नवगछिया ।

तीन दिन पूर्व इस्माइलपुर प्रखंड के पुरानी दुर्गा मंदिर स्थित गंगा नदी के समीप डाल्फिन की मौत को लेकर सोमवार को भागलपुर डीएफओ भरत चितापल्ली ने अपने कनीय अधिकारियों के साथ स्थल का निरीक्षण किया। साथ ही स्थानीय लोगों से बातचीत की। उन्होंने डाल्फिन की मौत को दुर्भाग्यपूर्ण बताया। कहा कि इसकी जांच होगी। इसके पीछे जो भी व्यक्ति होंगे उस पर कार्रवाई की जाएगी। डीएफओ ने मौके पर मौजूद पशु चिकित्सक, नवगछिया रेंज पदाधिकारी एवं डाल्फिन मित्र से कई तरह की जानकारी ली। जनप्रतिनिधि के माध्यम से स्थानीय स्तर पर मछुआरों एवं अन्य जल जीव के शिकार करने वालों के बारे में पूछा। डाल्फिन के मुंह में लगे फंदे एवं बांस के बल्ले को लेकर भी पूछताछ की। उन्होंने बताया कि अभी जांच चल रही है कि डाल्फिन की मौत कैसे हुई हैं। मृत डाल्फिन गंगा नदी के किनारे कैसे पहुंचा। मृत डाल्फिन का पोस्टमार्टम हो गया हैं। आगे कार्रवाई जारी हैं। ज्ञातव्य हो कि भागलपुर डाल्फिन सेंचुरियन है। यहां पर डाल्फिन संरक्षण के लिए डाल्फिन मित्र से लेकर के कई तरह की व्यवस्था की गई है। डाल्फिन की मृत्यु को लेकर विभाग के प्रधान सचिव ने भी जांच करने का निर्देश दिया है। प्रधान सचिव दीपक कुमार ने बताया कि डाल्फिन की मृत्यु की पूरी जानकारी ली जा रही है।

डाल्फिन क्या है डाल्फिन एक स्तनधारी जलीय जीव है। जो गंगा नदी में अधिकतर संख्या में रहना पसंद करती है, वह एक ऐसी जलीय जीव है, जिसकी आंख और कान नहीं होता है। इसकी मृत्यु होना दुर्भाग्यपूर्ण है।

Edited By: Jagran

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट