मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

 बहरीन (रॉयटर्स)। बहरीन की एक अदालत ने आतंकवाद को लेकर दो शिया मुस्लिमों को मौत की सजा सुनाई है जबकि अन्य 56 लोगों को जेल की सजा सनाई गई है। सुन्नी बाहुल इस खाड़ी देश में यह सजा आतंकवाद के आरोपों के चलते सुनाई गई है।

बहरीन की सर्वोच्च अदालत ने बचाव पक्ष के 47 नागरिकों से उनकी बहरीनी नागरिकता भी छीन ली। आरोप में कहा गया कि उन्होंने पुलिस अधिकारियों के खिलाफ "हत्या" और "हमले" करने के लिए "एक आतंकवादी समूह बनाने" का कार्य किया। सरकारी अभियोजन के अनुसार, कुछ बचाव पक्ष के लोगों पर हथियार और बम रखने के प्रशिक्षण जैसे गंभीर आरोप भी लगे थे। 

आरोपी बनाए गए 60 बहरीन नागरिकों में से 19 को उम्रकैद, 17 को 15 वर्ष की सजा, 9 को 10 साल की सजा तथा अन्य 11 को पांच साल की सजा सुनाई गई है जबकि 2 को रिहा कर दिया गया है। बहरीन के मानवाधिकार कार्यकर्ताओं ने इस निर्णय को 'न्याय का मखौल' उड़ाने वाल करार दिया है। 

यह भी पढ़ें: जानें, विदेश जाते ही क्यों बदल जाते हैं कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के सुर

Posted By: Kishor Joshi

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप