजरीं। ट्रेनें रद और दूसरे मार्ग से चलने के कारण तीन हजार से ज्यादा यात्रियों ने टिकटें भी रद कराई। टिकट रद कराने पर राशि की कटौती नहीं हुई। यात्रियों की परेशानी इसलिए और ज्यादा बढ़ गया है कि पटना जाने के लिए एक भी ट्रेनें नहीं मिली।

कोच में खचाखच भीड़

मंगलवार को पटना के लिए पहली ट्रेन जमालपुर स्टेशन पर इंटरसिटी मिली। पटना की ट्रेनें पूरी तरह यात्रियों से खचाखच रही। इस पर सवार होने के लिए यात्रियों की भीड़ उमड़ पड़ी। कोच में पैर रखने की जगह नहीं दिखी। जमालपुर स्टेशन पर बड़ी संख्या में यात्री पहुंचे। जमालपुर स्टेशन के पूछताछ केंद्र पर यात्रियों की भीड़ रही। साधारण टिकट काउंटर पर यात्री टिकट लेने के लिए कतारबद्ध रहे, वहीं आरक्षण काउंटर पर अन्य दिनों की तरह यात्रियों ने रिजर्वेशन कराया।

Edited By: Dilip Kumar Shukla