नई दिल्ली, ऑटो डेस्क। भारत सरकार ने 1 अप्रैल 2020 से सभी कारों में बीएसVI मानक यानि भारत स्टेज VI मानक इंजन वाली कारों को ही अनिवार्य किया है। इसके अलावा भारत में बीएसVI मानक इंजन वाली कारों की बिक्री पर रोक लगा दी जाएगी। सुप्रीम कोर्ट ने पर्यावरण में लगातार बढ़ रहे प्रदूषण को देखते हुए भारत स्टेज एमिशन नॉर्म्स को लागू किया गया है। अब बीएसVI लागू होने के बाद सबसे ज्यादा चिंता का विषय यह है कि 2020 की शुरुआत में पेट्रोल की कीमतों में इजाफा हो जाएगा। वहीं जो लोग कार खरीदने के बारे में विचार कर रहे हैं उनके लिए कौन सा समय ज्यादा किफायती साबित हो सकता है।

जब भारत में 1 अप्रैल 2020 से BS-VI वाली कारें आएंगी तो जाहिर सी बात है इनकी कीमत में पहले के मुकाबले इजाफा होगा। 2020 की शुरुआत से ही कारों की कीमतें बढ़ने लगेंगी, जिसको देखते हुए 2020 से पहले वाहन खरीदना ज्यादा किफायती साबित हो सकता है। यहां हम आपको यह बता रहे हैं कि 2020 की शुरुआत से बीएसVI इंजन वाली कारें क्यों महंगी मिलेंगी।

पेट्रोल कारें हो सकती है ज्यादा महंगी

बताया जा रहा है कि बीएस-VI आने के बाद पेट्रोल कारों की कीमतें पेट्रोल ज्यादा हो सकती हैं। पेट्रोल वाली कारों को बीएस-VI में कन्वर्ट करना ज्यादा महंगा है और यह प्रक्रिया भी काफी बड़ी है। कार निर्माता कंपनियों को इंजन को बदलने में समय लग रहा है और पैसा लग रहा है, जिसके चलते कारों की कीमतों में इजाफा होनी की संभावना है। मारुति सुजुकी की बात करें तो बीएस-VI नॉर्म्स लागू होने पर मारुति सुजुकी अपनी पेट्रोल कारों में स्ट्रॉन्ग हाइब्रिड सिस्टम भी लाएगी। इस सिस्टम के जरिए पेट्रोल कारों का माइलेज 30 फीसद तक बढ़ सकता है।

फिलहाल देश में ऑटो इंडस्ट्री सुस्ती के दौर से गुजर रही है और लगातार कारों की बिक्री में कमी आ रही है। ऐसे में बहुत सी कार निर्माता कंपनियां अपनी कारों पर भारी डिस्काउंट दे रही हैं। वहीं दिवाली के आसपास लगभग सभी कंपनियां कारों पर डिस्काउंट की पेशकश करेंगी, जिसकी वजह से कारों की कीमत और भी ज्यादा कम हो जाएगी। तो ऐसे में 2020 की शुरुआत से पहले कार खरीदना ज्यादा किफायती साबित हो सकता है, क्योंकि 2020 की शुरुआत में साल बदलने और इंजन मानक बदलने के चलते कीमतों में काफी इजाफा हो सकता है। देश में बहुत सी कंपनियां अगले साल से बीएस-VI लागू होने के बाद अपनी डीजल कारों को बंद कर सकती हैं या कई मॉडल में बदलाव भी कर सकती है। डीजल कारें कम होने की वजह से ग्राहकों पेट्रोल कारों की तरफ ज्यादा आकर्षित होंगे, जिसके चलते भी पेट्रोल कारों की कीमतें बढ़ने की उम्मीद है।

यह भी पढ़ें: Maruti Suzuki दे रही साल का सबसे बड़ा ऑफर, बेहद सस्ती हुई ये कारें

यह भी पढ़ें: 33.54 km तक का माइलेज देती हैं भारत में बिकने वाली ये किफायती CNG कारें

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस