Move to Jagran APP

पाकिस्तान ने फिर अलापा कश्मीर पर मध्यस्थता का राग, अमेरिका को तीसरे पक्ष के तौर पर हस्तक्षेप करने को कहा

Kashmir Issue पाकिस्तान के विदेश विभाग ने कहा कि हम कश्मीर विवाद सहित मुख्य मुद्दों के समाधान के लिए अंतरराष्ट्रीय समुदाय का स्वागत करेंगे। भारतीय विदेश मंत्रायलय पहले ही तीसरे पक्ष की मध्यस्थता को खारिज कर चुका है।

By AgencyEdited By: Mahen KhannaPublished: Sat, 14 Jan 2023 04:04 AM (IST)Updated: Sat, 14 Jan 2023 06:13 AM (IST)
पाकिस्तान अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहा।

इस्लामाबाद, प्रेट्र। जम्मू-कश्मीर को लेकर पाकिस्तान अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहा है। एक बार फिर उसने मध्यस्थता का राग अलापा है। पाकिस्तान के विदेश विभाग ने शुक्रवार को कहा कि उसने क्षेत्र में शांति को बढ़ावा देने में भूमिका निभाने वाले अंतरराष्ट्रीय समुदाय का हमेशा स्वागत किया है, जिसमें कश्मीर सहित प्रमुख मुद्दों के समाधान के लिए भारत के साथ बातचीत को सुगम बनाना शामिल है।

loksabha election banner

अमेरिका सहित तीसरे पक्षों के हस्तक्षेप की मांग

विदेश कार्यालय की प्रवक्ता मुमताज जहरा बलूच ने यहां साप्ताहिक प्रेसवार्ता के दौरान कहा, 'पाकिस्तान-भारत के संबंधों और अमेरिका सहित तीसरे पक्षों के हस्तक्षेप के संबंध में पाकिस्तान ने हमेशा ही कहा है कि हम कश्मीर विवाद सहित मुख्य मुद्दों के समाधान के लिए अंतरराष्ट्रीय समुदाय का स्वागत करेंगे।'

भारत पहले ही जता चुका ऐतराज

बता दें कि भारत कश्मीर मुद्दे पर किसी भी तीसरे पक्ष की मध्यस्थता को पहले ही खारिज कर चुका है। भारत ने कहा है कि केंद्र शासित प्रदेश जम्मू-कश्मीर और लद्दाख भारत के अभिन्न अंग हैं और हमेशा रहेंगे। भारतीय विदेश मंत्रालय ने कहा है कि किसी अन्य देश के पास इस पर टिप्पणी करने का कोई अधिकार नहीं है।

धारा 370 हटने के बाद दोनों देशों के संबंध बिगड़े

कश्मीर पर पाक का राग कोई नया नहीं है, हालांकि घाटी से धारा 370 की विदाई के बाद से पड़ोसी मुल्क की रात की नींद उड़ी हुई है। मोदी सरकार द्वारा कश्मीर से धारा 370 को आसानी से हटाना पाक को पच नहीं रहा है और उसके और भारत के रिश्तों इसके बाद से और ज्यादा बिगड़े हैं। दोनों देशों में इसके बाद से कारोबारी संबंध भी लगभग ठप पड़े हैं। हालांकि, इससे सबसे ज्यादा नुकसान भी कंगाल हो चुके पाक को ही हुआ है।

यह भी पढ़ें- भुरभुरी मिट्टी, खराब ड्रेनेज सिस्टम और अनियंत्रित निर्माण से हुआ भू-धंसाव, पहाड़ के अन्य शहर भी इसकी चपेट में

यह भी पढ़ें- Fact Check : राहुल गांधी ने पगड़ी पहनने से नहीं किया था इनकार, वायरल दावा राजनीतिक दुष्प्रचार


Jagran.com अब whatsapp चैनल पर भी उपलब्ध है। आज ही फॉलो करें और पाएं महत्वपूर्ण खबरेंWhatsApp चैनल से जुड़ें
This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.