Move to Jagran APP

कहीं दुष्कर्म का विरोध करने पर हत्या, कहीं FIR वापस लेने से इनकार पर चटाया थूक; बेगूसराय में बेखौफ दबंगों का आतंक

बिहार के बेगूसराय में दंबंग अपराधी का आतंक अनुसूचित जाति व वचिंतों के खिलाफ कहर बनकर टूट रहा है। बेगूसराय के छौड़ाही में शनिवार को दबंगों ने एक अनुसूचित महिला का दुष्कर्म का विरोध करने पर गला रेत दिया। यह पहला मामला नहीं है। छौड़ाही में बीते एक पखवाड़े में 6 एफआईआर अनुसूचित जाति के महिला पर अत्याचार अमानवीय व्यवहार करने से संबंधित दर्ज हुई है।

By Balwant Chaudhary Edited By: Mohit Tripathi Published: Sun, 09 Jun 2024 07:36 PM (IST)Updated: Sun, 09 Jun 2024 07:36 PM (IST)
बेखौफ दबंगों का अनुसूचित जाति की महिलाओं पर टूट रहा कहर। (सांकेतिक फोटो)

संवाद सूत्र, छौड़ाही (बेगूसराय)। शनिवार को दबंगों ने एक अनुसूचित जाति की महिला का दुष्कर्म का विरोध करने पर गला रेत दिया। यह पहला मामला नहीं है। छौड़ाही थाना क्षेत्र से विगत एक पखवाड़े में छह प्राथमिकी अनुसूचित जाति के महिला पर अत्याचार, अमानवीय व्यवहार करने से संबंधित अंकित हुई है। महिलाओं के साथ बर्बरता की गई। अनुसूचित जाति की दो नाबालिग किशोरी अभी तक गायब है।

पांच मामलों में से मात्र एक मामले में एक आरोपित गिरफ्तार हुए हैं। घटना की सत्यता जांचने एवं दंड देने का काम तो पुलिस प्रशासन व न्यायालय का है। परंतु, अधिकतर मामलों में पुलिस की कार्रवाई पर लोग सवाल खड़े कर रहे है।

केस नंबर: 1

थाना क्षेत्र के एक गांव में 20 मई को एक अनुसूचित जाति की महिला एवं उसके स्वजनों के साथ दबंगों ने पूर्व में की गई प्राथमिकी उठाने से इनकार करने पर बर्बरता की। उन्हें सड़क पर नग्न कर खींचते हुए पीटा गया और थूक चटाया गया।

दैनिक जागरण में प्रमुखता से समाचार प्रकाशित हुई और 22 मई को अनुसूचित जाति व जनजाति थाना में प्राथमिकी अंकित हुई।

पीड़ित कहते हैं कि छौड़ाही पुलिस ने छह दिन बाद आरोपित से आवेदन लेकर प्राथमिकी करते हुए भयादोहन का काम कर रही है। डीएसपी साहब भी आए थे लेकिन इसके बाद भी दबंग अपराधी गांव में घूम-घूम कर धमकी दे रहा है।

केस नंबर: 2

13 मई को थाना क्षेत्र के सिंहमा गांव के जन वितरण प्रणाली के दुकानदार चंद्रिका महतो एवं अन्य आरोपित ने अनुसूचित जाति की 14 वर्षीय किशोरी का सोते समय अपहरण कर लिया।

विरोध करने पर स्वजनों को पीटा गया और थाना जाने से भी रोका गया। 21 मई को प्राथमिकी कराई गई लेकिन पुलिस अब तक एक भी आरोपित गिरफ्तार नहीं कर सकी है।

केस नंबर: 3

थाना क्षेत्र के बाजितपुर गांव में 26 मई की संध्या दबंगों ने पहले बाइक ठीक नहीं करने पर अनुसूचित जाति के बाइक मिस्त्री अनिल दास को पीट कर अधमरा कर दिया। उनके घर की महिलाओं को पीटा गया।

परिवार के चार सदस्य गंभीर रूप से घायल हुए।   घायल छौड़ाही सीएचसी एवं सदर अस्पताल बेगूसराय में इलाज करा रहे हैं।

थाना में आवेदन देने के पांच दिन बाद दूसरे पक्ष के लोगों ने जब आवेदन दिया तब दोनों तरफ से प्राथमिकी अंकित हुई। उन्होंने बताया कि पुलिस जांच करने तक नहीं आई है।

केस नंबर: 4

12 मई को थाना क्षेत्र के एक गांव से एक 16 वर्षीय अनुसूचित जाति की नाबालिक किशोरी का अपहरण कर लिया गया। किशोरी आनलाइन फार्म भरने छौड़ाही बाजार जा रही थी, आरोपित मंटू कुमार उर्फ दइया के घर गए किशोरी के स्वजनों को पीटा गया।

पंचायती के नाम पर 15 दिन तक उन्हें थाना जाने से भी रोके रखा। इसके बाद भी किशोरी की वापस नहीं होने पर स्वजनों ने उसके साथ दुष्कर्म कर हत्या कर देने की आशंका जताते हुए छौड़ाही थाना में 26 मई को प्राथमिकी कराई।

आरोपित युवक पूर्व में भी एक महिला की हत्या मामले में जेल से छूटकर गांव आया था। पुलिस ने अपहरण के आरोपित युवक के पिता संजय सिंह को गिरफ्तार कर जेल भेजा है। परंतु अभी तक अपहृता को पुलिस बरामद नहीं कर सकी है।

क्या कहते हैं थाना अध्यक्ष?

इस संदर्भ में छौड़ाही थाना अध्यक्ष पवन कुमार सिंह का कहना है कि सभी मामलों में त्वरित कार्रवाई और अनुसंधान की जा रही है। जल्द ही आरोपित गिरफ्तार होंगे।


This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.