लंदन, एएनआइ। अमेरिका में अश्वेत व्यक्ति जॉर्ड फ्लायड की मौत के बाद सुलगी आग अब लंदन जा पहुंची है। यहां नस्लवाद और पुलिस की बर्बरता के खिलाफ हो रहे प्रदर्शन के बीच पिछले कई दिनों में कम से कम 23 पुलिस अधिकारी घायल हो गए, दरअसल, ये प्रदर्शन अमेरिका में मई के अंत में मिनियापोलिस शहरमें जॉर्ज फ्लायड की हत्या के विरोध में हो रहा है। 

उन्होंने कहा कि हम लोगों के जुनून को समझते हैं और उनकी आवाज को सुनने देते हैं। उन्होंने बिना किसी घटना के बड़े पैमाने पर विरोध प्रदर्शन किया। हमारे अधिकारी पेशेवर और बहुत संयमित रहे हैं लेकिन पुलिस अधिकारियों के प्रति हिंसा पर एक छोटा समूह था। हालांकि, इस दौरान अपना काम करते हुए तेईस अधिकारियों को चोटें आई हैं। 

एडवर्ड्स के अनुसार, शनिवार  को हुए विरोध प्रदर्शन के दौरान 10 पुलिसकर्मी घायल हो गए। इस दौरान 14 लोगों को हिरासत में लिया गया।

जानकारी के लिए बता दें कि अमेरिका में 25 मई को अश्वेत व्यक्ति फ्लॉयड की मौत ने पुलिस की बर्बरता, नस्लवाद और सामाजिक अन्याय के खिलाफ दुनिया भर में आंदोलन छेड़ दिया है। वायरस हुए एक वीडियो में में एक सफेद पुलिस अधिकारी, डेरेक चाउविन दिखा रहा है, बाद में गिरफ्तार होने के बाद फ्लॉयड की गर्दन पर घुटना टेक दिया गया था। दिन। संयुक्त राज्य अमेरिका के अलावा, ग्रीस, इटली यूनाइटेड किंगडम, डेनमार्क, जर्मनी, फ्रांस, न्यूजीलैंड, ऑस्ट्रेलिया, कनाडा और अन्य देशों में बड़े पैमाने पर विरोध प्रदर्शन हुए हैं।

वहीं बात करें अमेरिका की तो देश में कई स्थानों पर ये विरोध प्रदर्शन हिंसक हो गया है। यहां लोग सड़कों पर उतरकर बर्बराता कर रहे हैं। इस दौरान कई लूटपाट की घटनाएं भी सामने आई है। इन सबके बीच प्रशासन ने प्रदर्शकारियों के खिलाफ कार्रवाई करने के लिए कह दिया है। 

ये भी पढ़ें- LIVE Coronavirus Noida: जिले में कोरोना का मामले आने के बाद भी सील नहीं हो रहे क्षेत्र, जानें हापुड़ और गाजियाबाद का हाल

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस