संवाद सहयोगी, किशनगंज। गृह मंत्री अमित शाह के किशनगंज शहर स्थित लाइनपाड़ा स्थित ऐतिहासिक बुढ़ी काली मंदिर में शनिवार को पूजा अर्चना करेंगें। अमित शाह किशनगंज पहुंच चुके हैं और मंदिर की तैयारियां भी अंतिम चरण में हैं। पहली बार किसी केंद्रीय मंत्री और बड़े नेता के मंदिर में पूजा अर्चना के आगमन को लेकर लोगों में काफी उत्साह है। मंदिर में विराजमान माता काली के मंदिर का इतिहास भी लोग काफी पुराना बताते हैं। करीब 121 वर्ष पुरानी है बुड़ी काली मंदिर का इतिहास है।

लोगों में इस मंदिर के प्रति काफी आस्था है। मंदिर में पूजा अर्चना से लोगों की मन्नतें पूरी होती है। बताया जाता है कि कई वर्ष पहले यह स्थान जंगलों से घिरा था तब डाकू माता की फोटो रख त्रीशूल गाड़ पूजा करने के बाद ही बाहर निकलते थे। 2005 में स्थानीय जज व अन्य के सहयोग से मंदिर का भव्य निर्माण करवाया गया।

स्थानीय बुजुर्ग बताते हैं कि जमाने से कहानी रही है कि पहले यहां घना जंगल था। तब डाकू माता काली की फोटो रख पूजा करते थे। आधुनिकता के साथ ही लोगों के विकास के बाद अन्य लोग भी मंदिर देख यहां पूजा करने लगे। इसके बाद मिट्टी की बेदी बना माता स्थापित किया गया। गोबर से रंगाई कर लोग इसकी पूजा करते थे। वहीं लोगों के सहयोग से मंदिर में विकास होता रहा। आज भी मंदिर में कुंवारे युवक युवतियों की मनोकामना हमेशा पूर्ण होती है। इसके साथ ही कुंवारे कभी माता की प्रतिमा को मान्यतानुसार हाथ नहीं लगाते। इस मंदिर में स्थापित माता काली काफी प्रसिद्ध है। लोगों में मंदिर के प्रति काफी आस्था है। इस मंदिर में गृह मंत्री के आगमन को लेकर लोगों में काफी उत्साह है।

एक घंटे तक मंदिर में रहेंगे गृहमंत्री

गृहमंत्री अमित शाह सुबह करीब नौ बजे काली मंदिर पहुंचेंगे। इस दौरान करीब एक घंटे तक अन्य लोगों के प्रवेश पर रोक रहेगी। मंदिर पुजारी अमित शाह को पूजा कराएंगे। गृहमंत्री के आगमन को लेकर मंदिर के स्वरूप को बदलकर सजा दिया गया है। पूजा अर्चना की व्यवस्था के साथ मंदिर में सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए हैं।

Edited By: Dilip Kumar Shukla