बीजिंग, एपी। वुहान शहर एक बार फिर सुर्खियों में आ गया है। यहां 2019 में कोरोना वायरस की शुरूआत हुई थी। अब एक बार फिर मरीजों की संख्या तेजी से बढ़ने के बाद स्थिति खराब हो रही है। यहां सभी का कोरोना टेस्ट किए जाने के दौरान पूरे शहर को सील कर दिया गया है।

शहर के हर तरफ पाबंदी कड़ी कर दी गई है। वुहान शहर से न तो किसी को निकलने दिया जा रहा है और न ही किसी का यहां प्रवेश हो रहा है। पूरे देश में संक्रमण को लेकर हाई एलर्ट कर दिया गया है। कोरोना संक्रमण बढ़ने का संबंध पूर्वी शहर नानजिंग के इंटरनेशनल एयरपोर्ट को माना जा रहा है। इस शहर का 17 प्रांतों से संपर्क बना रहता है।

रायटर के अनुसार, चीन में कोरोना संक्रमण का यह कहर डेल्टा वैरिएंट के कारण शुरू हुआ है। संक्रमण बढ़ने के साथ ही स्थानीय फ्लाइट की संख्या बहुत ज्यादा कम कर दी गई हैं। यात्राओं पर प्रतिबंध लगा दिए गए हैं।

लंदन में एक दिन में 138 लोगों की मौत

इधर ब्रिटेन में केस बढ़ने के साथ ही अब मरने वालों की संख्या भी चिंता बढ़ाने वाली है। लंदन में मार्च के बाद एक दिन में सबसे ज्यादा 138 लोगों की मौत हुई। 21691 नए मरीज मिले हैं। ब्रिटेन वर्तमान में पाबंदी हटाए जाने के बाद डेल्टा वैरिएंट से जूझ रहा है।

ब्रिटेन में अब 16 और 17 साल की उम्र के बच्चों को भी कोरोना की वैक्सीन दी जा सकती है। अभी इस उम्र के बच्चों पर परिणामों को देखा जा रहा है।

अमेरिका में भी बढ़ा डेल्टा वैरिएंट का खतरा

अमेरिका में भी डेल्टा वैरिएंट ने दिक्कतें बढ़ा रखी हैं। तेजी से बढ़ रहे संक्रमण का मुकाबला करने के लिए वैक्सीन लगाने का काम और तेज कर दिया गया है। अमेरिका अब मैक्सिको की सीमा से आए प्रवासियों को भी वैक्सीन देने पर विचार कर रहा है।

न्यूयार्क में कोरोना मरीज बढ़ने के बाद वैक्सीन का सबूत दिखाने के बाद ही रेस्टोरेंट, जिम व अन्य सार्वजनिक स्थलों पर प्रवेश दिया जा रहा है।

यह भी पढ़ें : J&K : पिछले तीन सालों में 400 मुठभेड़, 85 जवान शहीद और 630 आतंकी ढेर- केंद्र

यह भी पढ़ें : अफगान विदेश मंत्री ने कहा, तालिबान के साथ मिलकर तबाही मचा रहे लश्कर आतंकी; लगाई मदद की गुहार

Edited By: Neel Rajput