ब्रसेल्स, आइएएनएस। अमेरिका और तालिबान (US-Taliban) ने सात दिन के लिए अफगानिस्तान (Afghanistan) में हिंसा में कमी लाने के प्रस्ताव पर बातचीत की है। यह जानकारी ब्रसेल्स में अमेरिकी रक्षा मंत्री मार्क एस्पर ने दी। वह यहां गुरुवार को आयोजित नाटो राष्ट्राध्यक्षों के रक्षा मंत्रियों की एक बैठक में भाग लेने आए थे।

एस्पर ने कहा, हम सभी का मानना है कि अफगानिस्तान के संदर्भ में होने वाला राजनीतिक समझौता सभी के हित में होगा। दोनों ही पक्षों के बीच बातचीत में प्रगति हुई है और हम जल्द ही इस बारे में सभी को बताएंगे। उन्होंने तालिबान के साथ शांति समझौते के प्रस्ताव पर अमेरिकी सहयोगियों के साथ बातचीत की भी जानकारी दी। अभी हालांकि यह तय नहीं हुआ है कि हिंसा में कमी लाने का प्रस्ताव कब से अमल में लाया जाएगा। लेकिन तालिबान से जुड़े एक व्यक्ति ने मीडिया को बताया कि इसकी शुरुआत शुक्रवार से हुई।

5,000 अमेरिकी सैनिकों की होगी वापसी

खास बात यह है कि हिंसा में कमी लाने का प्रस्ताव अमेरिकी वार्ताकारों की मुख्य मांगों में से एक था। पिछले सितंबर को तालिबान और अमेरिका के बीच एक मसौदा समझौते को अंतिम रूप दिया गया था। इस पर हस्ताक्षर के बाद पहले 135 दिनों में 5,000 से अधिक अमेरिकी सैनिकों की वापसी की बात कही गई थी।

पोंपियो ने की शांति वार्ता की सराहना

अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोंपियो ने भी कहा है कि हाल के दिनों में तालिबान के साथ हुई शांति वार्ता में बेहद महत्वपूर्ण सफलता मिली है। पोंपियो ने कहा कि वार्ता में कुछ जटिल मुद्दों पर बातचीत चल रही है इसलिए फिलहाल दोनों पक्ष किसी शांति समझौते पर नहीं पहुंच सके हैं।

यह भी पढ़ें- US-Taliban Peace Talks: ट्रंप ने तालिबान के साथ शांति समझौते को दी मंजूरी, लेकिन रखी ये शर्त...

Posted By: Manish Pandey

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस