नई दिल्ली (अंकित दुबे)। भारतीय बाजार में एसयूवी सेगमेंट काफी तेजी से बढ़ रहा है और ऐसे में कई कार कंपनियां इसी सेगमेंट पर तेजी से जोर दे रही हैं। हालांकि, कारों में बढ़ती टेक्नोलॉजी भी बाजार में ऐसे पैर पसार रही है कि कुछ ही समय में कहीं गाड़ियां सचमुच आपसे बात ना करने लगे। खैर ये तो शुरुआत है, लेकिन भारतीय बाजार में अब कनेक्टेड कार और इंटरनेट कारों की काफी चर्चाएं हो रही हैं और हो भी क्यों ना, क्योंकि इस तरह की टेक्नोलॉजी भारत में आ ही पहली बार रही है। सब-कॉम्पैक्ट सेगमेंट में Hyundai Venue के बाद अब SUV सेगमेंट में MG Motor (Morris Garages) ने अपनी MG Hector की पेशकश से एसयूवी सेगमेंट को पसंद करने वाले लोगों को काफी हैरानी में डाला हुआ है। ऐसा इसलिए भी क्योंकि कंपनी इसे देश की पहली इंटरनेट कार का नाम दे रही है और यह आपसे कई पहलुओं पर बात भी कर सकती है।

दक्षिणी भारतीय राज्य तमिलनाडू के कुन्नूर (Coonoor) क्षेत्र में MG Motor ने जागरण ऑटो को देश में लॉन्च होने वाली MG Hector या कहें पहली इंटरनेट कार की टेस्ट ड्राइव के लिए बुलाया, जहां हमने MG Hector के पेट्रोल और डीजल वेरिएंट को करीब 100-100 किलोमीटर तक चलाया। कुन्नूर पहाड़ों पर बसा हुआ है और ऊटी (Ooty) के बाद तमिल नाडू का दूसरा बड़ा पहाड़ माना जाता है, जहां की वादियां और चाय की खेती आपको किसी जन्नत से कम नहीं लगेंगी। खैर, इन्हीं वादियों में हमने MG Hector की ड्राइव की है और अब आपको बताते हैं कि इस एसयूवी में क्या खास है, डिजाइन और फीचर्स हमें कैसे लगे और परफॉर्मेंस के हिसाब से इसने हमें कितना खुश किया?

डिजाइन और लुक्स में क्या है खास?

MG Hector का हमने Candy White कलर चलाया जो दिखने में हमें ज्यादा खास नहीं लगा, जबकि इसका Glaze Red कलर हमें दिखने में काफी आकर्षक लगा। सबसे पहले हम इसके डिजाइन की बात करें तो फ्रंट से यह आपको काफी बड़ी लगती है। इसमें दी गई हनी कॉम्ब ग्रिल पर अच्छी क्वालिटी वाले प्लास्टिक का इस्तेमाल किया है और दोनों हेडलाइट्स को क्रोम से जोड़ा गया है, जो काफी अच्छा लगता है। ग्रिल के बीच में बड़ा सा MG का लोगो दिया गया है। इसके अलावा कंपनी ने इसमें सभी लाइट्स में LED दी हैं, चाहें वह फ्रंट में फ्लोटिंग लाइट टर्न इंडीकेटर, LED DRLs, LED हेडलैंप्स और फॉग लैंप्स हो या फिर रियर में फॉग लैंप्स और टेल लैंप्स। यहां आपको सभी LED मिलती हैं, जिसकी वजह से रात के समय में इनकी विजिबिलिटी काफी अच्छी रहती है। साइड प्रोफाइल की बात करें तो यहां एक टिपिकल SUV जैसा लुक मिलता है। डुअल टोन्ड मशीन्ड एलॉय काफी अच्छे दिखते हैं और इसमें हमें विंडो बेल्टलाइन पर क्रोम की फिनिशिंग ज्यादा पसंद आई, जो काफी आकर्षक लगती है। रियर लुक्स की बात करें तो LED टेल लैंप्स आपस में जुड़ी हुई दिखती हैं, लेकिन एग्जॉस्ट के ऊपर का हिस्सा आपको एक 4x4 एसयूवी की तरह उठा हुआ दिखता है। हालांकि, कंपनी इसे थोड़ा और बेहतर बना सकती थी। कुल मिलाकर डिजाइन काफी बेहतर है और साइड में Internet Inside की बैजिंग आपको काफी प्यारी लगेगी और रियर लुक भी शार्क फिन एंटेना के साथ इसका काफी हैवी दिखता है।

डायमेंशन की बात करें तो इसकी लंबाई 4655 mm, ऊंचाई 1760 mm और व्हीलबेस 2750 mm है, जो कि अपने सेगमेंट में Jeep Compass और Tata Harrier से ज्यादा है। वहीं, इसकी चौड़ाई 1835 mm है, जो कि Jeep Compass से ज्यादा और Tata Harrier से कम है। इसके अलावा इसका ग्राउंड क्लियरेंस 198 mm का है, जो एसयूवी के लिहाजे से पर्याप्त है।

इंटीरियर डिजाइन

इंटीरियर की बात करें तो इसमें आपको ऑल ब्लैक थीम नजर आएगी, लेकिन विंडो से लेकर रूफ तक आपको Off-White कलर मिलता है। इसके अलावा कंपनी ने सभी सीटों पर अच्छी ग्रेड वाले लेदर का इस्तेमाल किया है, यहां डोर ट्रिम्स, डैशबोर्ड और ड्राइवर आर्मरेस्ट पर भी लेदर का इस्तेमाल है। केबिन के फ्रंट में भी अच्छी क्वालिटी वाला प्लास्टिक दिया गया है। हालांकि, यहां सॉफ्ट टच की कमी महसूस होती है।

केबिन के फ्रंट में जो सबसे आकर्षक आपको लगता है वह इसमें दिया गया वर्टिकल शेप में टचस्क्रीन इन्फोटेनमेंट सिस्टम है। बीच के दो AC वेंट्स भी वर्टिकल शेप्ड में हैं। इसके अलावा इसमें 7 इंच का कलर MID यूनिट दी गई है, जो नेविगेशन, म्यूजिक, कॉलिंग और TPMS इन्पुट्स की जानकारी देती है। फ्रंट सीटें काफी आरामदायक हैं और यहां थाई सपोर्ट काफी अच्छा मिलता है। स्टीयरिंग व्हील पर भी लेदर से लिपटा हुआ है।

सेकंड रो की सीटों की बात करें तो यहां भी आपको काफी आरामदायक सीटें दी गई हैं, जो लंबी यात्रा आपके लिए काफी आरामदायक साबित हो सकती है। थाई सपोर्ट अच्छा है, लंबी हाईट वालों के लिए बेहतर Knee रूम, लेग रूम और हेड रूम मौजूद है, क्योंकि जैसा कि पहले बताया इसकी ऊंचाई और लंबाई अपने सेगमेंट में काफी ज्यादा है। यहां 8 कलर्स वाली एम्बिएंट लाइटिंग के अलावा फ्रंट और रियर में LED रीडिंग लाइट्स भी मिलती हैं। इसके अलावा कंपनी ने 587 लीटर का बूट स्पेस दिया है, जो काफी बड़ा लगता है। यहां हमने काफी सामान रखा हुआ था।

फीचर्स

पेट्रोल वेरिएंट में सिर्फ ड्राइवर सीट 6-Way इलेक्ट्रिकली एडजस्टेबल है। वहीं, डीजल वेरिएंट में ड्राइवर 6-Way और को-पैसेंजर 4-Way इलेक्ट्रिकली एडजस्टेबल दी गई हैं। इसके अलावा कंपनी ने सुंदर दृश्य देखने के लिए डुअल Pane पैनोरामिक सनरूफ, पावर्ड टेलगेट ऑपनिंग, रेन सेंसिंग वाइपर्स, हीटेड ORVM, ऑटो हैडलैंप्स और क्रूज कंट्रोल दिए हैं।

इन्फोटेनमेंट सिस्टम की बात करें तो कंपनी ने इसमें 10.4 इंच का बड़ा HD टचस्क्रीन दिया है, जिसका रेश्योल्यूशन काफी बेहतर है। इसकी टच क्वालिटी भी अच्छी है। स्टीयरिंग व्हील पर इसके ऑडियो कंट्रोल्स दिए गए हैं, जो काफी क्वालिटी बटन लगते हैं। कनेक्टिविटी फीचर्स के तौर पर कंपनी ने इसमें i-Smart टेक्नोलॉजी शामिल की है, जो 50 से ज्यादा कनेक्टेड कार फीचर्स के साथ उपलब्ध है। इसमें M2M (मोबाइल टू मशीन) एम्बेडेड सिम दी है जो 5-G रेडी है हालांकि, जब तक 5G टेक्नोलॉजी नहीं आ जाती तब तक यह 4G पर ही चलेगी। यह ओवर-द-एयर अपडेट्स, रिमोट व्हील कंट्रोल, नेविगेशन, वॉयस असिस्टेंड, E-Call, I-Call, जियोफेंसिंग, स्मार्ट ड्राइव और फाइंड माय कार से कई फीचर्स से लैस है। इनको एक्सेस करना काफी आसान है और आपकी एक आवाज पर यानी अगर आप कहते हैं Hello Mg, तो यह तुरंत एक्टिवेट हो जाता है और अपनी वॉयस कमांड से सनरूफ को खोलने और बंद करने के साथ ही कई काम कर सकते हैं।

सेफ्टी फीचर्स की बात करें तो कंपनी ने इसमें 6 एयरबैग्स, इलेक्ट्रॉनिक स्टैबिलिटी प्रोग्राम (ESP), ट्रैक्शन कंट्रोल सिस्टम (TCS), रियर डिस्क ब्रेक्स, हिल होल्ड कंट्रोल, ABS के साथ EBD और ब्रेक असिस्ट और 360 डिग्री कैमरा व्यू दिया है। इसके अलावा MG Hector इलेक्ट्रिक पार्किंग ब्रेक, टायर प्रैशर मॉनिटरिंग सिस्टम, फ्रंट पार्किंग सेंसर्स और ISOFIX चाइल्ड सीट एंकर्स के साथ आती है। कुल मिलाकर कनेक्टेड फीचर्स हों या फिर सेफ्टी फीचर्स यह कार पूरी तरह फीचर्स लोडेड है, जो आपको काफी इम्प्रेस करेगी।

इंजन और परफॉर्मेंस

डीजल इंजन:- सबसे पहले हमने कोयंबटूर से कुन्नूर तक MG Hector का डीजल वेरिएंट चलाया, जो 2.0 लीटर टर्बोचार्ज्ड डीजल इंजन के साथ आता है और यह 170 PS की पावर और 350Nm का टॉर्क जनरेट करता है। खैर, हमारे चलाने के दौरान हमें इसकी पावर क्षमता थोड़ी कम लगी। हालांकि, Tata Harrier के मुकाबले इसका इंजन हल्का शांत लगा। सीधी सड़कों पर 2000 rpm तक इसकी परफॉर्मेंस काफी स्मूथ रही, लेकिन जब हमने कुन्नूर की पहाड़ी पर इसकी चढ़ाई शुरू की तो 1956 cc वाले इस इंजन की परफॉर्मेंस काफी थमी हुई लगी। मानों, डीजल इंजन में जान ही नहीं है और यहां आप थोड़ा एक्सेलेरेट ज्यादा बढ़ाते हैं तो इजंन का भी शोर बढ़ने लगता है, लेकिन ट्रैफिक और सीधी सड़कों पर डीजल इंजन ने हमें काफी इन्प्रेस किया।

पेट्रोल इंजन:- कुन्नूर से कोयंबटूर तक हमने 100 किलोमीटर MG Hector के 1.5 लीटर पेट्रोल वेरिएंट को चलाया, जो बेल्ट स्टार्टर जनरेटर (48 वोल्ट माइल्ड-हाइब्रिड) के साथ आती है। यह इंजन 143 PS की पावर और 250Nm का टॉर्क जनरेट करता है। इस इंजन के साथ Hector की परफॉर्मेंस ने हमें उम्मीद से ज्यादा खुश किया। चाहें आप पहाड़ी पर चढ़ाई कर रहे हों या फिर सीधी सड़कों और बम्पर टू बम्पर ट्रैफिक में चला रहे हों। 2000 से 2500 rpm पर यह आपको एक बेहतर ड्राइविंग का अनुभव देती है। 1451cc का इंजन होने के चलते भी इसमें किसी तरह की पावर की कमी मससूस नहीं होती, लेकिन अगर आप 2500 rpm से इसे ऊपर ले जाते हैं, तो यहां यह थोड़ी आक्रामक होने लगती है।

दोनों ही इंजन 6-स्पीड मैनुअल गियरबॉक्स से लैस हैं और गियरशिफ्टिंग के दौरान भी किसी तरह की कोई दिक्कत नहीं करती। गियर शिप्ट करना काफी स्मूथ है। कुल मिलाकर अगर आप डीजल वेरिएंट खरीद रहे हैं तो आपको यहां थोड़ी पावर की कमी लगेगी, लेकिन अगर आप पेट्रोल वेरिएंट खरीदने जा रहे हैं तो यह आपको निराश नहीं करेगी। हाईवे और पहाड़ों पर पेट्रोल इंजन का माइलेज हमें 11.7 kmpl और डीजल वेरिएंट का 14.9 kmpl का मिला। इसका वास्तविक माइलेज कैसा है यह हम आपको जब इसका फुल रिव्यू करेंगे तब ही बता पाएंगे।

हैंडलिंग और ब्रेकिंग

HG Hector का पेट्रोल वेरिएंट चलाओ या फिर डीजल, दोनों की हैंडलिंग काफी बेहतरीन है। चलाने के दौरान स्टीयरिंग काफी हल्का लगता है और शार्प टर्निंग के दौरान भी यह काफी स्मूथ टर्न होती है। यानी पहाड़ों पर सिंगल लेन में चलाने के दौरान यह आपका आत्मविश्वास और बढ़ा देती है। 17 इंच के टायर्स रोड पर चिपक कर चलते हैं और ब्रेकिंग की बात करें तो यहां ABS बेहतर तरीके से काम करते हैं। वहीं, कुन्नूर से आते वक्त हमने कोयबंटूर के गांव में इसे चलाया जहां सड़कें काफी ऊबड़-खाबड़ और गड्ढे से भरी हुई थी। तो फ्रंट में दिए गए Macpherson Strut के साथ Stabilizer bar और रियर में दिए गए Semi Independent Helical Spring Torsion Beam सस्पेंशन बेहतर तरीके से काम करते हैं। मेरे साथ बैठे कैमरा मैन और मुझे किसी तरह की यहां कोई दिक्कत नहीं लगी और गाड़ी ने मक्खन की तरह इन सड़कों को पार करके अपना काम किया।

हमारा फैसला

तो अब बात करते हैं MG Hector को खरीदना चाहिए या नहीं। डायमेंशन के हिसाब से अपने सेगमेंट यह काफी बड़ी साबित हो रही है और बाजार में इसका मुकाबला जैसा कि पहले बताया Jeep Compass और Tata Harrier से है। वैसे तो यह नई कंपनी है, लेकिन कई लोगों का मानना है कि यह चीन की कंपनी है, तो बता दें Morris Garage एक ब्रिटिश कंपनी से जिसे चीन की SAIC Motor ने खरीदा है। ठीक उसी तरह जिस तरह ब्रिटिश की Jaguar Land Rover को भारत की Tata Motors ने खरीदा है। तो इस बारे में आप भूल जाएं कि यह चीन की कंपनी है और इसके प्रोडक्ट्स उतने अच्छे नहीं होंगे, जितना कोरियन और अमेरिका के होते हैं। यह देश की पहली इंटरनेट कार है और इसमें काफी काफी सारी ऐसी चीजें आपको मिलेंगी जो फिलहाल कोई और कंपनी आपको शायद ही दे। इसमेंं मैटेरियल भी काफी अच्छी क्वालिटी का इस्तेमाल किया है।

कीमत (एक्स शोरूम): Rs 12.18 - 16.88 लाख

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Ankit Dubey

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप