मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

इस्लामाबाद, एएनआइ। कश्मीरियों के प्रति घंटेभर के लिए एकजुटता प्रदर्शन (सोलिडॉरिटी ऑवर) के फुस्स पटाखा साबित होने के बाद पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान ने अब गुलाम कश्मीर की राजधानी मुजफ्फराबाद में बड़ा जलसा करने की घोषणा की है। दरअसल, भारत के खिलाफ जहर उगलने के लिए इन दिनों ट्विटर इमरान खान का पसंदीदा स्थान बना हुआ है।

इसी क्रम में इमरान ने बुधवार को ट्वीट कर कहा कि शुक्रवार को वह मुजफ्फराबाद में एक बड़ा जलसा करेंगे ताकि जम्मू-कश्मीर में लगातार जारी घेरेबंदी के बारे में दुनिया को संदेश दिया जा सके और कश्मीरियों को दिखाया जा सके कि पाकिस्तान उनके साथ दृढ़ता से खड़ा है। खास बात यह है कि अभी सोमवार को ही पाकिस्तानी सेना के अत्याचारों और मानवाधिकारों के उल्लंघन के मसले पर गुलाम कश्मीर में बड़े पैमाने पर विरोध प्रदर्शन हुए थे।

दरअसल, पाकिस्तान सरकार द्वारा बहुप्रचारित 'कश्मीर सोलिडॉरिटी ऑवर' को पाकिस्तानियों का बहुत ज्यादा समर्थन नहीं मिला है। 30 अगस्त को कश्मीरी लोगों के समर्थन में आयोजित विरोध प्रदर्शन में पाकिस्तानी अधिकारियों ने स्कूली बच्चों को शामिल करने की बहुत कोशिश की थी, लेकिन वे उन्हें जुटाने में सफल नहीं हो सके। यही नहीं, विरोध प्रदर्शनों के मद्देनजर अधिकारियों ने यातायात तक को प्रतिबंधित किया था और कई सड़कों को बंद कर दिया था। जिसकी वजह से पाकिस्तानियों को दुश्वारियों का सामना करना पड़ा और सामान्य जनजीवन प्रभावित हुआ।

मालूम हो कि जब से भारत ने जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाने की घोषणा की है, पाकिस्तान और उसके प्रधानमंत्री भारत के खिलाफ अभद्र भाषा का इस्तेमाल कर रहे हैं। पाकिस्तान ने कश्मीर मसले का अंतरराष्ट्रीयकरण करने की असफल कोशिश भी की। लेकिन भारत लगातार कहता रहा है कि कश्मीर भारत का अंदरूनी मसला है।

भारत अगला लक्ष्य पाक अधिकृत कश्मीर में तिरंगा लहरानाः जितेंद्र सिंह 
वहीं मंगलवार को प्रधानमंत्री कार्यालय के राज्यमंत्री डॉ. जितेंद्र सिंह ने कहा कि अनुच्छेद 370 हटाना मोदी सरकार के पहले 100 दिन की सबसे बड़ी उपलब्धि है। इससे देश के साथ जम्मू-कश्मीर और लद्दाख का संपूर्ण एकीकरण हो गया है। ऐसे में हमारा अगला लक्ष्य पाक अधिकृत कश्मीर में तिरंगा लहराना है। मंगलवार को प्रेस कांफ्रेंस में मोदी सरकार की उपलब्धियों को बताते हुए जितेंद्र ने पाकिस्तान को भी आईना दिखाया। उन्होंने कहा कि अनुच्छेद 370 हटने का राग अलापने वाला पाकिस्तान अब खुद पूरी दुनिया में एक्सपोज हो गया है। पाकिस्तान में अल्पसंख्यकों के साथ बुरा व्यवहार हो रहा है। भारत में अल्पसंख्यक सुरक्षित हैं। 

पाकिस्तान से सिर्फ गुलाम कश्मीर पर होगी बात: उपराष्ट्रपति
वहीं भारत के उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू ने प्रत्येक भारतीय की सुरक्षा और देश की अखंडता को सर्वोपरि बताते हुए मंगलवार को कहा था कि पाकिस्तान के साथ द्विपक्षीय वार्ता अब गुलाम कश्मीर के मुद्दे पर ही होगी। साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि अनुच्छेद- 370 के खत्म होने के बाद जम्मू-कश्मीर में विकास की गति जहां तेज होगी, वहीं कई केंद्रीय योजनाएं और कानून लागू हो सकेंगे, जिन्हें पहले लागू नहीं किया जा सकता था। लागू होने वाले नए कानूनों में स्थानीय निकायों को सुदृढ़ करना भी शामिल है।

नायडू ने हाल ही में जम्मू-कश्मीर में निर्वाचित हुए पंच-सरपंचों के एक प्रतिनिधिमंडल से मुलाकात के दौरान कहा कि अनुच्छेद-370 संविधान में एक अस्थायी प्रावधान था और इसके खत्म होने से राज्य में विकास की गति को बढ़ावा मिलेगा। जनप्रतिनिधियों से बातचीत के बाद उपराष्ट्रपति के सचिवालय द्वारा जारी बयान में कहा गया कि देश के प्रत्येक व्यक्ति की सुरक्षा और देश की अखंडता सर्वोपरि है, इसलिए पाकिस्तान के साथ वार्ता अब केवल गुलाम कश्मीर के मुद्दे पर होगी।
  

यह भी पढ़ेंः Activist सेरिंग बोले- 'गिलगित-बाल्टिस्तान' है भारत का हिस्सा, लेकिन पाक बना रोड़ा, जानिए- 370 पर राय

Posted By: Sanjeev Tiwari

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप