बांका। भारत बंद का खामियाजा आम जनता के साथ-साथ सुल्तानगंज से जल भरकर जलाभिषेक करने बाबाधाम जा रहे वाहन सवार कांवरियों को भी भुगतना पड़ा। अल सुबह चार बजे सुल्तानगंज से निकली वाहन बड़ी मुश्किल से दोपहर बाद तक बेलहर पहुंची थी। गोरगामा के पास सड़क जाम होने के चलते वाहनों का पहिया वहीं थम गया। काफी मिन्नत बाद भी बंद समर्थकों ने वाहनों को आगे नहीं बढ़ने दिया। थकहार कर अंतत: पुरुष व बच्चे कांवरिया जामस्थल पर ही इधर उधर बैठकर जाम टूटने का इंतजार करने लगे। सुल्तानगंज से तीर्थयात्रा की शुरुआत कर देवघर, बासुकीनाथ, तारापीठ, रजरप्पा, राजगीर की यात्रा पर निकले वैशाली हाजीपुर अंतर्गत हरौली थाना क्षेत्र के शहवाजपुर गांव के लक्ष्मण साह, लालबिहारी साह, भगनारायन साह, राजपति देवी, निर्मला देवी, उमरावती देवी, रामप्रभा देवी, चनपति देवी, हेमंती देवी, राजकुमारी देवी आदि ने बताया कि दो बस पर करीब सौ से अधिक कांवरिया सवार हैं। जिसमें कुछ बच्चे भी शामिल है। अल सुबह चार बजे ही सुल्तानगंज से जल भरकर निकले हैं। दोपहर के साढ़े 12 बजे तक यहां पहुंचे हैं। बंद समर्थक आगे बढ़ने ही नहीं दे रहे थे। खासकर बच्चे भूखे प्यासे बिलबिला रहे थे। बाद में सभी को आगे जाने दिया गया।

Posted By: Jagran